ऐसा हुआ तो ही भाजपा राज्य में बनाएगी सरकार

ऐसा हुआ तो ही भाजपा राज्य में बनाएगी सरकार

Santosh Kumar Pandey | Publish: Jun, 04 2019 08:23:25 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

केन्द्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री डी.वी. सदानंद गौड़ा ने कहा कि यदि राज्य की सत्तारूढ़ गठबंधन सरकार विधानसभा में बहुमत खो देती है तो भाजपा राज्य में वैकल्पिक सरकार का गठन करेगी।

बेंगलूरु. केन्द्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री डी.वी. सदानंद गौड़ा ने कहा कि यदि राज्य की सत्तारूढ़ गठबंधन सरकार विधानसभा में बहुमत खो देती है तो भाजपा राज्य में वैकल्पिक सरकार का गठन करेगी।

गौड़ा ने कहा कि 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी थी। भाजपा के पास बहुमत से कुछ सीटें कम थी। ऐसे में अगर राज्य की गठबंधन सरकार के गिर जाने की स्थिति बनती है तो भाजपा वैकल्पिक सरकार बनाएगी। उन्होंने फिर से दोहराया कि भाजपा अपनी तरफ से मुख्यमंत्री कुमारस्वामी नीत सरकार को गिराने या अस्थिर करने का कोई प्रयास नहीं करेगी।

उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव परिणाम आने के बाद हमने गठबंधन सरकार के पतन की भविष्यवाणी की थी और चुनाव परिणाम के बाद मुख्यमंत्री कुमारस्वामी वास्तव में त्यागपत्र देने जा रहे थे लेकिन कुछ लोगों ने दखल देकर उनको ऐसा नहीं करने दिया। कुमारस्वामी का नाम लिए बगैर उन पर तंज कसते हुए गौड़ा ने कहा कि चुनावों में ज्योतिष या भविष्यवाणी नहीं चलती है और यह बात चुनाव परिणामों से साबित हुआ है।

गैर भाजपा शासित राज्यों से भेदभाव नहीं
केन्द्र सरकार राज्यों के विकास के लिए भरपूर सहयोग देगी और विकास के मामले में कोई राजनीति नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि हम गैर भाजपा शासित राज्यों की सरकारों के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध बनाकर रखेंगे। सूखा राहत सहित किसी भी मद में केन्द्र से जारी की जाने वाली सहायता राज्य को दिलाई जाएगी। गौड़ा ने आश्वासन दिया कि राज्य से जुड़े किसी भी मसले पर वे मुख्यमंत्री कुमारस्वामी के साथ जाकर केंद्रीय मंत्रियों व प्रधानमंत्री से मिलने के लिए सदैव तैयार रहेंगे और राज्य के हितों से जुड़े मसलों पर कोई राजनीति नहीं होगी। राज्य के चारों ही कें्रदीय मंत्री राज्य के हितों से जुड़े मसलों पर मिलकर काम करेंगे।

उपनगरीय रेल पर राज्य सरकार को घेरा
बेंगलूरु उपनगरीय रेल परियोजना के मंथर गति से चलने पर गौड़ा ने राज्य सरकार को कठघरे में खड़ा किया। उन्होंने कहा कि बेंगलूरु शहर के लिए उपनगरीय रेल परियोजना के शीघ्र क्रियान्वयन के मकसद से केन्द्र ने 17,500 करोड़ रुपए आवंटित किए हैं लेकिन इस पर राज्य सरकार का अपेक्षित सहयोग नहीं मिल पाने के कारण यह परियोजना लडख़ड़ाते हुए चल रही है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned