script शहर से लगे समसगढ़ की साढ़े नौ हेक्टेयर जमीन बायपास के लिए अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू | The process of acquiring nine and a half hectares of land in Samasgarh | Patrika News

शहर से लगे समसगढ़ की साढ़े नौ हेक्टेयर जमीन बायपास के लिए अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू

locationभोपालPublished: Feb 12, 2024 11:12:08 am

भोपाल. पश्चिमी बायपास के भोपाल से जुड़े समसगढ़ क्षेत्र की 9.64 हेक्टेयर जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू कर दी है। एमपीआरडीसी के लिए प्रशासन इस प्रक्रिया को पूरा कर रहा है। पूरे मामले में सबसे चौंकाने वाला तथ्य ये हैं कि बायपास को लेकर क्षेत्रीय विधायक रामेश्वर शर्मा की आपत्ति है और वे डिजाइन में बदलाव की मांग कर रहे थे।

f3f365a3-985a-4748-a703-58f06ce7c241.jpg
जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया का सीधा मतलब है कि तय ले आउट से ही बायपास बनेगा और विधायक की आपत्ति को दरकिनार कर दिया गया है।

41 किमी का अलग हिस्सा बनेगा
- एमपीआरडीसी 41 किमी लंबा पश्चिमी बायपास बना रहा है। ये भोपाल से शुरू न होकर वास्तव में मंडीदीप के पास से इंदौर रोड की ओर निकलेगा। ये सिर्फ नाम का ही बायपास है। वास्तव में यह एक अलग रोड है जो मंडीदीप को इंदौर रोड से जोड़ेगी। मौजूदा बायपास नर्मदापुरम रोड 11 मिल पर खत्म हो जाता है। शर्मा ने आपत्ति ली थी कि 11 मिल से ही आगे इसे बढ़ाकर भोपाल के आसपास पूरा किया जाए ताकि लोगों को अधिकतम लाभ हो। अब ऐसा होता नजर नहीं आ रहा। मौजूदा बायपास को पूरा करने के लिए कोलार से होते हुए रातीबढ़ से आगे इंदौर रोड पर भौंरी बायपास से जोडऩा होगा। प्रस्तावित पश्चिमी बायपास पर पहुंचने के लिए 11 मिल से करीब 20 किमी आगे मौजूदा मंडीदीप रोड से जाना होगा। यहां के बाद नए बायपास की प्रस्तावित लाइन आएगी। ये भी खजूरी सडक़ बाजार के बाद सर्विस रोड की तरह होगी।
एकमात्र राजधानी, जिसकी रिंग रोड पूरी नहीं
- भोपाल एकमात्र राजधानी है जिसकी रिंग रोड पूरी नहीं है। इंदौर में दो से तीन रिंग रोड है। अन्य प्रदेशों की राजधानियों में रिंग रोड है, लेकिन भोपाल में ऐसा नहीं है। पश्चिमी बायपास की गड़बड़ डिजाइन भी इसे पूरा नहीं कर पाएगी। इसके खजूरी के पास एक्सीडेंटल जो बनने की आशंका भी जताई जा रही है।

ट्रेंडिंग वीडियो