पंजाब पुलिस के दो एएसआई चला रहे हनी ट्रैप ग्रुप

शिकायत के बाद पकड़े गए, एसएसपी ने किया बर्खास्त, जेल भेजे गए

By: Bhanu Pratap

Published: 24 May 2020, 03:42 PM IST

पटियाला। हनी ट्रैप के बारे में सुना था कि यह खेल बड़े-बड़े नेताओं के साथ बड़े-बड़े देश करते हैं। पंजाब के मोगा में हनी ट्रैप का बिलकुल नया मामला सामने आया है। यहां एक पुलिस वाले ने अपनी महिला मित्रों के साथ मिलकर गिरोह बनाया। अपने साथियों के साथ मिलकर कई लोगों को फँसाया। उनसे पैसे की वसूली की। आखिर खेल खुल गया। पंजाब पुलिस के दो एएसआई को यह खेल महंगा पड़ गया। नौकरी तो गई ही गई, साथ ही जेल की हवा भी खानी पड़ गई।

इस तरह फंसाते थे लोगों को

मोगा के एसएसपी हर मनवीर सिंह गिल ने इसकी पुष्टि की। घटनाक्रम की जानकारी देते हुए डीएसपी मनजीत सिंह ने बताया कि अब तक यह दोनों एएसआई तीन लोगों से एक-एक लाख रुपया ब्लैकमेलिंग कर ले चुके हैं। इनके गिरोह में गांव मानु के निवासी जसवंत कौर और इसी गांव की सीमा रानी के साथ मिलकर इन दोनों एएसआई चमकौर सिंह व दर्शन सिंह ने ब्लैकमलिंग का यह धंधा चला रखा था। जसवंत कौर और सीमा रानी ग्राहकों को फंसाती थी। सीमा रानी उन्हें अपने घर पर बुलाती थी। कमरे में ले जाती थी। कमरे में पहुंचते ही वह अपने कपड़े उतारने शुरू कर देती थी। इसी दौरान यह दोनों एएसआई मौके पर छापा मारते थे, जिसके बाद ग्राहक फँस कर इनको मुंह मांगी रकम देने के लिए तैयार हो जाता था।

शिकायत के बाद पकड़े गए

इसी के चलते गांव मानु के निवासी सुभाष के साथ भी ऐसा ही हुआ। वह चुप नहीं बैठा। उसने 14 मई को इसकी शिकायत थाना निहाल सिंह वाला में दर्ज करवा दी। इस पर मोगा के एसएसपी हर मनवीर सिंह गिल ने जांच करते हुए इन सभी को दोषी पाया। दोनों एएसआई को मौके पर ही बर्खास्त कर दिया। दोनों महिलाओं और दोनों एएसआई को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned