script Good news: अमर को कुछ दिखता नही, मजबूत हौंसले से हुए सशक्त, कर रहे दूसरों की मदद | Good news: International Day of Disabled Persons | Patrika News

Good news: अमर को कुछ दिखता नही, मजबूत हौंसले से हुए सशक्त, कर रहे दूसरों की मदद

locationछिंदवाड़ाPublished: Dec 04, 2023 12:31:41 pm

Submitted by:

ashish mishra

विश्व दिव्यांग दिवस पर विशेष

Good news: अमर को कुछ दिखता नही, मजबूत हौंसले से हुए सशक्त, कर रहे दूसरों की मदद
Good news: अमर को कुछ दिखता नही, मजबूत हौंसले से हुए सशक्त, कर रहे दूसरों की मदद
छिंदवाड़ा. कहते हैं कि जिनके हौंसले बड़े होते हैं वे विपरित परिस्थिति में भी हार नहीं मानते। ऐसे लोग शारीरिक और मानसिक कमियों को दरकिनार कर जीवन में आगे बढ़ते है और मन में कुछ कर गुजरने का हौंसला लेकर उभरते हैं। उनकी कमी उनकी पहचान नहीं बल्कि उनका संघर्ष लोगों की प्रेरणा बन जाती है। सौंसर क्षेत्र के कोपरावाड़ी कला निवासी 100 प्रतिशत दृष्टिबाधित दिव्यांग 30 वर्षीय युवा अमर वाडोदे की कहानी भी कुछ ऐसी ही है। हर साल 3 दिसंबर को विश्व विकलांग दिवस मनाया जाता है। इस दिवस के मौके पर हम अमर के संघर्षों से आपको रूबरू करा रहे हैं। गरीब किसान सूर्यभान वाडोदे के पुत्र अमर को बचपन से ही कम दिखाई देता था। उम्र बढऩे के साथ उनकी दृष्टि कम होते गई। अब उन्हें कुछ दिखाई नहीं देता। परिजन काफी चिंतित थे। हालांकि अमर वाडोदे के हौंसले बुलंद थे और वे लगातार कुछ कर गुजरने के लिए आतुर थे। इसी दौरान अमर को ग्रामीण आदिवासी समाज विकास संस्थान की जानकारी हुई। संस्था ने मदद के लिए हाथ बढ़ाया और फिर अमर वाडोदे आगे बढ़ते गए।

मजदूरी के लिए भेजना चाहते थे परिजन
अमर के पिता मजदूरी करते थे। वर्ष 2007 में परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक न होने की वजह से वे अमर को आगे नहीं पढ़ाना चाहते थे। हालांकि अमर ने जीवन का महत्व समझा और संस्था की मदद से परिजनों को पढऩे के लिए मना लिया। इसके बाद अमर ने हायर सेकंडरी तक की पढ़ाई ग्राम के ही शासकीय शाला से पूर्ण की। इसके बाद स्नातक की शिक्षा क्षेत्र के निजी कॉलेज और स्नातकोत्तर की शिक्षा इग्नू से पूर्ण की। उसने प्रारंभिक शिक्षा में डिप्लोमा भी किया है। इसके बाद अमर विभिन्न प्रदेशों में गए और प्रशिक्षण प्राप्त कर अपनी क्षमता में वृद्धि करते रहे। उन्होंने सामाजिक संस्था के सहयोग से बैंगलोर में कम्प्यूटर और अंग्रेजी का प्रशिक्षण भी प्राप्त किया। इसके बाद वे अंग्रेजी को समझने और बोलने लगे। ग्राम के एक निजी प्राथमिक शाला में शिक्षक के तौर पर पढ़ाने लगे।
रेलवे के सदस्य भी हैं अमर
अमर ने मेहनत और लगन से कई क्षेत्रों में भी अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया। रेलवे सलाहकार समिति का सदस्य के रूप में भी वो जिले में रेल सुविधाओं के विस्तार और दिव्यांगजनों को रेल यात्रा में बेहतर सुविधा मिले इसके लिए समय-समय पर रेलवे के उच्च अधिकारियों को सुझाव देते हैं। अमर ने बताया कि उसका जीवन बदलने में ग्रामीण आदिवासी समाज विकास संस्थान की अहम भूमिका है। संस्था के मार्गदर्शन और सहयोग से जीवन में आगे बढऩे की प्रेरणा मिली। जीवन को दिशा मिली। वर्तमान में अमर महाराष्ट्र के जलगांव की एक संस्था में कम्प्यूटर शिक्षक के रूप में दृष्टिबाधित दिव्यांग युवाओं को पढ़ा रहे हैं।

ट्रेंडिंग वीडियो