script10th class paper leak news turned fake big update came out by MP Board | फर्जी निकली 10वीं के पेपर लीक की खबर, सामने आया एमपी बोर्ड का बड़ा अपडेट | Patrika News

फर्जी निकली 10वीं के पेपर लीक की खबर, सामने आया एमपी बोर्ड का बड़ा अपडेट

locationभोपालPublished: Feb 05, 2024 04:36:23 pm

Submitted by:

Faiz Mubarak

मामले को लेकर शिक्षा सचिव का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि माध्यमिक शिक्षा मंडल को बदनाम करने के लिए फैलाई जा रही ऐसी अफवाह।

news
फर्जी निकली 10वीं के पेपर लीक की खबर, सामने आया एमपी बोर्ड का बड़ा अपडेट

मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा आयोजित 10वीं कक्षा की परीक्षा शुरु होने के पहले ही दिन सोशल मीडिया पर हिंदी विषय के पेपर वायरल होने की खबर सामने आई। इसी के साथ हिंदी का पेपर लीक होने का दावा भी किय गया, जिसे लेकर अब माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से बयान भी सामने आ गया है। माशिम के सचिव के.डी त्रिपाठी ने मामले पर सफाई देते हुए पेपर लीक होने की किसी भी घटना को निराधार बताते हुए सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे प्रश्न पत्र को फर्जी बताया है।

माशिम के सचिव के.डी त्रिपाठी ने कहा कि कक्षा 10वीं का पेपर लीक नहीं हुआ है। इसे लेकर सोशल मीडिया पर भ्रामक जानकारी और अफवाह फैलाई गई है। छात्र इस तरह के किसी पेपर पर ध्यान न दें। माशिमं की अपील है कि छात्र मेहनत करें और इस तरह की सोशल मीडिया पर होने वाले किसी भी फर्जी दावे पर ध्यान न दें और ऐसे दावे करने वालों से सतर्क रहें। बता दें कि सोमवार से कक्षा 10वीं की बोर्ड परीक्षा शुरू हुई है। वहीं दूसरी तरफ सोशल मीडिया पर इसी तरह की भ्रामकता फैलाने वाले 3 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार भी कर लिया है।

यह भी पढ़ें- यहां मास्क वाला चोर गिरोह मचा रहा आतंक, CCTV कैमरों का भी इन्हें खौफ नहीं, पुलिस के लिए बने चुनौती


सोशल मीडिया पर चल रहा ठगी का कारोबार

आपको बता दें कि एमपी बोर्ड की परीक्षा शुरु होने के साथ ही राजधानी भोपाल और इंदौर में सोशल मीडिया के जरिए पेपर आउट होने का दावा करते हुए छात्रों से ठगी की जा रही है। टेलीग्राम पर ग्रुप बनाकर 350 रुपए में पेपर लीक करने का दावा किया जा रहा है। ये पेपर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। आरोपी सोशल मीडिया के प्लेटफॉर्म टीलेग्राम पर 350 रुपए में परीक्षाओं का पेपर देने का दावा कर रहे हैं। स्टूडेंट्स को फंसाने के लिए टेलीग्राम पर इस तरह के कई ग्रुप बनाए गए हैं। शिक्षा विभाग और एमपी बोर्ड ने अपील की है कि कोई भी छात्र इस झांसे में न फंसे। इस तरह के मैसेज देखकर स्कूलों के शिक्षकों ने भी छात्रों को इससे दूर रहने की सलाह देने को कहा गया है।

ट्रेंडिंग वीडियो