scriptBees will make the farmer a millionaire | Bee Farming: मधुमक्खियां बनाएंगे किसान को लखपति, मौन पालन के लिए करना होगा ये काम | Patrika News

Bee Farming: मधुमक्खियां बनाएंगे किसान को लखपति, मौन पालन के लिए करना होगा ये काम

Bee Farming: किसानों को मौन पालन के लिए उद्यान विभाग प्रोत्साहित कर रहा है। ये समय मौन पालन के लिए सबसे उपयुक्त समय माना जाता है। इस मौसम में मधुमक्खियों से काफी संख्या में शहद और मोम प्राप्त किया जा सकता है। उद्यान विभाग के मुताबिक जरा सी जानकारी होने पर मौनपालन का व्यवसाए किसान को लखपति बना सकता है।

बागपत

Published: November 08, 2021 01:53:01 pm

Bee Farming: अक्टूबर के अंतिम सप्ताह और नवंबर के प्रथम सप्ताह से ही धान, बाजरा, वन तुलसी एवं जंगली झाड़ियों में फूल आने लगता है। इन फसलों एवं झाड़ियों के फूलों से मधुमक्खियों को पराग एवं पुष्प रस की प्राप्ति होती है। अतः यह आवश्यक है कि उपयुक्त प्रक्षेत्र का चयन कर मौनवंशों को इन क्षेत्रों में स्थानांतरित कर दिया जाय। इस अक्टूबर, नवंबर, दिसंबर के महीनों में अगेती लाही के फूल मिलने तक मौनवंशों को पुष्प रस कम मिलता है, इसलिए उनको आवश्यकतानुसार कृत्रिम भोजन भी देते रहना चाहिए।
bee.jpg
जब लाही/सरसों के प्रक्षेत्रों में 10-20 प्रतिशत फूल आने लगें तो मौनवंशों को तुरंत उन क्षेत्रों में व्यवस्थित कर देना चाहिए। यह बाते जिला उद्यान अधिकारी बागपत दिनेश कुमार अरुण ने बताई। उन्होंने बताया कि किसानों को मधुमक्खियां लखपति बना सकती हैं। लेकिन किसानों को मौन पालन की जानकारी भी होनी चाहिए। उन्होंने बताया कि बिना जानकारी के मौनपालक करना कोई समझदारी नहीं है।
यह भी पढ़ें

जेवर एयरपोर्ट से जुड़ेगा दिल्ली एयरपोर्ट मेट्रो के कॉरिडोर, नई दिल्ली रेलवे स्टेशन तक बनेगा रूट

रखें इन बातों का ध्यान, तो मिलेगा भरपूर लाभ

मधुमक्खी पालन कार्यक्रम को सफलतापूर्वक कार्यान्वित कराए जाने हेतु जिला उद्यान अधिकारी ने निम्न सुझाव देते हैं

1- स्थानाभाव होने पर यथा आवश्यक मौमी छत्ताधार मौनवंशों को सुलभ करा दें, तथा काली / पीली सरसों में 10 प्रतिशत फूल खिल जाने पर मौनवंशों को उन क्षेत्रों में अवश्य कर दें।
2- मौन गृहों पर सफेद पेन्टिंग करा कर इन पर हरे रंग से मौनालयवार मौनवंश संख्या अंकित कर दें ताकि बाक्स अनुसार शहद उत्पादन आकलित हो सके।

3- मौनगृह के तलपट एवं संबन्धित उपकरणों को पोटेशियम परमैंगनेट / लाल दवा से माह में एक बार धुलाई करें।
4- अधिक सर्दी से मौनवंशों की सुरक्षा के लिए प्रवेश द्वार छोटा कर दें तथा टाप कवर के नीचे जूट का बोरा रख कर मौनवंशों के गृह का तापक्रम नियंत्रित रखें। मौन गृहों की दरारों को बंद कर ठंडी हवाओं से बचाना चाहिए।
5- माइट के प्रकोप से बचने के लिए मौनगृह के तलपट की साफ सफाई समय-समय पर करते रहे तथा खाली मौनगृहों को धूप में सुखा कर मौन गृहों को बदलते रहे एवं बाटमबोर्ड पर सल्फर की डस्टिंग भी समय-समय पर करते रहना चाहिए।
6- पिछले वर्ष के अधिक शहद उत्पादन करने वाले सशक्त मौनवंशों को मातृ मौनवंशों की श्रेणी में रखते हुए इनसे मौनवंशों का संवर्धन सुनिश्चित करें। विभाजित मौनवंशों में गुणवत्तायुक्त नई रानी देने हेतु पूर्व से तैयार की गई रानी को क्वीन केज के माध्यम से विभाजित मौनवंश में प्रवेश कराया जाय ताकि कम समय में सशक्त मौनवंश का संवर्धन सम्भव हो सके।
7- प्रदर्शन ( मधु उत्पादक) मौनालय के ऐसे मौनवंश जिन्हें मातृ मौनवंश की श्रेणी में रखा गया है, उसकी प्रतिपूर्ति मातृ मौनालय के मौनवंश से कर लिया जाय।

