scriptChildren will observe e-fast once a week, SDM administered a unique oath | हफ्ते में एक दिन बच्चे रखेंगे ई-उपवास,SDM ने दिलाई अनोखी शपथ | Patrika News

हफ्ते में एक दिन बच्चे रखेंगे ई-उपवास,SDM ने दिलाई अनोखी शपथ

locationभोपालPublished: Feb 03, 2024 09:00:52 pm

Submitted by:

Himanshu Singh

E-Fast: रायसेन के एसडीएम ने छात्रों को ई-उपवास की शपथ दिलावाई है। जिसमें उन्होंने लगभग 10 हजार से ज्यादा छात्रों को मोबाइल फायदे और नुकसान बताए हैं।

e-upvas
,

इन दिनों चर्चाओं का बाजार गर्म है। इसी बीच एंट्री हुई है नए चर्चा के विषय ई-उपवास की । वैसे उपवास की पंरपरा तो हिंदू धर्म में प्राचीनकाल से चली आ रही है। हिंदू धर्म में मान्यता है कि उपवास का पालन करने से उत्तम स्वास्थ्य और दीर्घायु प्राप्त होती है । शास्त्रों में कहा गया है कि 'व्रियते स्वर्गं व्रजन्ति स्वर्गमनेन वा' अर्थात् जिससे स्वर्ग में गमन अथवा स्वर्ग का वरण होता हो। वहीं डिजिटल दुनिया ने मोबाइल से दूर रहने के लिए के एक नए शब्द ई-उपवास से परिचय करवा दिया। एमपी के एक एसडीएम ने 10 हजार बच्चों को इसकी शपथ दिला दी है।

रायसेन एसडीएम ने दिलाई शपथ
रायसेन के एसडीएम सौरभ मिश्रा ने शहर की प्रमुख स्कूलों में पहुंचे और लगभग 10 हजार से ज्यादा छात्रों को मोबाइल फायदे और नुकसान बताए। इसके अलावा उन्होंने एक दिन मोबाइल उपयोग न करने की ई-उपवास करने की शपथ दिलाई।एसडीएम सौरभ मिश्रा ने छात्र, छात्राओं को बताया कि वर्तमान युग में मोबाइल फोन हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा बन गया है। आज हर व्यक्ति के पास मोबाइल फोन है, चाहे गरीब हो या अमीर। हर युवा की इस तरफ तेजी से दिलचस्पी बढ़ती जा रही है और मोबाइल का सबसे ज्यादा उपयोग बच्चों, और युवाओं के द्वारा ही किया जा रहा है। मोबाइल के कारण छात्रों की पढ़ाई- लिखाई बहुत कमजोर हो गई है। रात-रात भर मोबाइल का इस्तेमाल लोगों के दिमाग को कमजोर बना देता हैं।

बताए मोबाइल के फायदे
मोबाइल में कई ऐसे ऐप हैं।जिनसे कनेक्टेड रहने और अपनी बातें शेयर करने का आज यह बहुत बड़ा माध्यम है। आपको चैटिंग और शेयरिंग के लिए एक्स्ट्रा पैसे खर्च करने की आवश्यकता नहीं है। बस इंटरनेट पैक होना जरूरी है।आप अपने दोस्तों से फोटो, वीडियो, म्युज़िक, कॉन्टैक्ट नंबर और अपनी लोकेशन भी शेयर कर सकते हैं।आप विश्व के किसी भी कोने में फ्री में मैसेज भेज कर अपनी बात दूसरे शख्स तक पहुंचा सकते हैं। वो भी बिना किसी एक्स्ट्रा चार्ज के, बस आपके फोन में ऐप होना चाहिए। साथ ही जिसे आप मैसेज भेजना चाहते हैं।उसके पास भी वह सुविधा होना चाहिए।

गिनाए मोबाइल के नुकसान
मोबाइल का उपयोग करने के जहां कई फायदे हैं, वहीं नुकसान भी है। मोबाइल के अधिक उपयोग से मानव शरीर में बहुत सारी बीमारियां हो सकती है।मोबाइल फोन से निकलने वाले इलेक्ट्रोमैग्नेटिक विकिरणों से डीएनए क्षतिग्रस्त हो सकता है। इसके अलावा मोबाइल का अधिक इस्तेमाल आपको मानसिक रोगी, कैंसर, ब्रेन ट्यूमर, डायबिटिज, ह्रदय रोग आदि कई बड़ी बीमारियां भी दे सकता है।मोबाइल फोन को अपने शरीर से सटाकर नहीं रखना चाहिए और कम इस्तेमाल करना चाहिए। मोबाइल फोन से निकलने वाले रेडिएशन से मानव शरीर को नुकसान हो सकता है।मोबाइल में इंटरनेट से हम बहुत सी जानकारियां प्राप्त कर लेते हैं। लेकिन कुछ गलत वेबसाइट, एप से बच्चों को गलत जानकारियां भी मिल सकती है। इसलिए उसका इस्तेमाल बहुत सोच समझकर करना चाहिए।

मोबाइल के अधिक उपयोग से कई छात्र युवा 8 से 10 घंटे मोबाइल पर अपना समय बर्बाद कर रहे हैं।छात्रों में ज्यादा मोबाइल के इस्तेमाल से चिड़चिड़ापन आ रहा है। छात्र-छात्राएं अकेला रहना पसंद करने लगे हैं। याददाश्त की कमी होना, होना भूख न लगना, नींद ना आना यह सब मोबाइल की वजह से होता है। इसलिए हमें मोबाइल का कम इस्तेमाल करना चाहिए।

ट्रेंडिंग वीडियो