scriptThe resolution of the last village of India...will vote 100 percent | assembly election 2023 : 550 वोट... सभी देंगे वोट | Patrika News

assembly election 2023 : 550 वोट... सभी देंगे वोट

locationबाड़मेरPublished: Nov 25, 2023 02:17:25 pm

Submitted by:

Ratan Singh Dave

पत्रिका लाईव कवरेज

550 वोट..सभी देंगे वोट
भारत के आखिरी गांव का संकल्प... वोट करेंगे 100 प्रतिशत

assembly election 2023 : 550 वोट... सभी देंगे वोट
गडरा रोड. ऊंटों से मतदान केन्द्र की तरफ जाते मतदाता।

पत्रिका लाईव कवरेज
भीख भारती गोस्वामी
गडरारोड (बाड़मेर) पत्रिका.
मैं जहां खड़ा हूं सामने पाकिस्तान दिख रहा है... साांझ ढलने के साथ यहां बॉर्डर की फ्लड लाइट्स जलने लगी है। इधर,अकली गांव जो भारत का आखिरी गांव है, वहां भी पोलिंग पार्टी पहुंचकर शनिवार को होने वाले मतदान की तैयारियों में जुटी है। 550 मतदाताओं के इस बूथ पर शत प्रतिशत मतदान की गारंटी गांव के लोग ले रहे हैै, सच मानिए यहां चिकित्सा, पानी और शिक्षा की 75 साल से कुछ मांगे अधूरी है लेकिन लोकतंत्र में आस पूरी। वजह, सामने पाकिस्तान के गांव है। जहां कुछ भी नहीं है। वे उन्हें देखकर कहते है, हम उधर देखकर खुश है कि हमें भारत में रखा,जहां लोकतंत्र है।
संध्या का 6 बजे का समय, पोलिंग पार्टी स्थानीय स्कूल में पंहुच चुकी हैं और व्यवस्थाओं में लगी हुई हैं । पास में गांव के युवा वॉलीबॉल खेलने में मस्त है। वहीं गांव के पश्चिम में पाकिस्तान की तरफ फ्लड लाइट्स जलनी शुरू हो रही हैं । सीमा पर तैनात बीएसएफ हाई अलर्ट पर चौकस नजरें गड़ाए हुए हैं।
ग्रामीण महिलाएं आजादी के 75 वर्षों बाद भी बेरियों से सींचकर सिर पर घड़ा उठाए मीठा पानी ला रही हैं, क्योंकि गांव के ट्यूबवेल में जहर से खारा पानी उपलब्ध हैं, जो पीने लायक नहीं है।
गांव के प्रबुद्ध लोग मतदान को लेकर काफी उत्साहित नजर आ रहे है। शनिवार को होने वाले मतदान के लिए तैयारियां भी करते नजर आए। अपने पसंद के प्रत्याशी के पक्ष में शत प्रतिशत मतदान के बारे में चर्चा की।
पत्रिका टीम के पहुंचने पर उत्साह से आभार जताया। गौरतलब हो पत्रिका अभियान से ही गांव में पहली बार 2019 मे ट्यूबवेल से पानी मिल पाया। अब गांव में नर्मदा का पानी जीएलआर तक तो पहुंच चुका है लेकिन हर घर नल कनेक्शन नहीं मिल पाया।
स्कूल दसवीं-बारहवीं हों
अकली में 1984 में प्राथमिक स्कूल खुली जो इतने वर्षों बाद उच्च प्राथमिक ही है। यहां सैकड़ों विद्यार्थियों को अन्यत्र पढऩे जाना पड़ता है।

- भारथाराम मेघवाल
एएनएम भी नहीं
गांव में एएनएम का पद लंबे समय से रिक्त है। कई बार मांग करने के बावजूद ध्यान नहीं दिया गया।
-प्रतापराम मेघवाल
हर घर नल दे दो
नर्मदा का पानी पहुंच गया है लेकिन हर घर नल को लेकर कोई सुनवाई नहीं हो रही हैं। जलदाय विभाग के अधिकारी और ठेकेदार मनमानी चला रहे है। जरूरत के हिसाब से पाइप नहीं डाले जा रहे हैं। पानी का प्रेशर होने पर पाईप डेमेज होने का खतरा है।

- हजारीमल

ट्रेंडिंग वीडियो