अब तहसील मुख्यालयों पर बनेंगे कोविड केयर सेंटर

कोविड केयर सेंटर पर ऐसे एसिंप्टोमेटिक रोगियों के अलावा संदिग्ध रोगियों को रखकर केयर सेंटर पर रख कर उनका स्वास्थ्य प्रबंधन किया जाएगा

By: Gourishankar Jodha

Published: 21 May 2020, 12:34 AM IST

कोटपूतली। कोरोना वायरस की रोकथाम व नियंत्रण का कार्य सुव्यवस्थित करने के लिए तहसील मुख्यालयों पर कोविड केयर सेंटर (सीसीसी) की स्थापना की जाएगी। इन केंद्रों पर कोविड-19 से प्रभावित ऐसे रोगी जिनमें कोरोना के लक्षण नजर नहीं आते है, लेकिन संदिग्ध होते है। ऐसे एसिंप्टोमेटिक रोगियों के अलावा संदिग्ध रोगियों को रखकर केयर सेंटर पर रख कर उनका स्वास्थ्य प्रबंधन किया जाएगा।
एसडीएम नानूराम सैनी ने बताया कि केयर सेंटर के प्रबंधन व सुचारू व्यवस्थाओं के लिए जिला कलक्टर द्वारा समिति गठित की जाएगी, इसमें कलक्टर व चिकित्सा विभाग का प्रतिनिधि, लेखाधिकारी नगरपालिका, पंचायत समिति व सार्वजनिक निर्माण विभाग के प्रतिनिधि शामिल होंगे। समिति सेंटर के स्थान का चयन, निजी भवन का किराया निर्धारण व प्रबंधन सहित अन्य आवश्यक सेवाओं से संबंधित कार्य संपादित करेगी। चिकित्सा संबंधित कार्यों के लिए चिकित्सा विभाग से नोडल अधिकारी मनोनीत किया जाएगा और अन्य व्यवस्थाओं के लिए राजपत्रित अधिकारी को राजस्व अधिकारी नियुक्त करेंगे।

दिव्यांगों के लिए होगी व्हल चेयर व रैलिंग की सुविधा
प्राथमिकता के तौर पर ऐसा भवन चिन्हित किया जाएगा, जिसमें कमरों की सुविधा के अलावा जरूरत के अनुसार शौचालय व स्नानघर उपलब्ध हो। दिव्यांग व्यक्तियों के लिए व्हील चेयर व रैलिंग की सुविधा भी होनी चाहिए। नगरपालिका व पंचायत समिति की ओर से चयनित की गई संस्थान पर भोजन, पानी, बिजली स्वच्छता, कचरा निस्तारण, सुरक्षा व्यवस्था व आवश्यक मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी। गर्मी के मौसम को ध्यान में रखते हुए पंखे, कूलर, वाटर कूलर और अन्य सुविधाएं सुनिश्चित करने का प्रावधान किया गया है। पलंग और इन पर गद्दे व चादर की व्यवस्था की जाएगी। रोगियों के सोने के लिए पलंग व दो बेड के बीच में न्यूनतम 1 मीटर की दूरी रहेगी।

सुरक्षा के लिए लगेंगे सीसीटीवी कैमरे
कोविड केयर सेंटर की सुरक्षा को लेकर भवन में सीसीटीवी कैमरे लगवाए जाएंगे। जिससे रोगियों की निगरानी रखी जा सके। सेंटर पर चिकित्सक, सैंपल कलेक्शन, दवा स्टोर के लिए अलग से कक्षों की व्यवस्था होगी। पीपीटी किट व मास्क उतारने के लिए अलग कक्ष निर्धारित होंगे। सेंटर के अन्य किसी स्थान पर पीपीई किट व मास्क का निस्तारण नहीं किया जा सकेगा। टेलीविजन व म्यूजिक की व्यवस्था भी की जाएगी। रोगियों के प्रतिदिन का रिकॉर्ड व उपलब्ध सुविधाओं की चैक लिस्ट तैयार करने का भी प्रावधान किया गया है ।

Gourishankar Jodha
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned