script ड्रोन से खुलेगा स्व सहायता समूहों की किस्मत का ताला | Drones will unlock the fate of self-help groups | Patrika News

ड्रोन से खुलेगा स्व सहायता समूहों की किस्मत का ताला

locationभोपालPublished: Dec 24, 2023 10:07:26 pm

- स्व सहायता समूह ड्रोन से बढ़ाएगा अपनी आय, खेती में ड्रोन से होगा छिड़काव, बचेगा कीटनाशक, मात्रा भी रहेगी कम
- विकसित भारत संकल्प यात्रा के दौरान कलेक्टर ने देखा ड्रोन का उपयोग, लिक्विड यूरिया डालने में आसान रहता है और स्वास्थ्य को नुकसान भी कम पहुंचाता है

ड्रोन से खुलेगा स्व सहायता समूहों की किस्मत का ताला
ड्रोन से खुलेगा स्व सहायता समूहों की किस्मत का ताला

भोपाल. स्व सहायता समूहों की आय बढ़ाने के लिए उनको जिला पंचायत की तरफ से ड्रोन दिए जाएंगे। जिसके तहत वे अपनी आय बढ़ाएंगी। इस संबंध में शुक्रवार को कलेक्टर आशीष सिंह ने फंदा विकासखण्ड के ग्राम खारपा में ड्रोन से दवा और यूरिया का छिड़काव देखा और उसके बारे में जानकारी की। वे यहां पर विकसित भारत संकल्प यात्रा के तहत आए हुए थे, उनके साथ सीईओ जिला पंचायत ऋतुराज सिंह सहित अन्य जिला अधिकारी उपस्थित थे। राजधानी में 3200 स्व सहायता समूह हैं।

20 मिनट में ढाई एकड़ खेती में करता है छिड़काव
राजधानी और उसके आस-पास खेती करने के तौर तरीकों में बदलाव आ रहा है। अब इस बदलाव को स्व सहायता समूहों तक ले जाया जाएगा। जिससे उनकी आय तो बढ़ेगी ही, किसान सस्ते में ड्रोन से अपने खेत में कीटनाशक और यूरिया डलवा सकेंगे। अभी ये काम निजी कंपनी के पास है, जो मनमानी दर पर खेतों में यूरिया और कीटनाशकों का छिड़काव कर रहे हैं।

आसान होगी राह, दवा का मानक एक सा रहेगा
कृषि विभाग की उपसंचालक सुमन प्रसाद ने बताया कि एक मजदूर एक दिन में ढाई एकड़ खेत में कीटनाशक या यूरिया का छिड़काव कर पाता है। इसके लिए उसे 30 से 40 बार पंप भी भरना होता है। ऐसे में उसका मिश्रण का अनुपात भी कभी कभार गड़बड़ा जाता है। लेकिन ड्रोन से ये काम मात्र 20 मिनट में हो जाता है। राजधानी में 1.47 हेक्टेयर खेती का रकबा है इसमें सबसे ज्यादा 1.42 लाख हेक्टेयर में गेहूं होता है। इसके बाद जौ, चना, मसूर, मटर, सरसों और अलसी की फसल होती है। इसमें ड्रोन से दवा और कीटनाशकों का छिड़काव करने से समय और दवा की क्वांटिटी भी सही रहेगी।

वर्जन
खेती में ड्रोन का उपयोग कर स्व सहायता समूहों की आय बढ़ाई जाएगी। इसका लाभ किसानों को काफी मिलेगा। ये प्रक्रिया जल्द ही शुरू हो जाएगी।
आशीष सिंह, कलेक्टर

ट्रेंडिंग वीडियो