साइबर संबंधी अपराधों के लिए अब नहीं लगाना पड़ेगा थानों का चक्कर, ऑनलाइन पोर्टल से दे सकते हैं सूचना

अगर लेट हो जाए तो रकम मिलने की सारी संभावना ही समाप्त हो जाती है। ऑन लाइन ठगी के बढ़ते मामले व थानों में अपराध दर्ज देर से होने की शिकायत को देखते हुए पुलिस अधीक्षक ने अब साइबर क्राइम संबंधी अपराध की सूचना देने के लिए वेब पोर्टल लांच किया है।

By: Karunakant Chaubey

Published: 25 Oct 2020, 10:51 PM IST

बिलासपुर. ऑनलाइन ठगी का अपराध होने के बाद पीडि़त कई बार बैंक डिटेल निकालने व थाने पहुंचने में इतना विलम्ब कर देता है कि ठगी किए गए रुपए की रिकवरी लगभग न के बराबर रह जाती है। ठगी की सूचना पुलिस तक तत्काल पहुंच जाए इसके लिए पुलिस अधीक्षक की पहल पर ऑनलाइन पोर्टल की शुरुआत की गई है। पोर्टल पर शिकायत प्राप्त होते ही एसपी कार्यालय से सूचना सीधे साइबर थाने पहुंच जाएगी व विवेचना भी शुरू होगी, पीडि़त बाद में थाने पहुंच मामले में शिकायत दर्ज करवा सकता है।

दूसरी लहर का डर: त्यौहार बाद बिगड़ सकते हैं हालात, 80 प्रति. कोरोना मरीजों में लक्षण ही नहीं थे

ऑनलाइन ठगी के मामले में समय का बहुत महत्व होता है। समय पर अगर ठगी की शिकायत कर दी जाए तो रुपए मिलने की संभावना काफी अधिक होती है। अगर लेट हो जाए तो रकम मिलने की सारी संभावना ही समाप्त हो जाती है। ऑन लाइन ठगी के बढ़ते मामले व थानों में अपराध दर्ज देर से होने की शिकायत को देखते हुए पुलिस अधीक्षक ने अब साइबर क्राइम संबंधी अपराध की सूचना देने के लिए वेब पोर्टल लांच किया है।

पोर्टल के माध्यम से प्राथमिकी सूचना ऑन लाइन पोर्टल साइबर पोलिस डॉट जीओवी डॉट इन पर तत्काल शिकायत कर सकते है। शिकायत सीधे एसपी कार्यालय में पहुंचेगी। एसपी शिकायत से नोडल अधिकारी ऑन लाइन ठगी के मामलों को सीधे साइबर सेल भेजेगी इससे पीडि़त की रकम को २४ घंटे से पहले ही लॉक करवाने सहायता मिले व पीडित की रकम वापसी का रास्ता भी साफ हो सके।

महीने में आती है 15 से 20 शिकायत

पुलिस अधीक्षक कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस की साइबर पोलिस डॉट जीओवी डॉट इन पर हर मिलने लगभग 15 से 20 शिकायत साइबर अपराध के संबंध में प्राप्त हो रही है। पुलिस मामले की गंभीरता से जांच कर लोगों को समझाइश दे रही है की लुभावने ऑफर केवल ठग ही देता है, इससे सावधान रहे।

पहले शिकायत बाद में एफआईआर

साइबर पोलिसडॉट जीओवी डॉट इन चालू करने का उद्देश्य पीडि़त की शिकायत पहले पहुंच जाए इससे कार्रवाई करने में आसानी होगी। शिकायत होने के बाद मामले में कार्रवाई शुरू हो जाएगी। पीडि़त बाद में थाने पहुंच शिकायत दर्ज करा सकता है।

साइबर पोलिस डॉट जीओवी डॉट इन का उद्देश्य ऑनलाइन ठगी व साइबर अपराध के बढ़ते मामले में कमी लाने के उद्देश्य से किया गया है। पोर्टल में शिकायत होने पर तत्काल प्रभाव से कार्रवाई शुरू हो जाती है, क्योंकि देखा जाता है कि कई बार पीडि़त बाहर होता है और थाने नहीं आ पाता। इसके चलते वह एफआईआर दर्ज कराने में काफी लेट कर देता है, इससे रिकवरी होने में परेशानी जाती है। सूचना पर पीडि़त कभी भी थाने पहुंच शिकायत दर्ज करा सकता है।

-प्रशांत अग्रवाल, पुलिस अधीक्षक, बिलासपुर

ये भी पढ़ें: कॉल होते ही इम्यूनाइजेशन सेंटर तक पहुंचेगी वैक्सीन, छोटे कोल्डचेन सेंटर बनाने के लिए सर्वे का काम जोरों पर

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned