script Cyber Crime: ऑनलाइन ठगी का शिकार हुआ शिक्षक, कम टाइम में ज्यादा पैसा कमाने के चक्कर में गवाएं 29,00,000 रुपए | Cyber Crime: Teacher becomes victim of online fraud | Patrika News

Cyber Crime: ऑनलाइन ठगी का शिकार हुआ शिक्षक, कम टाइम में ज्यादा पैसा कमाने के चक्कर में गवाएं 29,00,000 रुपए

locationबिलासपुरPublished: Dec 09, 2023 01:24:19 pm

CG Cyber Crime: लगातार पुलिस विभाग द्वारा ऑनलाइन ठगी से बचने के लिए विभिन्न तरीके से जन जागरूकता अभियान चला रही है। बावजूद इसके जल्दी एवं शॉर्टकट तरीके से रुपए कमाने के चक्कर में लोग आज भी ठगे जा रहे हैं। ऐसा ही एक मामला पेंड्रा थाना क्षेत्र के एक शिक्षक के साथ हुआ, जिसने ऑनलाइन कमाई के चक्कर में 29 लाख रुपए गंवा दिए।

cyber_crime.jpg
Online Fraud: लगातार पुलिस विभाग द्वारा ऑनलाइन ठगी से बचने के लिए विभिन्न तरीके से जन जागरूकता अभियान चला रही है। बावजूद इसके जल्दी एवं शॉर्टकट तरीके से रुपए कमाने के चक्कर में लोग आज भी ठगे जा रहे हैं। ऐसा ही एक मामला पेंड्रा थाना क्षेत्र के एक शिक्षक के साथ हुआ, जिसने ऑनलाइन कमाई के चक्कर में 29 लाख रुपए गंवा दिए।
यह भी पढ़ें

CG Politics : कांग्रेस पूर्व विधायक के बयान पर मचा बवाल, बोले - हार के लिए सैलजा जिम्मेदार, तत्काल हटाया जाए



फ्रॉड का मामला पेंड्रा थाना क्षेत्र का है, जहां प्रार्थी मनोज कुमार प्रजापति जो पेशे से एक शिक्षक हैं, उन्होंने एक शिकायत दर्ज कराई है कि उनके साथ लगभग 29 लाख का फ्रॉड हुआ है।
मामले में जिला पुलिस अधीक्षक योगेश पटेल ने बताया कि पहले उनको एक ट्रेडिंग एप में ट्रेडिंग करने के लिए बोला गया, जिसमें पहले उनसे फ्री ट्रेडिंग कराई गई और कुछ मुनाफा दिखाया गया कि आपको आपके एकाउंट में इस ट्रेडिंग के कारण कुछ मुनाफा हुआ है, जैसे की 1500 रुपए का, फिर उसके बाद जो उन्होंने ट्रेडिंग कराई, उससे उन्होंने ट्रेडिंग की फीस ली। फीस देने के पश्चात जब शिक्षक को कुछ और मुनाफा हो गया जैसे की 4000 का पहला मुनाफा हुआ।
उस मुनाफे को जब वह निकालने के लिए अप्लाई किया तो वेबसाइट संचालक ने बोला कि टैक्स की दिक्कत है। आपकी रकम बहुत छोटी है, नहीं निकल सकती तो ऐसे बहुत सारे प्रकार के शिक्षक से बहाने बनाए गए कि आपको जो ट्रेडिंग का पैसा है, वह नहीं दिया जा सकता। उसके बाद फिर उन्होंने और पैसे डाले और उसके बाद फिर पैसे डालते - डालते जो टोटल अमाउंट इन्वेस्टेड है, वह लगभग 29 लाख हो गया।
उन्होंने कुछ पैसे बैंक से भी लोन लेकर लगाए थे और कुछ पैसे अपने रिश्तेदारों से भी लेकर लगाए थे। जब शिक्षक को लगा कि यह अमाउंट जो मैंने इन्वेस्ट किया है, वह मुझे नहीं मिल सकता, वह फ्रॉड का शिकार हो गया है। उसके बाद शिक्षक पेंड्रा थाने में पहुंचा और अपनी शिकायत दर्ज कराई। इस पूरे फ्रॉड करने में जो शामिल हैं, उनमें कुछ ऐप हैं जैसे कि कॉइनस्विच ऐप को working.com नाम की वेबसाइट इंस्टाग्राम और टेलीग्राम और व्हाट्सएप और साथ ही साथ जो फोन कॉल्स का उसे करके उसको यह भरोसा दिलाया था कि जो वह ट्रेडिंग कर रहे हैं, वह सुरक्षित है। जो पैसा लगा रहे हैं ,वह सुरक्षित है।
परंतु जब वह उस रकम को निकालने में असमर्थ रहे तो उनको पता चला कि वह फ्रॉड का शिकार हो गए हैं। एसपी ने बताया कि थाने पहुंचने पर पूरी जानकारी उनसे ली गई है और लगभग 14 लाख रुपए का अमाउंट पुलिस ने होल्ड कराया है, विभिन्न बैंकों से और साथ ही साथ रेंज साइबर सेल बिलासपुर से लगातार संपर्क में है। पुलिस ने कहा है कि हमारा प्रयास है कि जो अमाउंट है वो प्रार्थी को हम दिला सकें, साथ-साथ जो आरोपी है, उनको भी अपने गिरफ्त में ले सकें। इस प्रकार से जो फ्रॉड किया गया है।
यह भी पढ़ें

खुद का बिजनेस करने के लिए चाहिए लोन? 25 लाख तक मदद कर रही सरकार, इस योजना का ऐसे उठाए लाभ....



एसपी ने की फ्रॉड से बचने की अपील

जिला पुलिस अधीक्षक योगेश पटेल ने अपील की है कि यह सभी के लिए एक सबक साबित होना चाहिए कि किसी प्रकार के लालच में ना आएं और अलग तरीके से लोग आजकल साइबर फ्रॉड करने लगे हैं, जिससे विभिन्न प्रकार के और किसी प्रकार के अननोन कॉल या अननोन वेबसाइट और जहां पर जब भी पैसे के डिमांड करता है कोई उससे हमेशा सजग रहे और अपने पैसों को बचाएं।

ट्रेंडिंग वीडियो