scriptConstable Committed Suicide In The Bathroom Of Police Post | सिपाही ने पुलिस चौकी के बाथरूम में की खुदकुशी, सुसाइड नोट मिला, यह कारण आया सामने | Patrika News

सिपाही ने पुलिस चौकी के बाथरूम में की खुदकुशी, सुसाइड नोट मिला, यह कारण आया सामने

locationबीकानेरPublished: Dec 09, 2023 01:50:17 am

Submitted by:

Brijesh Singh

गुरुवार को ही मुक्ताप्रसाद थाना पुलिस टीम ने राहगीरों से मोबाइल छीन ले जाने वाले तीन युवकों को पकड़ा था। आरोपियों को पकड़ने वाली टीम में आसुदास भी शामिल था। भाई गणेशदास की रिपोर्ट पर मर्ग दर्ज की गई है। आसुदास के पिछले एक साल से मानसिक रूप से बीमार होने की जानकारी सामने आई है, जिसका इलाज चल रहा है।

सिपाही ने पुलिस चौकी के बाथरूम में की खुदकुशी, सुसाइड नोट मिला, यह कारण आया सामने
सिपाही ने पुलिस चौकी के बाथरूम में की खुदकुशी, सुसाइड नोट मिला, यह कारण आया सामने

शहर के मुक्ताप्रसाद थाना चौकी में तैनात एक सिपाही ने चौकी परिसर में बने बाथरूम में शुक्रवार सुबह आत्महत्या कर ली है। मुक्ताप्रसाद एसएचओ सुरेश कस्वां ने बताया कि थाने के अधीन करणीनगर औद्योगिक क्षेत्र पुलिस चौकी में तैनात काकड़ा निवासी आसुदास (31) पुत्र बजरंगलाल साध (रामावत) ने पुलिस चौकी के बाथरूम में आत्महत्या कर ली। मृतक के पास से एक सुसाइड नोट भी मिला है। गौरतलब है कि गुरुवार को ही मुक्ताप्रसाद थाना पुलिस टीम ने राहगीरों से मोबाइल छीन ले जाने वाले तीन युवकों को पकड़ा था। आरोपियों को पकड़ने वाली टीम में आसुदास भी शामिल था। भाई गणेशदास की रिपोर्ट पर मर्ग दर्ज की गई है। आसुदास के पिछले एक साल से मानसिक रूप से बीमार होने की जानकारी सामने आई है, जिसका इलाज चल रहा है।

साढ़े आठ बजे दिखा था अंतिम बार

एसएचओ कस्वां ने बताया कि चौकी परिसर में शुक्रवार को सिपाही आसुदास साध अकेला ही था। बताते हैं कि सुबह साढ़े आठ-पौने नौ बजे उसे देखा गया था, लेकिन बाद में वह दिखाई नहीं दिया। दोपहर 12 बजे मुक्ताप्रसाद थाने से अन्य कर्मचारी चौकी गए, तो वहां कोई नहीं था। बाथरूम का गेट अंदर से बंद था। तब उन्हें शक हुआ। गेट में झांक कर देखा, तो उसके होश उड़ गए। उन्होंने उच्चाधिकारियों को घटना की जानकारी दी। मौके पर एएसपी सिटी दीपक शर्मा, सीओ सिटी हिमांशु शर्मा, मुक्ताप्रसाद एसएचओ सुरेश कस्वां आदि पहुंचे।

कर्ज से था परेशान

पुलिस के अनुसार, प्रारंभिक जानकारी में सामने आया है कि सिपाही आसुदास को करीब ढाई तीन साल पहले क्रिप्टो करेंसी में 20-30 लाख का घाटा हुआ था। उससे वह काफी हद तक उबर गया था, लेकिन अभी वह फिर से बड़े कर्ज में डूब गया था। यह कर्ज किस तरह का था, अभी कुछ पता नहीं चला है। सूत्रों के मुताबिक, सिपाही आसूदास ने साथी लोगों से रुपए लेकर किसी को आगे ब्याज पर दे रखे थे। वह रुपए वापस नहीं आने पर परेशान रहने लगा। आसूदास तीन भाई-बहन हैं। उसके खुद के दो लड़के हैं, जो आठ व दस वर्षीय हैं।

ट्रेंडिंग वीडियो