scriptPurchase centers were heard, farmers could not reach the centers | खरीदी केन्द्र रहे सूने, केन्द्रों तक नहीं पहुंच पाए किसान | Patrika News

खरीदी केन्द्र रहे सूने, केन्द्रों तक नहीं पहुंच पाए किसान

पहले दिन 6 किसानों से खरीदी गई 45 क्विंटल धान, धान खरीदी के लिए 6829 किसानों को भेजा गया एसएमएस, हट़्टा के समिति प्रबंधक, नोडल अधिकारी को लापरवाही पर नोटिस जारी

बालाघाट

Published: November 30, 2021 09:59:26 pm

बालाघाट. भले ही समर्थन मूल्य पर धान खरीदी २९ नवम्बर से प्रारंभ हुई है, लेकिन जिले में धान खरीदी का कार्य ३० नवम्बर से किया गया है। मंगलवार को जिले के अधिकांश केन्द्र सूने रहे। एसएमएस नहीं मिलने के कारण मंगलवार को किसान केेन्द्र तक नहीं पहुंच पाए। इतना ही नहीं अनेक सोसायटियों में बारदाने भी नहीं पहुंच पाए हैं। पहले दिन ६ किसानों से ४५ क्विंटल धान की खरीदी की गई है। प्रथम दो दिनों में धान की खरीदी के लिए जिले के 6829 किसानों को उनके मोबाईल नंबर पर एसएमएस भेजा जा चुका है। 30 नवंबर को शाम 6 बजे तक की गई ऑनलाइन एंट्री के अनुसार इनमें से 6 किसानों से 45 क्विंटल धान की खरीदी की जा चुकी है।
समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी के लिए बालाघाट जिले में 194 केन्द्र बनाए गए है। इनमें से 13 केन्द्र महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा संचालित किए जा रहे है। समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी के लिए जिले के 1 लाख 15 हजार 698 किसानों का पंजीयन किया गया है। किसान के बैंक खाते आधार नंबर से लिंक होने का सत्यापन का कार्य किया जा रहा है। अब तक 36 हजार 418 किसानों के आधार नंबर का सत्यापन किया जा चुका है। जिन किसानों का बैंक आधार नंबर से लिंक नहीं है उन्हें अपने बैंक खाते को शीघ्र आधार नंबर से लिंक कराने कहा गया है। समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी 29 नवंबर से 15 जनवरी तक सप्ताह में 5 दिन सोमवार से शुक्रवार सुबह 8 से शाम 7 बजे तक की जाएगी और कृषक तौल पर्ची शाम 6 बजे तक जारी की जाएगी। किसानों से धान समर्थन मूल्य 1940 रुपए प्रति क्विंटल की दर से खरीदा जाएगा। उल्लेखनीय है कि २९ नवम्बर को समिति कर्मचारियों द्वारा हड़ताल की गई थी, जिसके चलते जिले में पहले दिन धान खरीदी का कार्य पूरी तरह से ठप्प रहा।
निरीक्षण में मिली खामियां
मंगलवार को तहसीलदार रामबाबू देवांगन द्वारा धान खरीदी केंद्र सोसाइटी हट्टा का निरीक्षण किया गया। जिसमें यह पाया गया कि केंद्र में तौल कांटा उपलब्ध नहीं है बैनर नहीं लगाया गया है। पीने के पानी और किसानों के रुकने की व्यवस्था नहीं की गई है। इस पर पंचनामा तैयार किया गया और सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए। कलेक्टर डॉ गिरीश कुमार मिश्रा ने इस स्थिति पर कड़ी नाराजगी जाहिर की है और हट्टा की सहकारी समिति के प्रबंधक और वहां के नोडल अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए है।
खरीदी केन्द्र रहे सूने, केन्द्रों तक नहीं पहुंच पाए किसान
खरीदी केन्द्र रहे सूने, केन्द्रों तक नहीं पहुंच पाए किसान

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.