scriptLight clouds are forming in the sky, pulses crop is getting damaged | मौसम में हो रहा बदलाव-आसमान में छा रही हल्की बदली, दलहनी फसल को हो रहा नुकसान | Patrika News

मौसम में हो रहा बदलाव-आसमान में छा रही हल्की बदली, दलहनी फसल को हो रहा नुकसान

locationबालाघाटPublished: Nov 24, 2023 10:11:21 pm

Submitted by:

Bhaneshwar sakure

जिले में 27 से 29 तक बारिश की चेतावनी

24_balaghat_101.jpg

बालाघाट. जिले में मौसम में धीरे-धीरे बदलाव हो रहा है। आसमान में अभी से हल्की बदली छाने लगी है। मौसम में परिवर्तन से दलहनी फसलों को नुकसान हो रहा है। खासतौर पर अरहर की फसल इससे ज्यादा प्रभावित हो रही है। इधर, मौसम विभाग ने भी जिले में 27 से 29 नवंबर तक हल्की बारिश की चेतावनी दी है। बारिश होने पर किसानों की मुसीबतें और बढ़ सकती है।
किसानों के अनुसार मौजूदा समय में अरहर की फसल फूल पर है। कुछेक स्थानों पर फल्ली भी लग गई है। ऐसे में आसमान पर बदली छाती है तो अरहर को काफी नुकसान होगा। पेड़ से फूल मुरझाकर गिर जाएंगे। फल्लियों की ग्रोथ रुक जाएगी। जो फल्ली पौधों पर लगी हुई है, उसमें इल्लियां लगना प्रारंभ हो जाएगी। जिससे अरहर की फसल का उत्पादन कम होने की संभावना है। इस वर्ष वैसे अरहर की फसल अच्छी है। लेकिन मौसम परिवर्तन का इस पर अभी से असर पडऩे लगा है। आसमान में बदली छाने के बाद यदि बारिश हो जाती है तो दलहनी फसल को बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ेगा।
धान की मिसाई के लिए नहीं मिल रहे श्रमिक
धान की मिसाई के लिए किसानों को श्रमिक नहीं मिल रहे है। किसानों ने धान की फसल की कटाई कर ली है। मिसाई के लिए उसे एकत्रित कर लिया है। लेकिन श्रमिकों की समस्या के चलते समय पर मिसाई का कार्य नहीं हो पा रहा है। इधर, मौसम में बदलाव भी हो रहा है। बारिश की संभावना ने किसानों की टेंशन बढ़ा दी है। वहीं साधन संपन्न किसानों ने मशीनों के माध्यम से मिसाई कर ली है। लेकिन सबसे ज्यादा परेशान छोटे और मझोले किसान हो रहे हैं।
दो दिनों तक हो सकती है हल्की बारिश
मौसम विभाग ने जिले में दो दिनों तक हल्की बारिश की संभावना जताई है। भारत मौसम विज्ञान विभाग नई दिल्ली के क्षेत्रीय कार्यालय भोपाल से जिला कृषि मौसम इकाई कृषि विज्ञान केंद्र बालाघाट को प्राप्त 5 दिवसीय मध्यम श्रेणी मौसम पूर्वानुमान के अनुसार जिले 27 से 29 के मध्य हल्की बारिश हो सकती है। साथ ही हल्के से मध्यम बादल रहने की सम्भावना है। इस दौरान अधिकतम तापमान 28.5 से 29.6 डिग्री सेल्सियस, न्यूयनतम तापमान 13.5 से 14.5 डिग्री से सेल्सियस, सुबह हवा में 87 से 94 प्रतिशत व दोपहर में 60 से 65 प्रतिशत नमी रहने की संभावना है। आने वाले दिनों में हवा कि गति लगभग 5 से 8 किलो मीटर प्रति घंटे से पूर्व उत्तर पूर्व दिशा में रहन की संभावना है।
इनका कहना है
मौसम में एक बार फिर से बदलाव होने लगा है। मौसम में बदलाव से दलहनी फसल को नुकसान हो रहा है। अरहर की फसल फूल व फल पर है। बदली के कारण फल व फूल दोनों पर असर पड़ रहा है।
-हस्तराम राहंगडाले, किसान
किसानों को धान मिसाई के लिए श्रमिक नहीं मिल पा रहे हैं। जैसे-तैसे धान की कटाई तो कर ली गई है, लेकिन मिसाई का कार्य श्रमिकों की कमी के चलते धीमा हो गया है। मौसम परिवर्तन का भी मिसाई कार्य पर असर हो रहा है।
-उदेलाल राहंगडाले, किसान
प्रतिवर्ष प्राकृतिक आपदा से किसानों को काफी नुकसान होता है। चाहे वह खरीफ की फसल हो या फिर रबी की, दोनों ही फसलों में नुकसान किसानों को ही होता है। मौसम परिवर्तन के चलते किसान विवश है।
-सदन सिंह उइके, किसान
आसमान में बदली छाने से दलहनी सहित अन्य फसलों को नुकसान हो सकता है। बारिश और आंधी-तूफान से होने वाले नुकसान से बचने के लिए सभी कटी हुई फसल को सुरक्षित स्थान पर रखा जा सकता है।
-डॉ धर्मेन्द्र आगाशे, कृषि विशेषज्ञ, कृषि विज्ञान केन्द्र बडग़ांव

ट्रेंडिंग वीडियो