32 सरकारी स्कूलों में नहीं बनेगा मिड डे मील, 5,017 विद्यार्थी चखेंगे केंद्रीयकृत रसोई का खाना

32  सरकारी स्कूलों में नहीं बनेगा मिड डे मील, 5,017 विद्यार्थी चखेंगे केंद्रीयकृत रसोई का खाना

tej narayan | Publish: Apr, 17 2018 02:44:03 PM (IST) | Updated: Apr, 17 2018 02:45:56 PM (IST) Bhilwara, Rajasthan, India

शहरी क्षेत्र की 32 सरकारी स्कूलों में 8वीं तक के करीब 5,019 बच्चों को अब एक रसोई में तैयार स्वादिष्ट भोजन मिलेगा

भीलवाड़ा।

शहरी क्षेत्र की 32 सरकारी स्कूलों में 8वीं तक के करीब 5,019 बच्चों को अब एक रसोई में तैयार स्वादिष्ट भोजन मिलेगा। इन चयनित स्कूलों में मध्यान्ह भोजन गुरुवार से ही केंद्रीयकृत रसोई घर अक्षयपात्र फाउंडेशन उपलब्ध कराएगा। इनके संस्था प्रधान मंगलवार को अंतिम दिन खाना पकाकर छात्रों को परोसेंगे। बुधवार को परशुराम जयंती के अवकाश के कारण गुरुवार को स्कूल खुलते ही ये बच्चे केंद्रीयकृत रसोई घर में बने भोजन का स्वाद चखेंगे।

 

READ: आरएसी को जमीन का मालिकाना हक मिला, भीलवाड़ा की हुई बटालियन

 

अत्याधुनिक मशीनों से सुसज्जित किचन से स्कूलों में सप्लाई भोजन पर शिक्षा विभाग को मॉनीटरिंग का पूरा अधिकार रहेगा। विद्यालयों में कुक कम हेल्पर छात्र-छात्राओं को भोजन परोसने का कार्य करती रहेंगी। भुगतान उपस्थिति के आधार पर जिला कार्यालय पहले की तरह करेगा। 11 सितंबर 2017 को शहरी क्षेत्र के 83 में से 32 विद्यालयों में मिड डे मील उपलब्ध कराने को लेकर जिला शिक्षा अधिकारी कम नोडल अधिकारी मिड डे मील प्रारंभिक शिक्षा भीलवाड़ा एवं गैर सरकारी स्वयंसेवी संगठन अक्षयपात्र फाउंडेशन (केंद्रीयकृत रसोई घर) बापू नगर के मध्य एमओयू हुआ था।

 

READ: सफाईकर्मियों के 320 पद, पहले दिन फार्म लेने आए हजारों लोग


पहले चरण में पांचनोडल केंद्र

अक्षय पात्र संस्था को पहलेचरण में 32 सरकारी स्कूलों में छात्र-छात्राओं को मिड-डे मील सप्लाई सौंपी जा रही है। राजकीय उप्रावि विश्नोई मोहल्ला पुर, राउप्रावि माली मोहल्ला पुर, राउप्रावि बिलिया खुर्द, राउप्रावि बापू नगर व राउप्रावि भोपालगंज आजाद नगर सहित कुल पांच नोडल केंद्र बनाए गए। इनमें मिड डे मील का संचालन सफल रहा तो फाउंडेशन बाकी 51 विद्यालयों में पका-पकाया मील सप्लाई करेगा। गुरुवार से सप्लाई मिड डे मील को लेकर अक्षयपात्र फाउंडेशन खाना पकाकर टेस्टिंग के लिए कच्ची बस्तियों में जरूरतमंदों को नि:शुल्क बांट रहा है।


फाउंडेशन को सौंपना होगा बचा खाद्यान्न
शिक्षा विभाग ने संबंधित स्कूलों के संस्था प्रधानों व मिड डे मिल प्रभारियों को एसएमसी से मंगलवार तक बच्चों को भोजन उपलब्ध कराने को कहा है। साथ ही अपने प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में बचा खाद्यान्न अक्षयपात्र फाउंडेशन को सौंपने को कहा।


सूजी का हलवा व मोती चूर के लड्डू भी
मध्यान्ह भोजन मेन्यू में सोमवार को रोटी-सब्जी, मंगलवार को दाल, सब्जी या चावल, बुधवार को खिचड़ी (दाल, चावल, सब्जी आदि युक्त), गुरुवार को दाल-बाटी, शुक्रवार को दाल-रोटी तथा शनिवार को रोटी-सब्जी देनी होगी। सप्ताह में एक दिन फल देना अनिवार्य रहेगा। किसी एक दिन बच्चों की मांग के अनुसार भोजन देना होगा। संस्था को सप्ताह में एक दिन मीठे चावल, सूजी का हलवा, मोती चूर के लड्डू व बूंदी भी छात्रों को उपलब्ध कराने को कहा गया है।

 

कुक कम हेल्पर नहीं हटाएंगे
पहले चरण में 32 स्कूल चुने हैं। संचालन सफल रहा तो अन्य ५१ स्कूलों में भी सप्लाई लागू कर देंगे। विद्यालयों में कार्यरत कुक कम हेल्पर को नहीं हटाया जाएगा। वे छात्र-छात्राओं को भोजन परोसते रहेंगे।
जगदीशचंद्र प्रजापति, जिला प्रभारी, मीड डे मील
केंद्रीयकृत रसोई घर अक्षयपात्र फाउंडेशन गुरुवार से स्कूलों में मिड-डे मील सप्लाई करेगा। सप्लाई के लिए उसके पास अत्याधुनिक वाहन हैं, जिनमें भोजन ताजा व गर्म बना रहेगा। बच्चे गुणवत्ता पूर्ण भोजन का लुफ्त ले सकें।
बलवीरसिंह, मैनेजर, अक्षयपात्र फाउंडेशन,
बापू नगर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned