Budget 2019 : महिलाओं को बड़ी सौगात दे सकता है नई सरकार का केन्द्रीय बजट

वित्तमंत्री बजट में बचत और एफडी की ब्याज दरों पर देंगी ध्यान
उम्मीद: राजधानी की आधी आबादी को है अपेक्षा

By: KRISHNAKANT SHUKLA

Updated: 04 Jul 2019, 10:52 AM IST

भोपाल. केन्द्रीय वित्तमंत्री ( Union Finance Minister ) निर्मला सीतारमण ( Nirmala Sitharaman ) नरेन्द्र मोदी ( Narendra Modi ) की नेतृत्व वाली भाजपा की नई सरकार में ( budget 2019 ) पहला बजट शुक्रवार को पेश करेगी। सभी वर्गों में बजट को लेकर जिज्ञासा है। ‘पत्रिका’ ने शहर की व्यावसायी, सामाजिक कार्यकर्ता और प्रबुद्ध महिलाओं से जानने की कोशिश की कि आखिर बजट को लेकर उनके मन में क्या चल रहा है।

उनका कहना है क्योंकि बजट महिला वित्तमंत्री पेश कर रही हैं, ऐसे में निश्चित रूप से महिलाओं के हितों का ध्यान रखा गया होगा। वित्तमंत्री के बजट में किचन की महंगाई कम होने से लेकर इनकम टैक्स स्लैब में बदलाव होगा।

 

MUST READ : विधानसभा सदन में माननीयों के उपद्रव को हमेशा ‘कैद’रखेगा सचिवालय

 

गृहिणियों को सौगात मिलेगी, ऐसी उम्मीद की जा रही है। परिवारों को और अधिक बचत करने के लिए टैक्स में राहत व प्रोत्साहन की घोषणा की जा सकती है। वित्त वर्ष 2014 में जीडीपी का 32.1 फीसदी हिस्सा बचत खाते में था, वहीं वित्त वर्ष 2018 में यह 30.5 फीसदी के आसपास रहा।

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के बजट से उम्मीद लगा रहे हैं कि निश्चित रूप से वे गृहिणियों को सौगात देंगी। हमारे किचन का बजट नहीं गड़बड़ाएगा। इसी तरह से इनकम टैक्स स्लैब में बदलाव की उम्मीद की जा रही है।
- सोमा जैन, सामाजिक कार्यकर्ता


बजट में बिजनेस ग्रोथ के उपायों पर घोषणा होनी चाहिए। 10 लाख पर 30 प्रतिशत का टैक्स स्लैब कम होना चाहिए। सभी टैक्सपेयर्स के लिए छूट की सीमा 2.5 लाख रुपए से बढ़ाकर 5 लाख रुपए की जा सकती है।
- संध्या अग्रवाल, प्रो. श्रीजी मल्टीनेट

 

MUST READ : Passport: विदेश मंत्रालय ने कहा- आवेदक न छिपाएं जानकारी, वर्ना होल्ड हो जाएगा पासपोर्ट

उम्मीद है कि उद्योगों के हालातों को ध्यान में रखते हुए बैंकों की ब्याज दरें कम करेंगी। महिलाएं सेविंग पर ज्यादा ध्यान देती हंै। इसलिए बजट में सेविंग और एफडी पर ब्याज दरों पर विशेष ध्यान दिया गया होगा।
- सोनाली तिवारी, सीईओ,परिधि इंडस्ट्रीज

बजट में सैलरी वूमन के लिए ऐसी घोषणाएं होनी चाहिए जिससे सेविंग को बढ़ावा मिल सके। साथ ही स्टार्टअप के लिए भी एडिशनल बेेनिफिट दिया जाना चाहिए। यही उम्मीद बजट से की जा रही है।
- ज्योति चौहान, चार्टर्ड एकाउंटेंट

हर बार बजट में इकोनॉमिक डवलपमेंट पर ज्यादा फोकस होता है और सोशल पर कम ध्यान दिया जाता है। सरकार को एजुकेशन और हेल्थ केयर पर और ज्यादा फोकस करने की जरूरत है।
- निर्मला बुच, रिटायर्ड आइएएस और समाजसेवी

सरकारी अस्पतालों में सुविधाएं और सैलरी हो तो डॉक्टर आएंगे। गृहिणी के तौर पर लगता है कि दैनिक उपयोग की वस्तुओं पर टैक्स की छूट ज्यादा मिलनी चाहिए, भले ही लग्जरी टैक्स बढ़ाना पड़े।
- डॉ. नीलिमा अग्रवाल, स्त्री रोग विशेषज्ञ

BJP Narendra Modi
Show More
KRISHNAKANT SHUKLA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned