आईएचएसडीपी के 300 से अधिक मकानों में कब्जा, सिर्फ नोटिस का खेल खेल रहे अधिकारी

आईएचएसडीपी के मकानों के आवंटन में लेटलतीफी के कारण रसूखदारों ने कब्जा किया। नगर निगम अधिकारियों ने मकान खाली कराने पिछले 12 महीनों में 3 बार कब्जाधारियों को नोटिस जारी कर चेतावनी दे चुके हैं। अधिकारियों ने इन मकानों को खाली कराने में अब तक रुचि नहीं दिखाई है।

By: Karunakant Chaubey

Published: 26 Oct 2020, 07:15 PM IST

बिलासपुर. गरीब जनता के लिए आईएचएसडीपी योजना के तहत मकानों में पिछले डेढ़ साल से कब्जा रसूखदारों ने कब्जा कर लिया है। इन मकानों को खाली कराने में अधिकारी भी रुचि नहीं ले रहे हैं, तभी तो पिछले 1 साल में निगम ने अवैध कब्जाधारियों को 3 बार नोटिस जारी किया, लेकिन मकान खाली कराने नहीं गए।

शहर और आसपास के क्षेत्रों में आईएचएसडीपी योजना के तहत 6612 मकान बनाए गए हैं। इनमे से करीब 300 से अधिक मकानों का आवंटन नहीं हुआ है। इन मकानों में नगर निगम ने ताला लगाया था। कुछ लोगों ने इन मकानों के तालों को तोड़कर कब्जा कर लिया है।

आईएचएसडीपी के मकानों में अवैध कब्जा, निगम ने मकान खाली करने नोटिस किया चस्पा

आईएचएसडीपी के मकानों के आवंटन में लेटलतीफी के कारण रसूखदारों ने कब्जा किया। नगर निगम अधिकारियों ने मकान खाली कराने पिछले 12 महीनों में 3 बार कब्जाधारियों को नोटिस जारी कर चेतावनी दे चुके हैं। अधिकारियों ने इन मकानों को खाली कराने में अब तक रुचि नहीं दिखाई है। यही कारण है कि कब्जा धारियों में भी मकान खाली करने का कोई डर नहीं है।

2 दिन अल्टीमेटम, 3 दिन बाद भी कार्रवाई नहीं

नगर निगम अधिकारियों ने चिंगराजपारा क्षेत्र में बनाए गए आईएचएसडीपी योजना के तहत मकानों में कब्जा धारियों को मकान खाली करने 22 अक्टूबर को नोटिस चस्पा किया था, नोटिस में 2 दिनों में मकान खाली करने की चेतावनी दी गई थी, साथ ही खाली नहीं कराने पर पुलिस बल के साथ मकान खाली करने कहा गया था। 3 दिन बीतने के बाद भी अधिकारी मकानों में झांकने तक नहीं गए।

मकानों को खाली कराने लागातार नोटिस जारी किया गया। त्यौहारों के मद्देनजर मकान खाली नहीं कराए गए हैं। एेसा करने पर लोग कोर्ट की शरण में चले जाते हैं और स्टे ले लेते हैं। जल्द ही मकानों को खाली कराया जाएगा।

-पीके पंचायत, प्रभारी, योजना प्रकोष्ठ

ये भी पढ़ें: साइबर संबंधी अपराधों के लिए अब नहीं लगाना पड़ेगा थानों का चक्कर, ऑनलाइन पोर्टल से दे सकते हैं सूचना

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned