गाजे-बाजे से निकली बंदर की शवयात्रा, विधि-विधान से हुआ दाह संस्कार, कराया मुंडन

गाजे-बाजे से निकली बंदर की शवयात्रा, विधि-विधान से हुआ दाह संस्कार, कराया मुंडन

abdul bari | Publish: Nov, 09 2018 08:01:46 PM (IST) | Updated: Nov, 09 2018 08:01:47 PM (IST) Bhilwara, Bhilwara, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

भीलवाड़ा

पंडेर क्षेत्र के टीटोङी गांव में शनिवार को हनुमान जी के मंदिर परिसर मे स्थित नीम के पेड़ पर सुबह 9 बजे ग्रमीणो ने पेड़ की ङाली पर बैठे एक बंदर पर नजर पड़ी। बंदर की हालत अस्वस्थ लग रही थी। बंदर को ग्रामीणो के सहयोग से पेड़ से नीचे उतारने की कोशिश की गई लेकिन इसी दौरान बंदर ने पेड़ की ङाली पर ही दम तोड़ दिया। इसके बाद ग्रामीणों ने बंदर की गाजे बाजे के साथ शवयात्रा निकाली।

विधि विधान व मंत्रोच्चार के दाह संस्कार
बंदर की शवयात्रा मुख्य मार्गों से होकर गुजरती हुई शमशान घाट पहुंची। बंदर का नारियलों से दाह संस्कार किया गया। गाँव के कुछ नवयुवकों ने बंदर की आत्मा की शांति व मोक्ष के लिए अपने सिर मूंछ दाढी के बाल मुंडवा दिए। शवयात्रा की झलकियां के लिए ग्रामीण कोशिश करते दिखे। विधि विधान व मंत्रोच्चार के दाह संस्कार हुआ। इस दौरान बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned