scriptComplain about adulteration on this WhatsApp no.action will be taken | इस व्हाट्सएप नंबर पर करें मिलावट की शिकायत, तुरंत होगी कार्रवाई | Patrika News

इस व्हाट्सएप नंबर पर करें मिलावट की शिकायत, तुरंत होगी कार्रवाई

locationभोपालPublished: Feb 10, 2024 03:17:24 pm

Submitted by:

Nisha Rani

अब मिलावटखोर आसानी से पकड़े जा सकेंगे। प्रशासन ने एक व्हाट्सएप हेल्पलाइन सेवा शुरू की है,जानिए क्या है पूरी खबर

whatsapp-premium-for-business-users-likely-user-testing-1652851258.jpg

इंदौर( मध्य प्रदेश) : मिलावट के खिलाफ जिला प्रशासन ने बड़ा कदम उठाया है। इसमें व्हाट्सएप बड़ी भूमिका निभाने वाला है। प्रशासन की ओर से इसके लिए एक व्हाट्सएप हेल्पलाइन नंबर भी जारी कर दिया गया है। इस पर लोग खाद्य पदार्थों में मिलावट की शिकायत कर सकेंगे। जीहां अब मिलावटखोर आसानी से पकड़े जा सकेंगे। प्रशासन ने एक व्हाट्सएप हेल्पलाइन सेवा शुरू की है। इसके लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी कर दिया है। जब भी आपको किसी भी प्रोडक्ट में मिलावट मिले तो आप इस नंबर पर व्हाट्सएप मैसेज कर सकते हैं और अपनी शिकायत कर सकते हैं। इसके साथ ही आईएमसी के 311 ऐप पर भी शिकायत दर्ज की जा सकती है।

दूध डेयरियों पर लगेगी जांच मशीन

उपभोक्ताओं की सुरक्षा के लिए एक और कदम के रूप में, दूध डेयरियों और दूध बेचने वाली दुकानों को दूध की शुद्धता के जांचने वाली मशीन लगाने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए सराफा चौपाटी के दुकानों का सर्वे किया जाएगा है।

सख्ती से हो निर्देशों का पालन

कलेक्टर ने बताया कि जिला प्रशासन ने लोगों को सुरक्षित खाद्य सामग्री सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने सख्त निर्देश दिए हैं कि किसी भी स्थिति में मानव जीवन के लिए असुरक्षित अमानक खाद्य पदार्थों का निर्माण और विक्रय करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी, और उनके खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस मिलावट से मुक्ति के अभियान को तेज और अधिक प्रभावी बनाने के लिए शहर में दूध बेचने वाली सभी डेयरियों पर दूध की शुद्धता का जांच के लिए मशीन लगवाया जाएगा। और इसके तहत धारा 144 के अंतर्गत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी भी किए जा रहे हैं।

इस नंबर पर करें शिकायत
आपको बता दें कि आप नए व्हाट्सएप हेल्पलाइन नंबर 9406764084 पर अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। ये शिकायत केवल खाद्य पदार्थों में मिलावट से संबंधित होनी चाहिए। इसके अलावा, लोगों को आईएमसी के 311 ऐप पर भी इन शिकायतों को दर्ज करने का ऑप्शन है।

बैठक में जारी किया नंबर

बैठक में अपर कलेक्टर गौरव बैनल सहित संबंधित विभागों के अधिकारी एवं समिति सदस्य उपस्थित थे। कलेक्टर ने कहा कि अभियान को व्यापक बनाने के लिए कैलेंडर तैयार कर नमूने एकत्र करने की कार्यवाही की जाए। सभी प्रकार के खाद्य पदार्थों की जांच की जाए। असुरक्षित एवं अमानक खाद्य सामग्री का उत्पादन करने वालों को किसी भी स्थिति में बख्शा नहीं जाएगा।

ट्रेंडिंग वीडियो