एमपी उपचुनाव- इन 24 सीटों में छिपी है मध्यप्रदेश की सत्ता की 'चाबी'

मध्यप्रदेश में उपचुनाव (by election in mp) को लेकर सरगर्मियां दिनों दिन तेज हो रही हैं। बीजेपी और कांग्रेस प्रदेश की 24 सीटों पर होने वाले उपचुनाव (by election) की तैयारियों में जुटी हुई हैं। ये पहली बार है जब प्रदेश में इतने बड़े स्तर पर उपचुनाव होने हैं।

By: Shailendra Sharma

Published: 12 Jun 2020, 05:27 PM IST

भोपाल. मध्यप्रदेश में इन दिनों कोरोना संकट के साथ साथ उपचुनाव (by election in mp) को लेकर सरगर्मियां एकाएक तेज हो गई हैं। बीते कुछ दिनों में उपचुनाव (by election in mp 2020) को लेकर बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही पार्टियां तेजी से तैयारियों में जुट गई हैं। दोनों पार्टियों की कोशिश उपचुनाव में ज्यादा से ज्यादा सीट हासिल करने की है और इसके लिए दोनों ही पार्टी के नेता जमीनी स्तर पर उतर गए हैं। पार्टियों का प्रचार तेज हो गया है और अपने अपने पक्ष में माहौल बनाने की कोशिश भी बीजेपी-कांग्रेस की ओर से की जा रही है।

 

 

bjp_4317077_835x547-m.jpg

इन 24 सीटों में छिपी सत्ता की 'चाबी'
जिन 24 सीटों पर उपचुनाव (mp by election 2020) होने अगर उनकी बात करें तो उनमें जौरा, सुमावली, मुरैना, दिमनी, अंबाह, मेहगांव, गोहद, सुरखी, ग्वालियर, ग्वालियर पूर्व, डबरा, भांडेर, करेरा, पोहरी, बामोरी, अशोकनगर, मुंगावली, अनूपपुर, सांची, आगर, हाटपिपल्या, सुवासरा, बदनावर और सांवेर शामिल हैं।

 

 

mla_1.jpg

22 सीटों पर विधायकों ने दिया इस्तीफा
मध्यप्रदेश में 24 सीटों पर होने वाले उपचुनाव (by election) में 22 सीटें ऐसी हैं जिन पर विधायकों के इस्तीफा देने के कारण उपचुनाव होगा। जौरा और आगर को छोड़ दें तो बाकी बची 22 सीटें ऐसी हैं जिनके विधायक कमलनाथ सरकार को छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गए हैं और उन्होंने विधायकी से इस्तीफा दे दिया है।

 

 

bjp_mla_2.jpg

सिंधिया के समर्थन में छोड़ी विधायकी
ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में शामिल होने के बाद मध्यप्रदेश की 22 सीटों के विधायकों ने भी कांग्रेस का हाथ छोड़ दिया और कमल थाम लिया। एक साथ 22 विधायकों के इस्तीफे से प्रदेश की कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गई और सत्ता खो बैठी। जिन विधायकों ने सिंधिया के समर्थन में पार्टी छोड़ी उनके नाम एंदल सिंह कंषाना (सुमावली), प्रद्युम्न सिंह तोमर (ग्वालियर), इमरती देवी (डबरा), महेन्द्र सिंह सिसौदिया (बमोरी), गोविंद सिंह राजपूत (सुरखी), प्रभुराम चौधरी (सांची), तुलसीराम सिलावट (सांवेर), रघुराज कंषाना (मुरैना), गिर्राज डण्डौतिया (दिमनी), कमलेश जाटव (अंबाह), ओपीएस भदौरिया (मेहगांव), रणवीर जाटव (गोहद), मुन्नालाल गोयल (ग्वालियर पूर्व), रक्षा संतराम सरौनिया (भांडेर), जसमंत जाटव छितरी (करेरा), सुरेश धाकड़ (पोहरी), जजपाल सिंह जज्जी (अशोकनगर), बृजेन्द्र सिंह यादव (मुंगावली), बिसाहूलाल साहू (अनूपपुर), मनोज नारायण सिंह चौधरी (हाटपिपल्या), राजवर्धन सिंह दत्तीगांव (बदनावर), हरदीप सिंह डंग (सुवासरा) हैं। इनमें से तुलसीराम सिलावट, गोविंद सिंह, प्रभुराम चौधरी, इमरती देवी, प्रद्युम्न सिंह तोमर और महेन्द्र सिंह सिसौदिया तो कमलनाथ सरकार में मंत्री भी थे।

 

 

02_3.png

जौरा और आगर में भी उपचुनाव
जौरा और आगर सीट पर भी उपचुनाव होने हैं, जौरा से कांग्रेस के बनवारी लाल शर्मा विधायक थे जिनका कैंसर की बीमारी के चलते दिसंबर में देहांत हो गया था। आगर सीट मनोहर ऊंटवाल के निधन के बाद रिक्त हुई है। ऐसे में अब इन दोनों सीटों पर भी उपचुनाव होने हैं।

Amit Shah BJP Congress
Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned