scriptGood news for farmers, changed system of buying grains | किसानों के लिए अच्छी खबर, अनाज खरीदी की फिर बदली व्यवस्था | Patrika News

किसानों के लिए अच्छी खबर, अनाज खरीदी की फिर बदली व्यवस्था

कारोबारियों की जमाखोरी पर लगी लगाम, एकाधिकार से बचे किसान

 

भोपाल

Published: November 30, 2021 10:37:07 am

भोपाल. कृषि कानून वापस होने से निजी कंपनियों के मंडी बाजार में एकाधिकार से किसानों और आम जनता को बचाया जा सकेगा। पिछले आठ माह के अंदर कानून पर अमल होने से कई किसानों से अनाज खरीदने के बाद उन्हें पूरा भुगतान करने के बजाय कारोबारी गायब हो गए। किसानों के लिए सबसे अच्छी बात यह है कि अनाज खरीदी की व्यवस्था फिर बदली है. अब मंडी के लाइसेंसधारी कारोबारी ही अनाज किसानों से खरीदेंगे और उन्हें मंडी को खरीदी के संबंध में रिकार्ड भी देना होगा। वे जमाखोरी नहीं कर पाएंगे।

kisan.png

कृषि कानून लागू होने से पहले तक ए-ग्रेड के कारोबारी 50 मिट्रिक टन ही एक तरह के अनाज का स्टॉक कर सकते थे। अनाज भंडारण की लिमिट समाप्त कर दी थी। अब किसान पहले की तरह मंडी में पूर्व की तरह अनाज लेकर आएगा, जो व्यापारी ज्यादा भाव देगा उसे वह माल बेचेगा। किसानों को उनके अनाज का पूरा पैसा दिलाने देने की जिम्मेदारी मंडी की होगी। कानून लागू रहने के दौरान अगर कारोबारी किसान का पैसा लेकर गायब हो गया, तो किसानों को उसको खोजना पड़ता था।

इस संबंध में मध्य प्रदेश राज्य कृषि विपणन (मंडी ) बोर्ड के एमडी विकास नरवाल के अनुसार मध्यप्रदेश में मंडियां पूर्व की तरह अपना कारोबार कर रही हैं। मंडियों में किसानों को किसी तरह की दिक्कतें न हो, इसकी पूरी व्यवस्थाएं की जा रही हैं।

kisan2.jpgजून 2020 को प्रदेश में लागू हुआ कानून -
मध्य प्रदेश सरकार ने इस कानून पांच जून 2020 को लागू किया था। सुप्रीम कोर्ट में स्टे होने के बाद सरकार ने 12 जनवरी 2021 को इस कानून पर रोक लगाते हुए पुरानी व्यवस्था बहाल कर दी थी, जो अभी तक लागू है। इससे मध्य प्रदेश के मंडियों की हालत खराब हो गई। जहां मंडियों को अनाज कारोबार के टैक्स से 12 सौ करोड़ रूपए मिलते थे, वहीं इस कृषि कानून से मंडियों की आय 600 करोड़ रूपए से भी कम हो गई।
Must Read- कोरोना का खतरनाक रूप, न बुखार और न अन्य कोई लक्षण, जांच में पॉजिटिव मिल रहे रोगी

निजी हाथों में जाने से बची 259 मंडियां -
प्रदेश में 259 मंडियां हैं। कानून लागू होने को लेकर इनका कारोबार और अनाज की आवक कम हो गयी थी। डेढ़ सौ मंडियों में कर्मचारियों के वेतन के लाले पड़ गए। किसान और मंडी कारोबारियों को लगने लगा था कि कानून लागू होने से ये मंडियां निजी कंपनियों के हाथों में चली जाएगी। अब केन्द्र सरकार के फैसले से इन मंडियों में कर्मचारियों और किसानों में एक नहीं ऊर्जा पैदा हुई है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.