पूर्व मंत्री शर्मा ने त्यागा एक समय का भोजन

शर्मा ने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री से प्रेरित होकर उन्होंने यह संकल्प लिया है। जैसे हमने तब देश के लिए अनाज की जंग जीती थी, वैसे ही हम मिलकर कोरोना के खिलाफ जंग जीतेंगे।

भोपाल। पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने संकल्प लिया है कि वे लॉकडाउन में अपने परिवार के साथ एक समय के भोजन का त्याग करेंगे। वे एक समय का भोजन जरूरतमंदों और गरीबों को वितरित करेंगे।

शर्मा ने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री से प्रेरित होकर उन्होंने यह संकल्प लिया है। जैसे हमने तब देश के लिए अनाज की जंग जीती थी, वैसे ही हम मिलकर कोरोना के खिलाफ जंग जीतेंगे। उन्होंने आमजन और कांग्रेसियों से आव्हान किया कि वे भी यदि एक समय का भोजन त्याग कर अपने आसपास के जरूरतमंदों, गरीबों को दें तो उनके सामने खाने का संकट समाप्त हो जाएगा। शर्मा ने अपने विधानसभा क्षेत्र में गरीब गरीब, असहाय, निर्धन, भूखों के लिए रसाई घर भी शुरू किया है। यहां प्रतिदिन 3 हजार गरीबों का भोजन तैयार होकर मोहल्लों, फुटपाथ पर रहकर गुजर बसर करने वालों को वितरित किया जाता है।

गांव से हो फसल की खरीदी -
पूर्व मंत्री शर्मा ने कहा कि किसानों की फसल कट चुकी है, लेकिन लॉकडाउन के चलते किसान मण्डी में नहीं आ रहे हैं, ऐसे में उनकी फसल गांव में खरीदने की व्यवस्था सरकार करे। साथ ही उन्होंने किसानों को 160 रुपए बोनस दिए जाने की मांग करने के साथ किसानों का कर्ज माफ किए जाने की मांग भी है।

शर्मा का कहना है कि कमलनाथ सरकार ने चरणबद्ध तरीके से दो लाख रुपए का कर्ज माफ करने का निर्णय लिया था। प्रथम चरण का कर्ज माफ हो चुका है। एक अन्य सवाल पर उन्होंने शिवराज सरकार को आड़े हाथों लेते हुए पूर्व मंत्री शर्मा ने कहा कि कमलनाथ सरकार ने कर्मचारियों को 5 प्रतिशत डीए देने का निर्णय लिया था, लेकिन शिवराज सरकार ने इस आदेश को रद्द कर कर्मचारी विरोधी होने का सबूत दे दिया है।

दीपेश अवस्थी Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned