रखरखाव के अभाव में चाचरिया से सिरवेल मार्ग हुआ जर्जर

जनता की उम्मीदों पर फिरा पानी, चाचरिया से सिरवेल मार्ग हुआ जर्जर, मार्ग का नहीं हो रहा रखरखाव

ऑनलाइन खबर : विशाल यादव
बड़वानी/चाचरिया. मप्र ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण परियोजना क्रियावंयन इकाई बड़वानी के तहत प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की सड़क जो चाचरिया से सिरवेल 14.48 किमी है। इस मार्ग की ग्यारंटी अवधि 27 फरवरी 2011 थी। आगामी 5 वर्षों के लिए इस मार्ग का संधारण एवं रखरखाव के लिए शासन द्वारा 28 जून 2018 को कार्य शुरू किया जाना था। इसका ठेकेदार मेसर्स आर के कंस्ट्रक्शन निवाली पैकेज क्रमांक एमपी 02 ओआर 17 को दिया।
इस मार्ग का रखरखाव दायित्व की तिथि 27 अगस्त 2023 पांच वर्षों की है। रखरखाव कार्य की लागत 233.14 लाख रुपए है। सड़क निर्माण बोर्ड लगाकर सारी जानकारियां लिखी है। काम शुरू हुआ कुछ पुलियाओं को दुरुस्त किया। 3 किमी रोड पर झाडू लगाई। जनता को लगा काम शुरू हो गया। उसके बाद 9 महिने हो गए, लेकिन अभी तक कोई रखरखाव नहीं हुआ। इससे सड़क बदहाल है। इस चाचरिया से सिरवेल मार्ग पर चाचरिया से बलखड़ तक करीब 8 किमी सड़क ठीक है। उसके बाद खापरखेड़ा से सिरवेल 6 किमी के करीब पूरी सड़क बुरी तरह से उखड़ी पड़ी है। गिट्टी पत्थर से भरे है। वाहन चालक बाइक सवार कठिनाई से वाहन चलाते है। सिवन्या, बलखड़, खापरखेड़ा, गुवाड़ा, सिरवेल के लोगों को चाचरिया आने का एक मात्र मार्ग है। किसानों को पढऩे वाले छात्रों नौकरी करने वाले कर्मचारियों को इस मार्ग से निकलना पड़ता है। बारिश के दिनों में कठिनाई और बढ़ जाती है। पिछले वर्ष बारिश में परेशान हुए इस वर्ष भी अभी सुधार का काम शुरू नहीं हुआ है। जबकि पांच वर्षों के संधारण रखरखाव कार्य के 9 महीने बीत गए है। अभी तो सुधार कार्य ही शुरू नहीं हुआ है।
बारिश के पहले काम होना चाहिए शुरू
ग्राम सिवन्या के मुसा, रेसनिया, ढेमा, गिलदार, अरदान, सरदार, जदी, रजान, किलांग, कैलाश सुबला, शांतिलाल, बुदरिया ग्राम बलखड़ के कुमार, जालमसिंग, करतार, अतरसिंग, सायसिंग, सखाराम, जगा, जयराम, दयाराम ग्राम खापरखेड़ा के चंपालाल, रमेश, राकेश, दिनेश नरमसिंग, इलामसिंग, दिलीप, जुवानसिंग, सिरवेल के सुल्तान, अमरया, राजू लोहार, हाकम, कैलाश, ग्रामीणों का कहना है कि बारिश के पूर्व काम शुरू हो जाएगा तो आवागमन आसान रहेगा। नहीं तो परेशानियां बढ़ती ही जाएगी और दुर्घटनाएं होगी। मप्र ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण के जिम्मेदार अधिकारियों ने ग्रामीणों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए ठेकेदार को शीघ्र काम शुरू करने के निर्देश देना चाहिए।

मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned