scriptTiger's movement, panic among villagers, people getting worried | बाघ की चहलकदमी, ग्रामीणों में दहशत, परेशान हो रहे लोग | Patrika News

बाघ की चहलकदमी, ग्रामीणों में दहशत, परेशान हो रहे लोग

locationबालाघाटPublished: Feb 10, 2024 10:02:13 pm

Submitted by:

Bhaneshwar sakure

पालतु मवेशियों का बाघ कर रहा है शिकार
वन विभाग ने ग्रामीणों को किया सतर्क
कृषि कार्य भी हो रहा प्रभावित
खापा-बोदलकसा मार्ग पर बना हुआ है बाघ का आतंक

10_balaghat_101.jpg

बालाघाट. बाघ की चहलकदमी, ग्रामीणों में दहशत, परेशान होते लोग और गांव में पसरा रहता सन्नाटा। कुछ इस तरह की तस्वीर अब नजर आ रही है वारासिवनी क्षेत्र के खापा से बोदलकसा मार्ग पर। बाघ की दहशत के कारण ग्रामीण अपने घरों से अकेले बाहर निकलने से कतरा रहे हैं। ग्रामीणों में डर इतना कि उनके रोजमर्रा के कार्य प्रभावित होने लगे हैं। कृषि कार्य प्रभावित हो रहा है। किसान भी खेत जाने से बचने का प्रयास कर रहे हैं। इधर, बाघ कुछ दिनों के अंतराल में पालतु मवेशियों को अपना शिकार बना रहा है। वन विभाग ने भी ग्रामीणों को सतर्क रहने कहा है।
जानकारी के अनुसार वारासिवनी वन परिक्षेत्र के अंतर्गत आने वाले ग्रामों में बाघ का खौफ जारी है। पूर्व में सांवगी बीट के अंतर्गत आने वाले ग्रामों में बाघ की दहशत बनी हुई थी। वहीं अब खापा से बोदलकसा मार्ग पर बाघ का मूवमेंट होना लगा है। बाघ लगातार अपना क्षेत्र बदल रहा है। जंगलों में विचरण करने के दौरान ही वह पालतु मवेशियों को अपना शिकार भी बना रहा है। जिसके कारण पूरे क्षेत्र बाघ की दहशत बनी हुई है। इधर, वन अमला लगातार गश्त कर रहा है। ग्रामीणों को सावधानी बरतने की अपील भी कर रहा है। ताकि किसी भी प्रकार से कोई अप्रिय घटना न हो सकें। उल्लेखनीय है कि 6 फरवरी को बोदलकसा निवासी शैलेंद्र बिसेन की गाय पर बाघिन के एक शावक ने हमला कर दिया था। 7 फरवरी को खापा के जंगल से लगे खेत में निवासरत एक ग्रामीण के पालतु कुत्ते का शिकार किया गया था। इन दोनों ही घटनाओं को किसान और चरवाहे ने देखा था।
शावक के साथ नजर आ रही है बाघिन
ग्रामीणों के अनुसार खापा-बोदलकसा क्षेत्र में दो शावकों के साथ बाघिन नजर आ रही है। बाघिन अपने शावकों के साथ जंगल क्षेत्र में चहलकदमी करते रहती है। जिसके कारण ग्रामीणों में दहशत का माहौल बना हुआ है।
समूह में खेतों तक पहुंच रहे किसान
बाघ की दहशत के कारण बहुत ही कम संख्या में किसान खेत पहुंच रहे हैं। किसान समूह बनाकर अपने खेतों में पहुंचते हैं। शाम ढलने के पूर्व ही वे घर भी लौट जाते हैं। मौजूदा समय में किसानों ने खेतों में रबी की फसल लगाई है। धान की रोपाई का कार्य भी जारी है। इसके अलावा खेतों में चना, गेहूं, मटर, सरसों सहित अन्य फसलें लगी हुई है। ऐसे में किसानों को कृषि कार्य के लिए खेतों तक जाना ही पड़ता है।
राहगीर भी हो रहे परेशान
खापा-बोदलकसा मार्ग से आवागमन करने वाले राहगीर भी परेशान हो रहे हैं। इस रास्ते से बड़ी संख्या में ग्रामीण वारासिवनी मुख्यालय आना-जाना करते हैं। दिन में जहंा ग्रामीण डर के साए में आवागमन तो कर लेते हैं, लेकिन शाम होते ही इस मार्ग से कोई भी आना-जाना नहीं कर रहा है।
वन विभाग ने किया अलर्ट
हिंसक वन्यप्राणियों की चहलकदमी के चलते वन विभाग ने ग्र्रामीणों को अलर्ट किया है। ग्रामीणों को आवश्यक कार्य होने पर ही घरों से बाहर निकलने कहा है। सामूहिक रुप से घरों से बाहर निकलने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। इतना ही नहीं गांव में घरों के बाहर आग जलाने, पटाखे फोडऩे सहित अन्य उपाय अपनाने की सलाह दे रहे हैं। ताकि बाघ जंगल से गांव में प्रवेश न कर पाए।

ट्रेंडिंग वीडियो