हाईकोर्ट ने सरकार और मुख्य सचिव को लगाई फटकार तो सड़क पर उतर आए हजारों लोग, इसके बाद जो हुआ..., देखें वीडियो

हाईकोर्ट ने सरकार और मुख्य सचिव को लगाई फटकार तो सड़क पर उतर आए हजारों लोग, इसके बाद जो हुआ..., देखें वीडियो
हाईकोर्ट

Rahul Chauhan | Updated: 19 Sep 2019, 03:28:13 PM (IST) Bijnor, Bijnor, Uttar Pradesh, India

Highlights:

-हाईकोर्ट ने किसानों की बकाया राशि को लेकर सरकार व मुख्य सचिव को फटकार लगाई है

-कोर्ट ने जल्द ही भुगतान कराने के निर्देश दिए हैं

-इस आदेश से हजारों किसानों के चेहरे खिल उठे हैं

बिजनौर। हाईकोर्ट के फैसले के बाद भारतीय किसान मजदूर संगठन के सैकड़ों किसानों ने गुरुवार को एकजुट होकर एक दूसरे को मिठाई खिलाई। किसानों का कहना है कि हाईकोर्ट द्वारा जो गन्ना भुगतान ब्याज सहित दिलाए जाने के लिए सरकार, प्रमुख सचिव और गन्ना सचिव को जो फटकार लगाई गई है उससे हजारों किसानों को राहत मिली है।

यह भी पढ़ें : युवती ने दोस्ती करने से किया इनकार तो मनचले ने बीच राह पकड़ा हाथ, कपड़े भी फटे

इसके चलते सैकड़ों किसानों ने बिजनौर गन्ना सोसायटी पर आवाज बुलंद करते हुए गन्ने का बकाया भुगतान ब्याज सहित दिलाए जाने की मांग करते हुए हाइकोर्ट फैसले की तारीफ की। साथ ही इस फैसले को लेकर किसानों ने एक दूसरे को मिठाई खिलाकर खुशी का इजहार किया।

यह भी पढ़ें: कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना ने सपा सांसद आजम पर दिया बड़ा बयान, देखें Video

किसान मजदूर संगठन के जिला अध्यक्ष विनोद कुमार ने गन्ना समिति में पहुंचकर किसानों को संबोधित करते हुए हाई कोर्ट फैसले की तारीफ की और बकाया गन्ने के भुगतान को लेकर किसानों के साथ मिलकर रणनीति बनाई। किसानों का कहना है कि किसान हर कीमत पर अपना हक लेकर रहेगा।

यह भी पढ़ें : प्रेमी के साथ शादीशुदा महिला देख रही थी फिल्म, वहीं पहुंच गया पति, पति को देखते ही महिला ने पलट दी बाजी

किसान नेता विनोद कुमार ने बताया कि मिल मालिकों द्वारा किसानों का गन्ने का बकाया भुगतान मिल मालिकों द्वारा काफी समय से नहीं दिया जा रहा है। साथ ही बकाया भुगतान का मिलने वाला ब्याज भी नहीं मिल रहा है। इसको लेकर हाईकोर्ट ने फैसला सुनाया है कि मिल मालिकों द्वारा एक माह के अंदर गन्ने के सभी बकाया भुगतान सहित ब्याज सहित रुपया जिला प्रशासन द्वारा मिल मालिकों से दिलाया जाए। भुगतान ना होने पर मिल मालिकों और जिला प्रशासन के अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned