Higher education: इस प्रणाली को लागू करने का विरोध कर रही अभाविप, सौंपा ज्ञापन

शिक्षकों की कमी को लेकर कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा।

By: ashish mishra

Published: 19 Oct 2020, 12:30 PM IST


छिंदवाड़ा. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् द्वारा शनिवार को इंटीग्रेटेड यूनिवर्सिटी मैनेजमेंट सिस्टम(आईयूएमएस) के विरोध में एवं शासकीय आईटीआई में शिक्षकों की कमी को लेकर कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। नगर मंत्री समीर दुबे ने बताया कि सरकार द्वारा आईयूएमएस को बिना किसी सूचना के लागू करना गलत है और अगर प्रणाली लागू हुई तो सभी छात्रों का डेटा चोरी होने की संभावना बढ़ जाएगी। प्रदेश के सभी विश्वविद्यालय की अलग-अलग योग्यता और कार्य अधिकार है। आईयूएमएस लागू होने से केवल एक विश्वविद्यालय को शिक्षक भर्ती और अन्य सभी जिम्मेदारी देने से कार्यो की भी गति प्रभावित होगी। अभाविप ने आईयूएमएस प्रणाली को लागू न करने की मांग की। अभाविप ने ज्ञापन के माध्यम से शासकीय आईटीआई में शिक्षकों की कमी की वजह से विद्यार्थियों को हो रही समस्याओं के निवारण की भी मांग की। अभाविप नगर मंत्री का कहना था कि आईटीआई में स्टेनोग्राफर ट्रेड में विद्यार्थी हैं, लेकिन पढ़ाने के लिए शिक्षक नहीं हैं। जबकि परीक्षा नवंबर माह से प्रारंभ हो रही है। ज्ञापन सौंपने के दौरान काफी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद रहे। गौरतलब है कि आईयूएमएस के विरोध को लेकर प्रदेशभर में अभाविप ने धरना प्रदर्शन किया।

ashish mishra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned