श्रीलंका: तीन जनवरी से संसद सत्र शुरू, राष्ट्रपति गौतबाया राजपक्षे करेंगे संबोधित

  • राष्ट्रपति गौतबाया राजपक्षे को 21 तोपों की सलामी भी दी जाएगी
  • स्पीकर कारू जयसूर्या और संसद के महासचिव धम्मिका दसनायका उनका स्वागत करेंगे

By: Mohit Saxena

Updated: 31 Dec 2019, 08:51 PM IST

कोलंबो। श्रीलंका में नई सरकार बनने के बाद नए साल की शुरूआत में ही संसद सत्र शुरू होगा। नया सत्र शुरू होने से पहले श्रीलंकाई राष्ट्रपति गौतबाया राजपक्षे तीन जनवरी को एक औपचारिक समारोह के दौरान संसद को संबोधित करेंगे।

डेली फाइनेंशियल टाइम्स ने मंगलवार को अपनी खबर में यह जानकारी दी है कि राजपक्षे जब विधानमंडल के औपचारिक समारोह में आएंगे तो स्पीकर कारू जयसूर्या और संसद के महासचिव धम्मिका दसनायका उनका स्वागत करेंगे। इसके बाद राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाएगा और 21 तोपों की सलामी भी दी जाएगी।

श्रीलंका: स्वतंत्रता दिवस पर सिंघली में गाया जाएगा राष्ट्रगान, DMK ने पीएम मोदी से हस्तक्षेप की लगाई गुहार

राष्ट्रपति सुबह 10 बजे शुरू होने वाले उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता करेंगे, जहां वह नई सरकार की नीतियों के बारे में बताएंगे और उसके बाद सदन के सत्र को निलंबित कर देंगे।

श्रीलंकाई संसद का पहला सत्र 1947 में बुलाया गया था

श्रीलंका की संसद का पहला सत्र 14 अक्टूबर, 1947 को आयोजित किया गया था। तब इसकी अध्यक्षता गवर्नर हेनरी मोनक-मेसन मूर ने की थी।

डेली फाइनेंशियल टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि तब उन्होंने अपना भाषण दिया, जिस पर संसद ने बहस की और धन्यवाद प्रस्ताव पारित किया। वहीं दूसरी संसद के तीसरे सत्र का उद्घाटन रानी एलिजाबेथ द्वितीय ने 12 अप्रैल, 1954 को किया था।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned