scriptPM Modi returned the financial aid sent | पीएम मोदी ने भेजी आर्थिक सहायता, परिजनों ने पत्र लिखकर लौटाई | Patrika News

पीएम मोदी ने भेजी आर्थिक सहायता, परिजनों ने पत्र लिखकर लौटाई

पीडि़त परिवार ने पीएम से मिली आर्थिक सहायता को एक पत्र लिखकर लौटा दिया।

भोपाल

Published: May 26, 2022 04:38:57 pm

भोपाल. मध्यप्रदेश के खरगोन जिले के बड़वाह निवासी एक परिवार ने अपने बच्चे के इलाज के लिए पीएम मोदी से आर्थिक सहायता की गुहार लगाई थी, लेकिन वह आर्थिक सहायता आई तब तक उनका बच्चा इलाज के अभाव में दुनिया छोड़ चुका था, ऐसे में पीडि़त परिवार ने पीएम से मिली आर्थिक सहायता को एक पत्र लिखकर लौटा दिया।

पीएम मोदी ने भेजी आर्थिक सहायता, परिजनों ने पत्र लिखकर लौटाई
पीएम मोदी ने भेजी आर्थिक सहायता, परिजनों ने पत्र लिखकर लौटाई

हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी निवासी शर्मा परिवार ने जवान बेटे को 25 दिन पहले खो दिया है। बेटे कार्तिक शर्मा को मल्टी ऑर्गन फैलियर होने की वजह से पहले इंदौर फिर मुंबई और लंग्स ट्रांसप्लांट के लिए एयरलिफ्ट कर हैदराबाद ले जाया गया। तीन महीने तक इलाज में बेटे कार्तिक को बचाने के लिए उसके पिता राजेश शर्मा ने अपनी सारी जमा पूंजी खर्च कर दी। लंग्स ट्रांसप्लांट के लिए 48 लाख रुपए की जरुरत थी। इसके लिए राजेश ने 28 मार्च 2022 को राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह के माध्यम से पीएम मोदी को पत्र लिखकर मदद की गुहार लगाई थी। 9 अप्रैल को मदद के अभाव में कार्तिक की मौत हो गई। उसकी मौत के 25 दिन बाद अब परिवार को पीएम मोदी का 50 हजार रुपए की राशि का सैद्धांतिक स्वीकृति पत्र मिला। इसे परिवार ने पुन: पीएम को पत्र लिखकर अस्वीकार कर दिया।

यह भी पढ़ें : 6 रुपए यूनिट में चार्ज होंगे ई व्हीकल, पेट्रोल-डीजल से कम खर्च में चलेंगे वाहन

पीएम के पत्र में लिखी कुछ पंक्तियों की भाषा शैली पर भी परिवार के लोग आहत नजर आए। उन्होंने निवेदन किया कि पीएम किसी जरूरतमंद परिवार से इस तरह की शैली में पत्र व्यवहार न करें। ताकि परिवार को संबल मिलने के बजाय पीड़ा हो। युवक के पिता राजेश ने पीएम को लिखे जवाबी पत्र में पीड़ा व्यक्त करते हुए लिखा है किए आपका पत्र पढ़कर उतना ही दु:ख हुआ, जितना पुत्र की मृत्यु पर हुआ था। आपने मेरे बेटे को प्रधानमंत्री राहत कोष से उसकी मृत्यु के उपरांत मात्र 50 हजार रुपए की सहायता स्वीकृत करके हमारे परिवार को जिंदगी भर के लिए ऋणी बना दिया है। मेरा बेटा आपका ऋण चुकाने के लिए इस दुनिया में नहीं है। ऋण के बोझ को सहने में असमर्थ हूं। उचित सहायता समय पर और आपके इतने बड़े एहसान के बगैर मिलती तो ऋण के बोझ को उठाने का साहस जुटा पाते। बिलों का भुगतान हो चुका है। स्वीकृत राशि को विनम्रतापूर्वक अस्वीकार करता हूं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics: महाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने देवेंद्र फडणवीस के डिप्टी सीएम बनने की बताई असली वजह, कही यह बातMonsoon/ शहर में साढ़े आठ इंच बारिश से सडक़ों पर सैलाब जैसा नजारा, जन जीवन प्रभावित2 जुलाई को छ.ग. बंद: उदयपुर की घटना का असर छत्तीसगढ़ में, कई दलों ने खोला मोर्चाENG vs IND Edgbaston Test Day 1 Live: ऋषभ पंत के शतक की बदौलत भारतीय टीम मजबूत स्थिति मेंUdaipur Murder: जयपुर में हिन्दुओं की हुंकार से हिला प्रशासन, प्रदर्शन के चलते सुरक्षा एजेंसियां अलर्टएमपी में 3 साल में बन जाएंगे 21 फ्लाई ओवर, जानिए किन शहरों में मिली निर्माण की मंजूरीबीईओ का रिटायर्ड शिक्षक से रिश्वत मांगने का ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल, 60 हजार की थी डिमांडMumbai Rain: IMD की बड़ी भविष्यवाणी, मुंबई में अगले 24 घंटे में मूसलाधार बारिश होने की संभावना
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.