मरीजों को नि: शुल्क अस्पताल पहुंचाकर मानव सेवा की मिसाल कायम करने वाले जावेद पर कार्रवाई, पत्नी के गहने बेचकर बनाया ऑटो एंबुलेंस

रियल हीरो पर पुलिस का एक्शन : ऑटो एम्बुलेंस चलाने वाले जावेद पर पुलिस ने भोपाल की छोला थाना पुलिस ने की कार्रवाई, पुलिस ने कहा- बिना अनुमति ऑटो में सिलेंडर रखने की अनुमति नहीं, की धारा 188 के तहत कारर्वाई। घटना का वीडियो वायरल...।

By: Faiz

Published: 01 May 2021, 05:23 PM IST

भोपाल/ कोरोना महामारी के इस दौर में जब कई लोग जब अपने सगों को छोड़ दे रहे हैं, वहीं आपदा में अवसर तलाशने वाले कई निजी एंबुलेंस संचालक लोगों को अस्पताल छोड़ने के नाम पर कई बार दस गुना तक किराया वसूल रहे हैं। ऐसे में अपनी पत्नी के गहने बेचकर कोरोना संक्रमितों को अपने ऑटो से निः शुल्क अस्पताल पहुंचाने वाले जावेद खान नामक ऑटो चालक के खिलाफ पुलिस ने कारर्वाई की है। एक तरफ इंसानियत की ऐसी मिसाल पेश करने वाले जावेद खान को देशभर में लोग सलाम कर रहे हैं, तो वहीं पुलिस का उन्हें गिरफ्तार करने के पीछे तर्क ये है कि, वो भले ही लोगों की सेवा कर रहे हैं, लेकिन उन्होंने ऑटो में ऑक्सीजन सिलेंडर लगाने की अनुमति नहीं ली है।

 

पढ़ें ये खास खबर- कोरोना के बीच सरकार की राहत : रजिस्ट्री गाइडलाइन 30 जून तक बढ़ी, महिलाओं को मिलता रहेगा ये खास फायदा

देखें खबर से संबंधित वीडियो...

पुलिस ने की धारा 188 के तहत कार्रवाई

News

घटना का एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें ऑटो ड्राइवर जावेद खान शहर के छोला थाना पुलिस से अपील करते हुए नजर आ रहे हैं कि, उन्हें मरीज को लेने के लिये अस्पताल जाना हैं। उन्होंने मरीजों की निशुल्क सेवा के लिये अपने ऑटो को एंबुलेंस की सुविधाओं से लेस किया है। यही कारण है कि, उनके ऑटो में ऑक्सीजन टैंकर भी लगा है। लकिन, पुलिस का कहना है कि, ऑटो में ऑक्सीजन की अनुमति नहीं है, इसलिये उन्हें मरीज को लेने भी नहीं जाने दिया जाएगा। ऑटो चालक जावेद खान के मुताबिक, पुलिस द्वारा उनके खिलाफ बिना अनुमति सिलेंडर रखने की वजह से धारा 188 के तहत कार्रवाई की गई है।

 

पढ़ें ये खास खबर- वृद्धाश्रम में रहते हैं 40 बुजुर्ग 18 निकले संक्रमित, कई वृद्धों को गंभीर हालत में किया गया अस्पताल में भर्ती


सोशल मीडिया पर पुलिसिया कार्रवाई की आलोचना

News

उस समय जब आपदा में अवसर तलाशने वाले कई एंबुलेंस संचालक मरीजों को अस्पताल पहुंचाने के नाम पर मौटी रकम वसूल रहे हैं, ऐसे हालात में भोपाल के रहने वाले ऑटो चालक जावेद अपने रिक्शा से उन मरीजों को फ्री में अस्पताल पहुंचाने का काम कर रहे हैं, जिन्हें ऐसी स्थिति में भी समय पर एंबुलेंस नहीं मिल पा रही। इस मुश्किल घड़ी में लोगों की मदद के लिये जावेद ने अपनी पत्नी के गहने बेचकर भी मानव सेवा को प्राथमिकता देकर ये साबित कर दिया कि, कुछ लोग भले ही जेब से नहीं लेकिन दिल से बहुत अमीर होते हैं! सोशल मीडिया पर जहां एक तरफ जावेद के सेवा कार्य की सराहना की जा रही है, तो वहीं उनके खिलाफ हुई पुलिसिया कार्रवाई की आलोचना भी होने लगी है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned