scriptPeople were being injured by falling into the pit, debris was thrown | गड्ढे में लोग गिरकर हो रहे थे घायल, डाला मलबा | Patrika News

गड्ढे में लोग गिरकर हो रहे थे घायल, डाला मलबा

locationभोपालPublished: Dec 11, 2023 08:02:53 pm

Submitted by:

Rohit verma

अवधपुरी सरला स्टेट के रहवासियों की पहल, दूसरों के लिए मिशाल
कहते हैं कि बूंद- बूंद से घड़ा भरता है। इस कहावत को भेल क्षेत्र के अवधपुरी स्थित सरला स्टेट के रहवासियों ने रविवार को चरितार्थ किया। इनकी कलोनी से दूर होने के बाद भी यहां के रहवासी मलवा इकट्ठ कर सडक़ पर हो चुके गड्ढों को भरा और पाट कर सडक़ को समतल किया। बता दें कि कॉलोनी के करीब २० रहवासियों के साथ ही अन्य लोगों ने अपने-अपने दो पहिया वाहनों से बोरियों में भर कर मलबा ले गए और सडक़ पर हो चुके गड्ढों की पूरनी की।

sarla_state.jpg
स्ट्रीट लाइट नहीं जलने से छाया रहता है अंधेरा
रीगल टाउन से सरला स्टेट के लिए जाने वाली सडक़ पर स्ट्रीट लाइट नहीं जलने से शाम होते ही अंधेरा हो जाता है। सडक़ पर हो चुके गड्ढे यहां से आवाजाही करने वाले दो पहिया वाहन चालकों और राहगीरों के लिए मुसीबत बन रहे हैं। रात के अंधेरे में सडक़ दिखाई नहीं देने से लोग गिरकर घायल हो रहे हैं।
दो पहिया वाहनों से लेकर पहुंचे मलबा
जिम्मेदारों द्वारा अब तक इस ओर ध्यान नहीं दिए जाने से निराश होकर लोगों ने खुद सडक़ के गड्ढों को भरने का निर्णय लिया और रविवार सुबह कॉलोनी के लोग इकट्ठा हुए। अपने-अपने वाहनों से घरों से निकलने वाली ईंट- पत्थर और मलबा लेकर सडक़ के गड्ढों को पाटने निकल पड़े। लोगों को यह सब करते देख आसपास की कॉलोनियों के लोग भी अपने-अपने घरों से मलबा लाकर पहुंचे और सडक़ के गड्ढों को पाटना शुरू किया। इस दौरान बड़ी संख्या में मदद के लिए लोग इकट्ठा हो गए। रहवासियों का कहना है कि कई बार जिम्मेदारों से शिकायत करने के बाद भी इस ओर ध्यान नहीं दिए जाने से लोगों की समस्या जस की तस बनी हुई है।
रहवासी सिस्टम से हारे तो खुद लिया निर्णय
सरला स्टेट के रहवासियों ने बताया कि सडक़ पर बड़े-बड़े गड्ढे हो चुके हैं। सीमेंटेड सडक़ होने से यहां से आवाजाही करने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। महिलाएं और बच्चे दो पहिया वाहनों से आए दिन गिरकर घायल हो रहे हैं। इस सडक़ की मरम्मत कराए जाने को लेकर हम लोगों ने नगर निगम के जिम्मेदार अधिकारियों के साथ क्षेत्रीय विधायक, महापौर, पार्षद तक से सडक़ सुधरवाने की मांग कर चुके हैं।
कई कॉलोनियों के लोगों का आना-जाना
गौरतलब है कि इस सडक़ से कई कॉलोनियों के रहवासियों के साथ ग्रामीण क्षेत्र के लोगों का आना-जाना होता है। इसमें सरला स्टेट, रीगल नेक्सट, सरला इलाइट, रीगल तुलसी, रीगल कस्तूरी हैबिटेट, रीगल कस्तूरी फेस- २, शिव संगम नगर सहित अन्य कॉलोनियों के करीब एक हजार परिवार के चार हजार से ज्यादा लोगों का आना- जाना होता है। सडक़ जर्जर होने से वाहन चालकों और राहगीरों को परेशान होना पड़ रहा है।
रीगल टाउन से सरला स्टेट की ओर जाने वाली सडक़ पूरी तरह जर्जर हो चुकी है। सडक़ पर बड़े - बड़े गड्ढे होने से चलना मुश्किल हो रहा है। इसके लिए नगर निगम के जिम्मेदार अधिकारियों तक को अवगत करा चुके हैं। क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों से भी मरम्मत कराने की मांग कर चुके हैं, पर आज तक सडक़ की मरम्मत नहीं कराई गई। ऐसे में खुद ही गड्ढे भरने पहुंच गए।
सबींद्र राणा, रहवासी सरला स्टेट कॉलोनी
हम लोग महापौर, विधायक पार्षद को अवगत कराने के बाद भी सडक़ की मरम्मत नहीं कराए जाने से परेशान होकर खुद सडक़ के गड्ढों को भरने का निर्णय लिया। रविवार सुबह कॉलोनी के लोग अपने-अपने दो पहिया वाहनों से मलबा लेकर पहुंचे और सडक़ों की पूरनी की। इसमें र्की अन्य कॉलोनियों के लोगों ने भी सहभागिता निभाई।
सुशील दुबे, रहवासी सरला स्टेट कॉलोनी
रीगल टाउन से सरला स्टेट की ओर जाने वाली सडक़ पर स्ट्रीट लाइट नहीं जलने से शाम होते ही अंधेरा छा जाता है। ऐसे में सडक़ पर हो चुके गड्ढों के कारण चलना मुश्किल होता है। दो पहिया वाहन चालक गिर कर घायल हो रहे हैं। कई बार अवगत कराने के बाद भी न नगर निगम के जिम्मेदार अधिकारी इस ओर ध्यान दे रहे हैं न ही क्षेत्रीय जनप्रतिनिध सुध ले रहे हैं।
देवेंद्र सिंह सिकरवार, रहवासी सरला स्टेट कॉलोनी

ट्रेंडिंग वीडियो