मौमी पतिंगे की गिडारों की रोकथाम के उपाय
- मौनवंशों को सुदृढ़ / सशक्त बनाए रखें। मौनगृहों की दरारों को बंद रखें। खाली छत्तों को मौनगृहों से निकाल कर पालीथीन में पैक करके रखें।

-प्रभावित छत्तों को धूप में रख कर गिडारों को हाथ से मारा जा सकता है।
मौनवंशों को परजीवी, अष्टपदी माइट का प्रकोप

- बैरोवा एवं ट्रापलीलेप्स क्लेरी माइट : यह दोनो प्रकार के माइट मौनवंशों के लावा, प्यूपा एवं वयस्क मौनों के शरीर से रक्त ( हीमोलिम्फ) को चूसते हैं, जिससे लारवा, प्यूपा एवं वयस्क मौनें मर जाती हैं। बैरोवा माइट से प्रभावित मौनें विकलांग एवं अविकसित रह जाती हैं, जो अवतारक पट (वाटम बोर्ड) के नीचे गिरी हुई मिलती हैं।
ट्रापलीलेप्स क्लेरी माइट से प्रभावित मौनों के पंख पैर अविकसित एवं शरीर कमजोर हो जाता है तथा मौनें मौनगृह से गिर कर दूर रेंग कर जाती हुई दिखाई देती हैं।

बचाव हेतु सावधानियां एवं उपचार
1- प्रभावित मौनवंशों में सल्फर पाउडर 2 ग्राम प्रति फ्रेम की दर से साप्ताहिक अंतराल पर चार बार बुरकाव करना चाहिए।

2- फारमिक एसिड 85 प्रतिशत सांद्रता की 3-5 मिली मात्रा को एक दिन के अंतराल पर एक शीशी में लेकर रूई की बत्ती बना कर मौनगृह के तलपट में शाम के समय रखें। यह उपचार पांच बार किया जाय तथा प्रत्येक दिन दवा को बदलते रहे।
3- नीम का सूखा छिल्का नीम की सूखी पत्ती को किसी टीन के बर्तन में रखकर मौनगृह के तल पट पर धुआं करें।

4- थाइमोल एक ग्राम प्रति फ्रेम की दर से बारीक पीस कर कपड़े से छानकर मौनवंशों को उपलब्ध कराना चाहिए। इसके अलावा एकरीन रोग जिसमें मधुमक्खियां रेंगने लगती हैं तथा उनको पेचिश जैसी समस्या होती है, उसके बचाव के लिए फार्मिक एसिड का फ्यूमिगेशन अथवा आक्सेलिक एसिड के तीन फीसद सांद्रता का पांच मिली लीटर प्रति ब्रूड चेंबर की दर से आठ दिन के अंतराल पर तीन छिड़काव करें।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

India-Central Asia Summit: सुरक्षा और स्थिरता के लिए सहयोग जरूरी, भारत-मध्य एशिया समिट में बोले पीएम मोदीAir India : 69 साल बाद फिर TATA के हाथ में एयर इंडिया की कमानयूपी चुनाव से रीवा का बम टाइमर कनेक्शननागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रUP Election 2022: भाजपा सरकार ने नौजवानों को सिर्फ लाठीचार्ज और बेरोजगारी का अभिशाप दिया है: अखिलेश यादवतमिलनाडु सरकार का बड़ा फैसला, खत्म होगा नाईट कर्फ्यू और 1 फरवरी से खुलेंगे सभी स्कूल और कॉलेजपीएम नरेंद्र मोदी कल करेंगे नेशनल कैडेट कॉर्प्स की रैली को संभोधित, दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में होगा कार्यक्रम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.