Pakistan नैतिकता ​का बहाना बना डेटिंग एप पर लगा रहा प्रतिबंध, कट्टरपंथ को मिल रहा बढ़ावा

Highlights

  • इस प्रतिबंध को सोशल मीडिया (Social Media) पर पाक सरकार के खिलाफ उठ रहीं आवाजों को दबाने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है।
  • आरोप है कि पाकिस्तान (Pakistan) की सरकार अपनी नाकामी को छिपाने के लिए इस तरह कार्रवाई को अंजाम दे रही है।

By: Mohit Saxena

Updated: 05 Sep 2020, 08:49 PM IST

लाहौर। पाकिस्तान (Pakistan) में पिछले दिनों टिंडर, ग्रिंडर और तीन अन्य डेटिंग एप्स (Dating Apps) पर प्रतिबंध लगा दिया गया। इस्लमाबाद ने अपने निर्णय के पीछे की वजह इन एप्स द्वारा स्थानीय कानून का पालन न करना बताया है। मगर इस पर कार्रवाई को कट्टरपंथ से जोड़कर देखा जा रहा है। इसके साथ सोशल मीडिया पर पाक सरकार के खिलाफ उठ रहीं आवाजों को दबाने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है।

नैतिक और अनैतिकता के फेर में पाक सरकार

यहां की स्थानीय मीडिया का आरोप है कि पाकिस्तान की सरकार अपनी नाकामी को छिपाने के लिए इस तरह कार्रवाई को अंजाम दे रही है। पाकिस्तान में इस समय आर्थिक अर्थव्यवस्था डावांडोल स्थिति में है। यहां पर महंगाई चरम पर है। ऐसे में पाक सरकार अर्थव्यवस्था को सुधारने की बजाय नैतिक और अनैतिकता के फेर में पड़ गई है।

सबसे अधिक मुस्लिम आबादी वाला देश पाकिस्तान

गौरतलब है कि इंडोनेशिया के बाद सबसे अधिक मुस्लिम आबादी वाला देश पाकिस्तान है। इस इस्लामिक देश में विवाहेत्तर संबंध और समलैंगिकता को अवैध श्रेणी में रखा जाता है। इसे अपराध श्रेणी में रखते हुुए कड़ी सजा का प्रावधान है। पाकिस्तान दूरसंचार प्राधिकरण (पीटीए) ने पांच एप्स के प्रबंधन को नोटिस भेजा है। इस नोटिस में टिंडर, ग्रिंडर, टैग्ड, स्काउट और सेहाय हो हटाने की मांग की गई है।

4 लाख 40 हजार से अधिक बार डाउनलोड किया गया

एक डाटा के अनुसार टिंडर को पाक में बीते 12 माह के भीतर 4 लाख 40 हजार से अधिक बार डाउनलोड किया गया है। इसके साथ ग्रिंडर, टैग्ड और सेहाय को इस दौरान 3 लाख और स्काउट को एक लाख बार डाउनलोड किया गया है। आलोचकों के अनुसार पाकिस्तान ने हाल के डिजिटल कानून का उपयोग कर इंटरनेट पर अभिव्यक्ति पर लगाम लगाने की मुहिम छेड़ रखी है। इस तरह जनता की आवाज को अनैतिकता के नाम पर दबाने की कोशिश हो रही है।

इससे पाकिस्तान में कंट्टरपंथ को बढ़ावा मिल रहा है। विशेषज्ञों का कहना है सामाज में इस तरह की कड़वाहट घोलकर पाक सरकार आम जनता को बरगलाने का प्रयास कर रही है। सरकार कार्रवाई को अंजाम देकर अपनी कारगुजारियों पर पर्दा डालना चाहती है ताकि जनता का ध्यान मूल समस्याओं से हट सके।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned