script बेदर्दी से दी मौत, अब उम्र कटेगी सलाखों के पीछे | Brutally killed will now spend his life behind bars | Patrika News

बेदर्दी से दी मौत, अब उम्र कटेगी सलाखों के पीछे

locationचुरूPublished: Jan 05, 2024 11:59:15 am

Submitted by:

Devendra Sashtari

आपसी रंजिश के चलते धोखे से मोहल्ले में बुलाकर युवक का कत्ल करने का आरोपी अब ताउम्र सलाखों के पीछे रहेगा। गुरुवार को अपर जिला व सत्र न्यायालय ने फैसला सुनाते हुए शहर के रैगरों का मोहल्ले निवासी रमेश खटीक को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। अपर लोक अभियोजक अनीस खान ने बताया कि आरोपी ने वर्ष 2018 में 10 फरवरी को वार्ड 44 निवासी असलम पुत्र हाकम अली खां (18) की गोली मारकर हत्या कर दी थी।

aaropi_ramesh.jpg

चूरू. आपसी रंजिश के चलते धोखे से मोहल्ले में बुलाकर युवक का कत्ल करने का आरोपी अब ताउम्र सलाखों के पीछे रहेगा। गुरुवार को अपर जिला व सत्र न्यायालय ने फैसला सुनाते हुए शहर के रैगरों का मोहल्ले निवासी रमेश खटीक को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। अपर लोक अभियोजक अनीस खान ने बताया कि आरोपी ने वर्ष 2018 में 10 फरवरी को वार्ड 44 निवासी असलम पुत्र हाकम अली खां (18) की गोली मारकर हत्या कर दी थी। जिसका मामला मृतक के ताऊ इनायत खान ने कोतवाली थाने में 11 फरवरी 2018 को दर्ज करवाया था। पुलिस की ओर से न्यायालय में सोनू सुनार, देवकरण उर्फ देवला जाट, रमेश खटीक व अजय डिडवानिया के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया गया था। इसके बाद न्यायालय ने रमेश व देवकरण जाट को दोषी माना था। अभियोजन पक्ष की ओर से कुल 13 साक्ष्य न्यायालय में पेश किए गए। बाद में आरोपी देवकरण उर्फ देवला जाट को न्यायालय ने संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया।

आरोपी नहीं रहम का हकदार

अपर लोक अभियोजक अनीस खान ने बताया कि अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश अनीता टेलर ने अजमेर की हाई सिक्योरिटी घूघरा घाटी जेल में बंद हत्या के आरोपी रमेश खटीक को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। न्यायालय ने फैसले में लिखा है कि इस तरह दोस्त को धोखे से बुलाकर सरेआम गोली मारकर हत्या करने जैसे संगीन मामले को हल्के में नहीं लिया जा सकता। आरोपी रहम का हकदार नहीं है। ऐसे में कठोर से कठोर दंड दिया जाना न्यायोचित प्रतीत होता है।

आपसी रंजिश को लेकर की थी हत्या

असलम खान की सोनू सुनार, देवला जाट, रमेश खटीक व अजय डिडवानिया से कई दिनों से आपस में रजिंश चल रही थी। घटना के दिन 10 फरवरी 2018 को शाम 5 बजे आरोपी रमेश खटीक ने असलम व समीर को सुलह करने के लिए बुलाया था। इसके बाद दोनों बाइक से रैगर बस्ती गए थे। जहां पर आरोपी ने पिस्तौल से असलम के गोली मार दी। बाद में सभी मौके से फरार हो गए। इधर, असलम के कई देर तक घर नहीं लौटने को लेकर परिजनों को चिंता हुई। इसके बाद परिजन असलम को ढूंढते हुए रैगर बस्ती पहुंचते तो एक आटा चक्की के सामने असलम गंभीर घायलवस्था में मिला। उसे सरकारी अस्पताल ले गए। जहां पर चिकित्सकों ने असलम को मृत घोषित कर दिया।

ट्रेंडिंग वीडियो