script Rajasthan: आलू की इन बोरियों के नीचे छिपा रखी थी 15 लाख की शराब, 25 हजार में खरीदे आलू, ये गलती की और पकड़े गए | Illicit liquor worth 15 lakh rs seized from trucks in churu | Patrika News

Rajasthan: आलू की इन बोरियों के नीचे छिपा रखी थी 15 लाख की शराब, 25 हजार में खरीदे आलू, ये गलती की और पकड़े गए

locationचुरूPublished: Feb 10, 2024 05:36:40 pm

Submitted by:

santosh Trivedi

राजस्थान में नाकाबंदी के दौरान मिनी ट्रक में आलू की बोरियों के नीचे भरी करीब 15 लाख रुपए की शराब जब्त की है। शराब पंजाब से गुजरात ले जाई जा रही थी।

illicit_liquor.jpg

Churu News: पुलिस ने साहवा-तारानगर रोड पर नाकाबंदी के दौरान मिनी ट्रक में आलू की बोरियों के नीचे भरी करीब 15 लाख रुपए की शराब जब्त की है। शराब पंजाब के सुनाम कस्बे से जोधपुर के रास्ते गुजरात ले जाई जा रही थी। पुलिस ने ट्रक में भरे 160 कार्टन शराब व ट्रक को जब्त कर ट्रक चालक को गिरफ्तार कर लिया है।

थानाधिकारी रामकरण सिद्धू ने बताया कि साहवा-तारानगर स्टेट हाइवे पर भाड़ंग सड़क तिराहे के पास सुबह करीब 6 बजे साहवा कस्बे की तरफ से आए गुजरात नम्बर के मिनी ट्रक को रूकवाकर चालक से पूछताछ की तो उसने अपना नाम उदाराम बिश्नोई बताया। पुलिस की पूछताछ के दौरान वह घबरा गया।

ट्रक में भरे सामान के बारे में पूछा गया तो उसने आलू की बोरियों के नीचे अंग्रेजी शराब भरा होना बताया। जिस पर ट्रक की तलाशी ली गई तो उसमें 50 किंवटल आलू की 100 बोरियों के नीचे छुपा कर रखी पंजाब निर्मित विभिन्न ब्रॉण्ड की अंग्रेजी शराब के 160 कार्टन मिले। ऐसे में ट्रक चालक उदाराम बिश्नोई पुत्र रामजीराम निवासी कोटड़ा पुलिस थाना सांकड़ जिला सांचोर को गिरफ्तार किया गया।

तस्कर तक पहुंचना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती

इस मामले में भी तस्कर तक पहुंचना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बन गया है। ट्रक चालक उदाराम बिश्नोई ने पुलिस को बताया कि उसने गुरूवार को सांचोर लाने के लिए पंजाब के शब्जी व्यापारी के मार्फत सूनाम कस्बे के पास एक खेत से किसान से 25 हजार रुपयों में 50 किंवटल आलू खरीदे थे।

आलू भरवाने के लिए वहां एक होटल पर गया तो वहां उसे भाजी नाम का आदमी मिला। उसने कहा कि आलू के साथ जोधपुर के लिए शराब भरवा देता हूं। किराया जोधपुर में सामान उतारने के बाद मिलेगा। वह लालच में शराब लाने के लिए तैयार हो गया। उदाराम पहले चन्नई में एक कम्पनी का ट्रक चलाता था। चार साल से गांव आ गया और पिछले दिनों ही फाईनेश पर पुराना मिनी ट्रक खरीदा था।

ट्रेंडिंग वीडियो