Sourav Ganguly जा सकते हैं BJP में, लौटाई स्कूल निर्माण के लिए Mamta Government से मिली जमीन

Sourav Ganguly ने जिस तरह से Mamta Government से मिली जमीन लौटाई है, वह इस बात के संकेत हो सकते हैं कि Assembly Election से पहले वह भाजपा ज्वाइन कर लें।

By: Mazkoor

Updated: 23 Aug 2020, 10:30 PM IST

कोलकाता : टीम इंडिया (Team India) के पूर्व कप्तान और बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली (BCCI President Sourav Ganguly) के एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल होने की अटकलें लगने लगी हैं। अगले साल पश्चिम बंगाल में चुनाव होने हैं और इससे पहले बाएं हाथ के बल्लेबाज ने ममता सरकार (Mamta Government) से स्कूल निर्माण के लिए मिली जमीन वापस कर दी है। गांगुली के इस कदम से एक बार फिर उनके भाजपा में जाने की अफवाहों को हवा मिली है। गांगुली के भारतीय जनता पार्टी में जाने की संभावना काफी दिन से जताई जा रही है। हालांकि गांगुली इससे इनकार करते आए हैं।

भाजपा को चाहिए बंगाल में चेहरा

पश्चिम बंगाल में अगले साल ही विधानसभा चुनाव होना है और पिछले कुछ सालों में बंगाल में भाजपा मजबूत होकर उभरी है, लेकिन उसके पास मुख्यमंत्री पद के लिए कोई कद्दावर चेहरा इस राज्य में नहीं है। इसलिए भाजपा लंबे समय से गांगुली को राजनीति में लाने की कोशिशें कर रही है, लेकिन हर बार इस तरह की किसी भी संभावना से इनकार कर देते हैं। लेकिन हाल ही में राज्य सचिवालय जाकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मिलकर गांगुली ने स्कूल निर्माण के लिए न्यूटाउन में उन्हें आवंटित की गई दो एकड़ जमीन लौटा दी है। इसके बाद से उनके भाजपा में जाने की अटकलों ने फिर जोर पकड़ लिया है।

Zak Crawley और Jos Butler ने पांचवें विकेट के लिए की 359 रन की साझेदारी, इस लिस्ट में लिखाया नाम

वाममोर्चा सरकार ने भी गांगुली को दी थी जमीन

सबसे पहले सौरव गांगुली को वाम मोर्चा सरकार (Left Alliance Government) में स्कूल निर्माण के लिए साल्टलेक में जमीन आवंटित की गई थी, लेकिन वह जमीन कानूनी पचड़े में पड़ गई। इसके बाद ममता की तृणमूल सरकार (Trinmool Government) की वेस्ट बंगाल हाउसिंग इंफ्रास्ट्रक्चर डवलपमेंट कॉरपोरेशन (BHIDC) ने उन्हें आईसीएससी (ICSE) बोर्ड वाले 12वीं कक्षा तक के स्कूल निर्माण के लिए जमीन प्रदान की थी। मगर अब गांगुली ने इसे भी लौटा दिया है।

गांगुली के ममता से हैं बेहतर संबंध

मिली जानकारी के मुताबिक गांगुली एजुकेशनल एंड वेलफेयर सोसाइटी की ओर से जमीन वापस करने का पत्र राज्य सरकार को भेज दिया गया है। इस संस्था के अध्यक्ष दादा हैं। राज्य सरकार ने इसे स्वीकार कर फाइल वित्त विभाग को भेज दी है। बता दें कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और सौरव गांगुली के बीच बहुत अच्छे संबंध हैं और दादा को क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल (CAB) का अध्यक्ष बनाने में ममता बनर्जी की भूमिका अहम रही थी।

इसलिए दुनिया फैन है Mahendra Singh Dhoni की, दिया एक विनम्रता का एक और उदाहरण

अमित शाह के करीब आए हैं गांगुली

राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि बीसीसीआई अध्यक्ष बनने के बाद सौरव गांगुली भाजपा के दिग्गज नेता और गृहमंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) के करीब आए हैं। अमित शाह ने अपने बेटे जय शाह (Jay Shah) को बीसीसीआई का सचिव और गांगुली को अध्यक्ष बनाने में अहम भूमिका निभाई थी। ऐसे में राजनीतिक विश्लेषकों को लग रहा है कि गांगुली ने जिस तरह से राज्य विधानसभा चुनाव से एक साल पहले ममता सरकार से मिली जमीन लौटाई है, वह इस बात के संकेत हो सकते हैं कि अगले साल बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले गांगुली भाजपा ज्वाइन कर लें।

BJP
Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned