जेट एयरवेज को लेकर PNB ने NCLAT से करी मांग, उड़ान पर संकट गहराया

जेट एयरवेज के लिए समाधान योजना को रद्द करने की मांगी की है। पंजाब नेशनल बैंक ने कई आरोप लगाए।

By: Mohit Saxena

Published: 02 Sep 2021, 10:11 PM IST

नई दिल्ली। लंबे समय से बंद पड़ी एयरलाइन जेट एयरवेज की उड़ान पर संकट मंडरा रहा है। पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्राइब्यूनल (National Company Law Appellate Tribunal NCLAT) से जेट एयरवेज के लिए समाधान योजना को रद्द करने की मांगी की है। इसे लेकर पीएनबी की याचिका को स्वीकार कर लिया गया है। गौरतलब है समाधान योजना को लेकर पीएनबी से पहले जेट एयरवेज के केबिन क्रू और ग्राउंड स्टाफ कर्मियों के समूहों ने भी पाबंदी लगाने की मांग की थी।

पीएनबी का क्या है आरोप

पंजाब नेशनल बैंक का आरोप है कि समाधान योजना में भारी अनियमितता देखने को मिली है। पीएनबी का कहना है कि मनमाने तरीके से गिरवी रखे शेयर के दाम को घटा दिया गया ये पूरी तरह अवैध है। गौरतलब है कि इसी वर्ष जून माह में राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (National Company Law Tribunal NCLT) ने जेट एयरवेज के लिए जालान-कलरॉक गठजोड़ की दिवाला समाधान योजना को मंजूरी दी थी।

ये भी पढ़ें: Just Dial का नियंत्रण रिलायंस रिटेल वेंचर्स के हाथों में, करीब 41 फीसदी की हिस्सेदारी

जेट एयरवेज दो साल से दिवाला एवं ऋणशोधन अक्षमता संहिता (आईबीसी) के तहत समाधान प्रक्रिया से गुजर रहा था। बीते दो दशकों से अधिक समय से सेवा दे रही विमानन कंपनी ने अप्रैल 2019 में परिचालन को रोक दिया था।

जेट एयरवेज के ऋणदाताओं की समिति (सीओसी) ने अक्टूबर 2020 में ब्रिटेन स्थित कलरॉक कैपिटल और यूएई स्थित उद्यमी मुरारी लाल जालान के गठजोड़ द्वारा प्रस्तुत समाधान योजना को मंजूरी दी थी। इसी के बाद योजना को एनसीएलटी (NCLT) ने मंजूरी दी थी।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned