LIC Fraud Alert: पॉलिसीधारक भूल से भी न करें ये काम, डूब सकती है जिंदगी भर की कमाई

 

LIC Fraud Alert: पिछले कुछ दिनों से फ्रॉड कॉलर खुद को इंश्योरेंस रेगुलेटर का अधिकारी या एलआईसी का कर्मचारी बताकर पॉलिसीधारकों की जिंदगीभर की कमाई को चूना लगा रहे हैं। इसलिए लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसीहोल्डर्स फ्रॉड कॉल को पूरी गंभीरता से लें।

By: Dhirendra

Updated: 23 Aug 2021, 05:36 PM IST

LIC Fraud Alert: देश के अलग-अलग बैंकों के बाद अब लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसीधारक ( Life Insurance Policyholders ) ऑनलाइन फ्रॉड करने वालों के निशाने पर है। यही वजह है कि एसबीआई, आईसीआईसीआई, पीएनबी, एचडीएफसी व अन्य बैंकों के बार अब लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन ने अपने बीमाधारकों को फ्रॉड अलर्ट ( Fraud alert ) का मैसेज भेजा है। एलआईसी की ओर से जारी मैसेज में कहा गया है कि ऑनलाइन फ्रॉड के साथ ही पॉलिसीधारकों से फ्रॉड की घटनाएं भी बढ़ी हैं। पिछले कुछ दिनों में कई ऐसे मामले सामने आए हैं। इन मामलों में जालसाज बीमाधारकों को कॉल कर रहे हैं और खुद को इंश्योरेंस रेगुलेटर ( IRDAI ) का अधिकारी या एलआईसी ( LIC ) का कर्मचारी बताते हैं। उसके बाद ग्राहकों को भरोसे में लेकर पहले सारी जानकारी लेते हैं। फिर पॉलिसीहोल्डर्स की सारी कमाई निकाल लेते हैं।

पिछले कुछ दिनों से लगातार आ रहे फ्रॉड के मामलों को देखते हुए देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी LIC ने अपने ग्राहकों को अलर्ट जारी किया है। लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन ने अपने ग्राहकों से कहा है कि वो कभी किसी ग्राहक को कोई भी पॉलिसी सरेंडर करने का सुझाव नहीं देता है। एलआईसी प्रबंधन ने ग्राहकों से अपील की है कि वो संदेह वाली कॉल्स को न उठाएं। ग्राहक अपनी पॉलिसी को एलआईसी की आधिकारिक वेबसाइट पर रजिस्टर करा लें और इस बारे में सभी जानकारियां हासिल करें।

Read More: National Pension Scheme: केवल 50 रुपए जमा कर पाएं 34 लाख, ये है पूरा गणित

फेक कॉल आए तो क्या करें?

यदि पॉलिसीधारकों को कोई जानकारी चाहिए तो पहले आप ऑफिशियल वेबसाइट www.licindia.in पर जाकर जरूरी जानकारी हासिल करें। इसकी शिकायत अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन से दर्ज कराएं। इसके अलावा आप इस लिंक [email protected] पर भेजकर रिपोर्ट कर सकते हैं या [email protected] पर ईमेल करके शिकायत दर्ज करा सकते हैं। LIC की वेबसाइट पर जाकर ग्रीवांस रिड्रेसल ऑफिसर की जानकारी निकालकर वहां भी शिकायत कर सकते हैं।

Read More: 2025 तक सभी घरों में लगेंगे प्रीपेड स्मार्ट मीटर, शहरी क्षेत्रों में पहले मीटर लगाने पर जोर

फर्जी कॉल से ऐसे बचें

फर्जी कॉल का आने का शक होने पर ज्यादा बात न करें। ग्राहक अपनी कोई भी डिटेल कॉलर से साझा न करें। आप पॉलिसी सरेंडर के बारे में किसी को भी जानकारी न दें। आपको ज्यादा फायदा दिलाने की बात करें तो उसे कोई जानकारी न दें।

Read More: PPF: इस तरीके से निवेश करेंगे पैसा तो ब्याज का लाभ मिलेगा ज्यादा, वरना होगा नुकसान

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned