लापता बेटी को ढूंढने के लिए पुलिस ने मांगी 10000 रुपए की रिश्वत, डीएम तक पहुंचा मामला

बांदा में लापता लड़की का पता लगाने के लिए पुलिस ने मजबूर पिता से 10,000 रुपये की रिश्वत की मांग कर डाली। अंत में पिता कलेक्ट्रेट पहुँचकर न्याय की गुहार लगाता दिखा।

By: Abhishek Gupta

Published: 18 Oct 2020, 04:52 PM IST

बांदा. सीएम योगी (CM Yogi) पुलिस प्रशासन को ईमानदारी से जनता की मदद करने के सख्त निर्देश दे चुके हैं, लेकिन अफसरों के कान पर जू नहीं रेंग रही। पुलिस रिश्वखोरी से बाज नहीं आ रही और गरीब जनता न्याय पाने की आंस खोती जा रही है। बांदा में ऐसा ही एक मामला सामने आया है जहां लापता लड़की का पता लगाने के लिए पुलिस ने मजबूर पिता से 10,000 रुपये की रिश्वत की मांग कर डाली। अंत में पिता कलेक्ट्रेट पहुँचकर न्याय की गुहार लगाता दिखा।

ये भी पढ़ें- शिवपाल यादव का सीएम योगी पर हमला, कहा- अफसर शाही पर लगाम ना होने से यूपी में जंगलराज

मामला बाँदा जनपद के बबेरू थाना क्षेत्र के ग्राम आहार का है जहां के निवासी राजकरण की 17 वर्षीय पुत्री 17 मई को घर से गायब हो गयी थी। पूछताछ करने पर पता चला कि गाँव का एक युवक उसे साथ ले गया है। इस पर पिता राजकरण ने बबेरू थाने में अपहरण का मुक़दमा दर्ज कराया था, जिसके बाद अभी तक लड़की का कोई सुराग नहीं लगा।

ये भी पढ़ें- गैंगरेप व हत्या मामले में पुलिस ने आरोपियों को किया गिरफ्तार, मृतका के परिवार ने कहा- वे सभी परिवार के लोग

नहीं सुन रही पुलिस-

परेशानी होकर शनिवार को नाबालिग लड़की के पिता ने ज्ञापन के माध्यम से जिलाधिकारी से न्याय की गुहार लगाई। पीड़ित पिता ने कहा कि मेरी नाबालिग लड़की को गांव का युवक बहला फुसलाकर अपने साथ ले गया था। मुक़दमा भी दर्ज कराया था, पर कई महीने बीत जाने के बाद भी अभी तक लड़की का पता नहीं चल पाया है। ऊपर से पुलिस ने लड़की को ढूंढने के लिए 10,000 रुपये की मांग की है। मैैं गरीब आदमी हूं। पैसे नहीं दे सकता हूं। इसलिए जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर मैंने लड़की का पता लगाने की गुहार लगाई है।

Show More
Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned