विधानसभा चुनाव 2018, जमीन मज़बूत करने प्रदेश आएंगे अखिलेश यादव

विधानसभा चुनाव 2018, जमीन मज़बूत करने प्रदेश आएंगे अखिलेश यादव

Faiz Mubarak | Publish: Jun, 14 2018 11:15:04 AM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

विधानसभा चुनाव 2018, जमीन मज़बूत करने प्रदेश आएंगे अखिलेश यादव

भोपालः मध्य प्रदेश की राजनीति के लिए साल 2018 बेहद अहम साल है। क्योंकि, इस साल तय होगा कि, आगामी पांच साल के लिए प्रदेश की राजनैतिक बागडोर किसके हाथ में रहेगी। साल के अंत तक राज्य में विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में सभी पार्टियां अपनी चुनावी ज़मीन मज़बूत करने में जुट गई हैं। वैसे इस बार प्रदेश में बड़ा चुनावी घमासान होने वाला है। क्योंकि, इस बार देश की लगभग सभी पार्टियां मध्य प्रदेश में अपनी राजनैतिक ज़ोर आज़माइश करने जा रही हैं।

इस दिन राजधानी आएंगे अखिलेश

इसी के चलते उत्तर प्रदेश का विपक्षी दल यानि समाजवादी पार्टी भी प्रदेश में अपना जनाधार बढ़ाने की जुगत में लगी हुई है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस बारे में बताते हुए कहा कि, इस बार समाजवादी पार्टी पूरी ताकत के साथ मैदान में उतरेगी। हालांकि, अभी इस बात की पुष्टी नहीं है कि, वह किसी गठबंधन के साथ मेदान में आएगी या फिर स्वतंत्र। सूत्र इस बारे में बता रहे हैं कि, इस बात की पुष्टी भी जुलाई के अंतिम दिनों में स्पष्ट हो जाएगी। राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मध्य प्रदेश के जिलाध्यक्ष, पार्टी प्रवक्ता और प्रभारियों की बैठक लेते हुए कहा कि, वह ख़ुद जुलाई की 19 से 20 तारीख को जनाधार मज़बूत करने प्रदेश की राजधानी भोपाल आएंगे।

इन बातों पर हुई चर्चा

समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता यश यादव ने बताया कि, लखनऊ स्थित पार्टी कार्यालय में हुई बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रदेश में किस तरह जनाधार बढ़ाया जाए, इस बात को लेकर चर्चा की साथ ही इस बात पर ज़ोर दिया कि, इस बार पार्टी प्रदेश की सभी 230 सीटों पर पूरे दम खम के साथ चुनावी मैदान में उतरेगी। उन्होंने यह भी बताया कि, अखिलेश यादव खुद 19-20 जुलाई को भोपाल आएंगे, जहां इस बात का भी खुलासा हो सकता है कि, पार्टी स्वतंत्र चुनाव लड़ेगी या गठबंधने के साथ, साथ ही, प्रदेश के प्रमुख शहरों में उनकी बैठकें और सभाएं की जाएंगी। बता दें कि, पिछले महीने ही अखिलेश यादव ने पार्टी की स्थिति को लेकर प्रदेश के सभी ज़िलों से मैदानी रिपोर्ट मंगाई थी। यह काम उन्होंने उत्तर प्रदेश के ही पार्टी नेताओं को सौपा था, जिनकी रिपोर्ट भी सभी जिलों के प्रभारी नेता पार्टी अध्यक्ष की मेज़ पर रख चुके हैं, इसके बाद अगर अखिलेश मध्य प्रदेश के चुनाव में रुचि दिखा रहे हैं, तो यह भी स्पष्ट है कि, प्रभारियोें द्वारा पार्टी की मज़बूती को लेकर जो रिपोर्ट पार्टी अध्यक्ष को सौंपी गई है, उसमें उन्हें कोई उम्मीद तो ज़रूूर होगी।

Ad Block is Banned