थार एक्सप्रेस के रास्ते से हट रहे सुरक्षा के बेरियर, यहां 7 स्थानों से हटाएंगे सबसे पहले, रेलवे बोली— जहां ज्यादा जरूरत, वहीं रखेंगे इन्हें

https://www.patrika.com/barmer-news/

bhawani singh

September, 1305:42 PM

Barmer, Rajasthan, India

भीखभारती गोस्वामी/गडरारोड . बाड़मेर .
भारत और पाकिस्तान के बीच चल रही थार एक्सप्रेस के रास्ते बाड़मेर से मुनाबाव के बीच लगे रेलवे क्रासिंग के बेरियर हटाए जा रहे हैं। रेलवे का तर्क है कि यहां पर रेलों का आवागमन कम है, ये बेरियर अन्यत्र लगाए जाएंगे। प्रश्न यह है कि देश की सबसे महत्वपूर्ण रेल थार एक्सप्रेस के रास्ते में बेरियर इसी वजह से लगे थे कि सुरक्षा को लेकर कोई सुराख न छूटे।

 

 

सीमावर्ती इलाके में वर्ष 2004-05 में ब्रॉडगेज लाइन बिछाई गई। १८ फरवरी २००६ को यहां से भारत और पाकिस्तान के बीच महत्वपूर्ण थार एक्सप्रेस का संचालन प्रारंभ हुआ। थार एक्सप्रेस भारत और पाकिस्तान के बीच दोस्ती के सफर से शुरू हुई, इस कारण यह देश की महत्वपूर्ण रेल है। इसकी सुरक्षा को लेकर तमाम पहलुओं पर गौर किया। इसी कारण बाड़मेर से मुनाबाव तक के रास्ते में जितने भी मानव रहित फाटक थे, वहां पर बेरियर लगाए गए। जसाई, भाचभर, रामसर, गागरिया, गडरारोड के पास बेरियर लगे, लेकिन हाल ही में रेलवे ने यह बेरियर हटाने शुरू कर दिए हंै।

 

 

क्यों लिया गया निर्णय
रेलवे के आदेश मुताबिक जहां रेलों की आवाजाही कम है। यहां से बेरियर हटाए जाएंगे और वहां लगेंगे जहां रेलों की आवाजाही ज्यादा है। बाड़मेर से जसाई में 2 फाटक, भाचभर, रामसर, गागरिया में 1,1 व गडरारोड में दो फाटकों के बेरियर खुलवाने शुरू कर दिए हैं, जो समदड़ी खंड में लगाए जाएंगे।

 

 

यह है बड़ी समस्या
थार एक्सप्रेस इमिगे्रशन व कस्टम जांच की वजह से कभी निर्धारित समय पर नहीं आती है। दूसरा जहां रेलवे क्रासिंग है वहां मोड़ है। थार के आने के वक्त कोई वाहन सामने आने पर बड़ी दुर्घटना से इनकार नहीं किया जा सकता है।

 

 

एेसा हो चुका है
कवास के पास सालभर पहले थार एक्सपे्रस आने से ठीक पहले चोरी की जीप ट्रैक पर कोई छोड़ गया। गनीमत रही कि समय रहते हटा लिया गया वरना बड़ी दुर्घटना की आश्ंाका थी। बाड़मेर-मुनाबाव के बीच रेलवे बेरियर लगने से पहले तीन हादसे रेल के आगे वाहन आने के कारण हो चुके हैं।

 

 

यहां रेल यातायात कम
&बाड़मेर से मुनाबाव के बीच रेल यातायात कम होने व एक रेलगाड़ी चलने से यहां बेरियर की आवश्यकता कम है। जहां प्रतिदिन ज्यादा ट्रेनें गुजरती है, पहले वहां बेरियर लगा रहे हैं। ऐसी सभी क्रॉसिंग पर होमगार्ड जवान लगा रहेगा। बाड़मेर-मुनाबाव लाइन के सभी बेरियर हटाकर ज्यादा आवश्यक जगह पर लगाए जाएंगे।
- गोपाल शर्मा, पीआरओ, रेलवे मंडल जोधपुर

भवानी सिंह
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned