खिलाड़ी छात्रा की ड्रेस पर टिपप्णी के मुद्दे पर एबीवीपी और गठबंधन आमने-सामने

खिलाड़ी छात्रा की ड्रेस पर टिपप्णी के मुद्दे पर एबीवीपी और गठबंधन आमने-सामने

Yogesh Kumar Sharma | Publish: Jul, 26 2019 04:29:49 PM (IST) Banswara, Banswara, Rajasthan, India

हरिदेव जोशी राजकी कॉलेज के मुख्य द्वार बंद कर किया प्रदर्शन, एनएसयूआई और एसटीएससी ने विरोध को चुनावी स्टंट बताया

बांसवाड़ा. हरिदेव जोशी राजकीय कन्या महाविद्यालय में एक व्याख्याता की ओर से छात्रा की ड्रेस, हेयर स्टाइल पर टिप्पणी करते हुए उसे छात्रा के रूप में रहने की हिदायत पर गुरुवार सुबह छात्र राजनीति गरमा गई। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकताओं ने कॉलेज का मुख्य द्वार बंद कर महाविद्यालय प्रशासन एवं व्याख्याता के खिलाफ नारेबाजी कर कार्रवाई की मांग की। इस दौरान मौके पर पहुंचे एसटीएससी-एनएसयूआई गठबंधन के कार्यकर्ताओं ने परिषद के इस कदम को चुनावी स्टंट बताया। उन्होंने कहा कि छात्रा कोई कार्रवाई नहीं चाहती। इस लेकर दोनों संगठन आमने-सामने हो गए और एक दूसरे से तीखी तकरार करने लगे। इस पर पुलिस बल ने मौर्चा संभाला ओर दोनों पक्षों को अलग-अलग किया। करीब १० मिनट तक कार्यकर्ता आपस में बहसबाजी करते रहे। इस दौरान प्राचार्य मौके पर पहुंचे और समझाइश की। वहीं छात्रा प्रसन्नता गरासिया ने भी पुलिस के सामने बुधवार को हुए घटनाक्रम की पुष्टि की। पर, किसी भी प्रकार की कार्रवाई चाहने की बात की। इसके बाद एबीवीपी के कार्यकर्ता पीछे हटे तब जाकर मामला शांत हुआ। उल्लेखनीय है कि बुधवार को कॉलेज परिसर में व्याख्याता ने खिलाड़ी छात्रा को पेंट शर्ट व बॉय कट हेयर स्टाइल को लेकर उसे लड़कियों की तरह रहने की नसीहत दी थी, जिसके बाद शुक्रवार सुबह से ही छात्र संगठन सक्रिय हो गए।

हरिदेव जोशी कन्या कॉलेज : व्याख्याता ने छात्रा को छात्र समझकर टोका, तू लडक़ी है तो लडक़ी की तरह रहा कर... और मच गया बवाल

छात्रा पर दबाव
एबीवीपी के प्रांत महामंत्री दिनेश राणा व दिनेश निनामा ने कहा कि छात्रा के साथ अभद्रता हुई है। संगठन उसके साथ है। उसने व्याख्याता पर कार्रवाई के लिए प्रार्थना पत्र भी दिया था। पर, कॉलेज प्रबंधन एवं अन्य संगठनों ने छात्रा पर समझाइश के नाम पर छात्रा पर दबाव बनाया, जिससे वह घबरा गई। चुनावी स्टंट है: एनएसयूआई के प्रदेश सचिव अरविंद डामोर ने कहा कि छात्रा कार्रवाई नहीं चाहती थी। घटनाक्रम हुआ यह वह बोल रही थी। पर, बिना किसी दबाव के उसने मामले में व्याख्याता के खिलाफ किसी भी प्रकार की कार्रवाई नहीं करने की बात प्राचार्य व अन्य व्याख्याताअें के समक्ष की थी।

समझाइश पर सब शांत
छात्रा के विषय में दोनों ही संगठन अपनी-अपनी बात कह रहे थे और आपस में उलझने जैसे हालात थे। पर, पूरे मामले से अवगत कराते हुए छात्रा से भी बातचीत करवाई गई। इसके बाद मामला शांत हो गया। पुलिस अधिकारी को भी वस्तु स्थिति से अवगत कराया गया।
डॉ सर्वजीत दुबे, कार्यवाहक प्राचार्य, हरिदेव जोशी राजकीय कन्या महाविद्यालय

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned