बयान पर सियासत: धरने पर बैठे शिवराज, सिंधिया, कई शहरों में मौन रही भाजपा, देखें अपडेट

कमलनाथ की टिप्पणी के विरोध में भाजपा का मौन धरना, दो घंटे ग्वालियर, इंदौर और भोपाल में भाजपा ने रखा मौन...।

By: Manish Gite

Published: 19 Oct 2020, 03:10 PM IST

 

भोपाल। प्रदेश की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव से पहले प्रचार का दौर तेज चल रहा है। नेताओं के शब्दबाण चल रहे हैं, इस बीच कमलनाथ के बयान के बाद राजनीतिक गर्मा गई है। कमलनाथ ने डबरा से भाजपा प्रत्याशी को आइटम कर दिया था, इसके बाद भाजपा ने इसे महिलाओं का अपमान बताते हुए मोर्चा खोल दिया है। भाजपा ने कई जिलों में कमलनाथ के बयान के खिलाफ मौन व्रत का आयोजन किया। यह मौन व्रत इंदौर, ग्वालियर और भोपाल में भी देखने को मिले। सभी जगह तख्तियों में लिखा था -माता-बहनों का जो करे अपमान, शास्त्र कहे, वो है शैतान समान। मातृ शक्ति का अपमान, नहीं सहेगा हिन्दुस्तान।

आइटम पर सियासतः कमलनाथ बोले- हमारे मंच पर भी ये आइटम नंबर -1 बैठे हैं

भोपालः मौन व्रत पर बैठे शिवराज

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सोमवार को पुरानी विधानसभा भवन (मिंटो हाल) परिसर में धरने पर बैठे। चौहान के साथ ही मंत्री विश्वास सारंग, गोविंदपुरा विधायक कृष्णा गौर समेत बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता भी धरने पर बैठे थे। चौहान ने कहा कि मेरा अपमान सह लूंगा, लेकिन आज कमलनाथ आपने अन्याय की अति की है, पराकाष्ठा की है। ग्वालियर चंबल की माटी की एक बहन, एक बेटी का अपमान किया है। इमरती देवी गरीब के घर पैदा हुई है। इमरती मजदूरी करके विधायक बनी हैं और फिर मंत्री बनी हैं। इमरती देवी अनुसूचित जाति में पैदा हुई, लेकिन किसी गरीब की बेटी का अपमान करने का अधिकार तुम्हें किसने दिया? शर्म आनी चाहिए।

इंदौरः मौन व्रत पर बैठे सिंधिया

इंदौर में राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मौन व्रत में बैठे। उनके साथ समर्थक अपने हाथों में तख्ती लेकर बैठे थे। रीगल चौराहे पर गांधी प्रतिमा के सामने मौन व्रत पर बैठे ज्योतिरादित्य के साथ सांसद शंकर लालवानी, मंत्री तुलसी राम सिलावट, विधायक रमेश मेंदोला और अन्य भाजपा नेता भी मौजूद थे। इस मौके पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि कमलनाथ ने इमरती देवी को आइटम कहकर अनुसूचित जाति, दलित वर्ग का अपमान किया है। इस मौके पर सिंधिया ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और अजय सिंह को भी टारगेट पर लेते हुए कहा कि कमलनाथ ने इस तरह का बयान देकर मध्यप्रदेश के माथे पर कलंक लगाया है। सिंधिया ने कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी से कमलनाथ पर कार्रवाई करने की भी मांग की। उन्होंने कहा कि यदि सोनिया गांधी एक्शन नहीं लेती हैं तो ये पता चल जाएगा कि कांग्रेस की कथनी और करनी में क्या फर्क है। इससे पहले सिंधिया ने धरने की शुरुआत में महात्मा गांधी के चित्र पर माल्यार्पण किया। उनके साथ सैकड़ों महिलाएं भी धरना स्थल पर मौजूद थीं। सभी के हाथों में तख्तियां थीं, जिसमें महिलाओं का अपमान नहीं सहने की बात कही गई गई है।


ग्वालियरः वीडी शर्मा और तोमर बैठे धरने पर

ग्वालियर में भी सोमवार को भाजपा का मौन धरना आयोजित किया गया। इसमें भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा धरने पर बैठे। साथ में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी धरने पर बैठे। उनके साथ जयभान सिंह पवैया भी इस धरने में शामिल हुए।

 

ऐसे शुरू हुई जंग

रविवार को ग्वालियर जिले की डबरा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी सुरेश राजे के समर्थन में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ सभा करने पहुंचे थे। इस दौरान भाजपा प्रत्याशी और शिवराज सरकार की मंत्री इमरती देवी का नाम लेने से कमलनाथ कतराते रहे। कमलनाथ ने कहा कि हमारे राजे (कांग्रेस के प्रत्याशी सुरेश राजे) तो सीधे-सादे और सरल व्यक्ति हैं। ये उनके जैसे नहीं हैं। मैं क्यों उसका नाम लूं। इतने में लोग बोले-इमरती देवी। इस पर हंसते हुए नाथ बोले- आप लोग मेरे से ज्यादा उसको पहचानते हैं। आप लोगों को तो मुझे पहले ही सावधान कर देना चाहिए था। वह क्या आइटम है।

 


कमलनाथ बोले- हमारे मंच पर भी ये आइटम नंबर -1 बैठे हैं

खंडवा। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सोमवार को कहा कि शिवराज सिंह बहाना ढूंढ रहे हैं कि मैंने किसी का अपमान कर दिया है। उन्होंने अपनी सभा में मंच पर बैठे नेताओं के नाम लेकर कहा कि आज हमारे मंच पर आइटम नम्बर-1 थे राजनारायण सिंह। आइटम नम्बर-2 थे अजय सिंह। ऐसा बोलना क्या किसी का अपमान है? मैं तो सच्चाई के साथ पोल खोलता हूँ।

mp by election 2020 mp by election 2020 date Jyotiraditya Scindia
Show More
Manish Gite
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned