महिला आयोग की उपाध्यक्ष का विवादित बयान, 'बलात्कार करने वालों के काट देने चाहिए अंग'

Highlights:

-उनका कहना था बेटा और बेटी में कोई फर्क नहीं होना चाहिए

-सभी को न्याय मिलता रहे इसके लिए आप लोगों को हमेशा प्रयासरत रहना है

-कहीं कोई दिक्कत आती है तो लोकल प्रशासन का सहयोग लिया जाए

बागपत। उत्तर प्रदेश महिला आयोग की उपाध्यक्ष का विवादित बयान सामने आया है। जिसमें उन्होंने कहा कि महिलाओं के साथ बलात्कार करने वालों को फांसी के साथ-साथ आरोपियों के अंग काट देने चाहिए। दरअसल, बुधवार को उत्तर प्रदेश महिला आयोग की उपाध्यक्ष सुषमा सिंह व सदस्य राखी त्यागी बागपत पहुंचीं। जहां उन्होंने विकास भवन सभागार में महिला उत्पीड़न संबंधित मामलों को लेकर विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक की।

यह भी पढ़ें : हैदराबाद की बेटी को न्याय दिलाने के लिए हाथ में तख्ती लेकर नहर के ठंडे पानी में उतर गए ये मुस्लिम नेता, देखें वीडियो

बैठक के दौरान उन्होंने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, रानी लक्ष्मीबाई सम्मान कोष कन्या सुमंगला योजना, मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना, 181 महिला हेल्पलाइन आदि महिलाओं से जुड़ी योजनाओं के बारे में जानकारी ली। इस दौरान उन्होंने संबंधित विभाग के अधिकारियों को शासन द्वारा संचालित सभी योजनाओं को गंभीरता के साथ पूर्ण करने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें: दो बच्चों और एक खरगोश की हत्या के बाद मौत को गले लगाने वालों की पूरी नहीं हुई ये अंतिम अच्छा

उनका कहना था बेटा और बेटी में कोई फर्क नहीं होना चाहिए। सभी को न्याय मिलता रहे इसके लिए आप लोगों को हमेशा प्रयासरत रहना है। कहीं कोई दिक्कत आती है तो लोकल प्रशासन का सहयोग लिया जाए। इसके साथ ही उन्होंने प्रेस वार्ता की।

इस दौरान हैदराबाद और संभल की घटनाओं को लेकर जब उनसे सवाल किया गया तो उन्होंने लचीले कानून का हवाला देकर ऐसे आरोपियों को फांसी की सजा की सिफारिश कर डाली। इसके साथ ही उनका कहना था कि ऐसे लोगों के अंदर डर पैदा करने के लिए इनके अंग काटना जरूरी है। जब तक इनके अंग नहीं काटे जाएंगे, इनके अंदर डर पैदा नहीं होगा । जब तक डर नहीं होगा तब तक इस प्रकार की घटनाओं को रोकना असंभव है।

Rahul Chauhan
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned