महज पौधरोपण ही काफी, करनी होगी यह मशक्कत तभी बचेगा पर्यावरण

महज पौधरोपण ही काफी, करनी होगी यह मशक्कत तभी बचेगा पर्यावरण
Tree will grow from three years of care

Prabha Shankar Giri | Publish: Jul, 08 2019 09:00:00 AM (IST) Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

रविवार को हर पर्यावरण प्रेमी को रखना होगा ध्यान: वानिकी अनुसंधान पोआमा ने दी उचित सलाह

पौधे लगाने से पहले यह रखें ध्यान
1. पौधे की प्रजाति को देखकर पहले जमीन का चयन किया जाए। विशेषज्ञ की मदद ली जा सकती है।
2. जमीन चयन होने पर कम से कम डेढ़ फीट का गड्ढा किया जाए।
3.जमीन के तल से छूते हुए पौधे को लगाएं। इससे उसकी जड़ों को फैलने का अवसर मिले।
4. पौधे को लगाने से पहले गड्ढे के नीचे रेत भी डाली जा सकती है। इससे पौधे जल्द वृद्धि करेंगे।
5.पौधे तकनीक से लगाने के बाद भूल न जाएं। प्रतिदिन पानी और समय पर खाद दिया जाए।
6. तीन साल तक पौधे की देखभाल करें। खासकर ठंड और गर्मी में अनदेखी न करें।
7.एक बार पौधा तीन साल में पेड़ बन गया तो आपको हमेशा मन में संतुष्टि के भाव देगा।

इस साल 12.68 लाख प्लांटेशन तैयार... वानिकी अनुसंधान केन्द्र पोआमा में इस वर्ष 12.68 लाख पौधे तैयार किए गए हैं। इनमें प्रमुख रूप से सागौन, बांस, अशोक, करंज, मुनगा, अमरूद, शीशम, कटहल, आम, गुलमोहर, इमली, बहेड़ा, आंवला प्रजाति के प्रमुख हैं। वानिकी अधिकारी टीएफएल तिर्की ने बताया कि जून से अभी तक 7.32 लाख पौधों का वितरण किया जा चुका है। राज्य शासन द्वारा इस बार एक पौधे की कीमत 12 रुपए तय की गई है। इसकी बिक्री गांवों के बाजारों में की जा रही है। जल्द ही छिंदवाड़ा शहर में इसका स्टॉल लगाया जाएगा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned