script58 crore project in Bida is in the hands of AEN caretaker | बीडा में 58 करोड़ के प्रोजेक्ट कार्यवाहक एईएन के हाथ | Patrika News

बीडा में 58 करोड़ के प्रोजेक्ट कार्यवाहक एईएन के हाथ

locationभिवाड़ीPublished: Dec 28, 2023 07:01:12 pm

Submitted by:

Dharmendra dixit


जेईएन की बोल रही तूती, राजनीतिक संरक्षण में सभी दरकिनार
एक साल से खाली बैठे एईएन कर रहे काम बंटवारे का इंतजार

बीडा में 58 करोड़ के प्रोजेक्ट कार्यवाहक एईएन के हाथ
बीडा में 58 करोड़ के प्रोजेक्ट कार्यवाहक एईएन के हाथ
भिवाड़ी. शहर के विकास के लिए बीडा का गठन हुआ है, बीडा के गठन से शहर को कितना विकास हो रहा है, इसका आंकलन तो जनता ही करेगी लेकिन यहां तैनात अभियंता बड़े भारी भरकम पहुंच वाले हैं। इसका अंदाज इसी से लगाया जा सकता है कि यहां तैनात सहायक अभियंता खाली बैठे हुए हैं और कनिष्ठ अभियंता कार्यवाहक सहायक अभियंता का कार्यभार संभाले हुए हैं। करोड़ों के प्रोजेक्ट कनिष्ठ अभियंताओं के हाथ में हैं। कनिष्ठ अभियंता तकनीकि रूप से इतने दक्ष हैं कि सहायक अभियंताओं को काम नहीं दिया जा रहा है। इसका असर यह है कि जो प्रोजेक्ट समय पर पूरे होने चाहिए, वह काफी देरी से चल रहे हैं। बायपास सौंदर्यीकरण का काम सितंबर में पूरा होना चाहिए था लेकिन इसके लिए बीडा अभियंता मार्च-अप्रेल 2024 तक का समय मांग रहे हैं, प्रोजेक्ट में छह सात महीने की देरी अभी से बता रहे हैं।
----
बड़े प्रोजेक्ट कार्यवाहकों के हाथ
बीडा में तीन सहायक अभियंता तैनात हैं, लेकिन इसके बावजूद भारी भरकम राशि वाले प्रोजेक्ट में कार्यवाहक सहायक अभियंता लगाए गए हैं। 20.55 करोड़ से निर्मित हो रहे स्टेडियम और 38 करोड़ से बायपास सडक़ चौड़ीकरण एवं सौंदर्यीकरण का काम हो रहा है। दोनों प्रोजेक्ट में जेईएन राजेश यादव को कार्यवाहक एईएन का काम दिया हुआ है। 1.76 करोड़ के लाइब्रेरी, सामुदायिक भवन रखरखाव के 25 लाख और पौधारोपण के 40 लाख के काम में जेईएन एसएस नरूका को कार्यवाहक एईएन का काम सौंप रखा है।
----
कुछ जेईएन बैठे खाली
बीडा में कुछ जेईएन तो इतने प्रभावी हैं कि कार्यवाहक एईएन का काम संभाले हुए हैं, वहीं कुछ जेईएन को सिर्फ चैंबर में बैठने के लिए छोड़ रखा है। या कुछ जेईएन से सिर्फ कार्यालय, पार्क, गाड़ी, आवास, गमले रखरखाव जैसे छोटे काम कराए जा रहे हैं। उन्हें मुख्यधारा का कोई काम नहीं सौंपा जा रहा है। जबकि कुछ संविदा पर लगाए गए तकनीकि सहायक मुख्य प्रोजेक्ट में लगाए जा रहे हैं। इन तकनीकि सहायकों पर भी कार्यवाहक अभियंताओं की कृपा दृष्टि बताई जाती है।
----
हमारे पास कोई काम नहीं
कार्यवाहक सहायक अभियंता के सवाल पर सहायक अभियंताओं से बात की तो उन्होंने भी कहा कि हमारे पास कोई काम नहीं है। सहायक अभियंता कमल जोनवाल ने कहा कि बीडा में कोई बड़ा प्रोजेक्ट मेरे पास नहीं है, मुझे यहां तैनाती हुए एक साल हो गए, एक दो दिन में कोई प्रोजेक्ट मिलने वाला है। वहीं सहायक अभियंता दीपक चौधरी ने कहा कि बायपास स्टेडियम का काम मेरे पास नहीं है, सीवरेज का काम है, सेंट्रल पार्क है, करीब एक साल हो गया यहां पर तैनाती मिले। कार्य वितरण के लिए कहा जा रहा है।

ट्रेंडिंग वीडियो