World Cup 2011 : मैच फिक्सिंग के आरोप में Aravinda De Silva के बाद Kumar Sangakkara से हुई पूछताछ

श्रीलंका के पूर्व खेलमंत्री ने आरोप लगाया है कि 2011 में भारत-श्रीलंका के बीच खेला गया 2011 का World Cup फाइनल मैच फिक्स था।

By: Mazkoor

Updated: 03 Jul 2020, 03:31 PM IST

कोलंबो : महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) के नेतृत्व में भारत ने दूसरी बार 2011 में एकदिवसीय विश्व (ICC ODI World Cup) कप जीता था। टीम इंडिया ने फाइनल में श्रीलंका के का मात देकर खिताब पर कब्जा जमाया था। इस ऐतिहासिक जीत के नौ साल बाद श्रीलंका के तत्कालीन खेल मंत्री महेंदानंद अल्थगामगे (Mahendanand Althugamge) ने 2011 विश्व कप के फाइनल मैच को लेकर सनसनीखेज आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि श्रीलंका ने भारत के हाथों विश्व कप बेच दिया था। उनके इस आरोप के बाद श्रीलंकाई सरकार हरकत में आई है खेल मंत्रालय इन आरोपों की जांच करा रहा है। इस सिलसिले में तत्कालीन मुख्य चयनकर्ता अरविंदा डी सिल्वा (Aravinda De Silva) के बाद अब विश्व कप 2011 में श्रीलंका के कप्तान रहे कुमार संगकारा (Kumar Sangakkara) से भी पूछताछ की गई है।

10 घंटे तक चली पूछताछ

श्रीलंकाई टीम के पूर्व कप्तान कुमार संगकारा से खेल मंत्रालय में स्पेशल इंवेस्टिगेशन यूनिट ने 10 घंटे तक पूछताछ की। हालांकि संगकारा से क्या बात हुई, इंस्वेस्टिगेशन टीम ने इसका व्योरा नहीं दिया है। एक श्रीलंका वेबसाइट के मुताबिक, संगकारा अगले सप्ताह बयान दर्ज कराने वाले थे, लेकिन पुलिस ने उनसे अपना जल्द बयान देने का अनुरोध किया था। वहीं दूसरी ओर एक युवा संगठन के सदस्य पोस्टर-बैनर के साथ श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड (Sri Lanka Cricket Board) के कार्यालय के बाहर इकट्ठा हुए। उन्होंने अधिकारियों पर आरोप लगाया कि वे दिग्गज क्रिकेटरों को परेशान कर रहे हैं।

Aakash Chopra बोले, भारत पाक खिलाड़ियों में है गहरी दोस्ती, Shoaib Akhtar के साथ है अच्छा तालमेल

खेल मंत्रालय ने दिया है जांच का आदेश

पूर्व खेलमंत्री महिंदा अल्थगामगे के आरोप के बाद श्रीलंका खेल मंत्रालय ने 2011 विश्व कप फाइनल के फिक्स होने के मामले में जांच का आदेश दिया है और श्रीलंका पुलिस को हर दो हफ्ते पर अपडेट देने को कहा है। अल्थगामगे ने एक बयान में कहा था कि एक देश के तौर पर वह यह नहीं बताना चाहते थे। उन्हें ठीक से याद नहीं कि वह 2011 था या 2012, लेकिन हमें वह मैच जीतना था। हालांकि अल्थगामगे ने खिलाड़ियों पर आरोप नहीं लगाया था। उनका इशारा मैदान के बाहर के लोगों की तरफ था।

अर्जुन राणातुंगा ने भी की है जांच की मांग

अल्थगामगे से पहले 1996 विश्व कप विजेता श्रीलंका क्रिकेट टीम के कप्तान रहे अर्जुन राणातुंगा (Arjun Ranatunga) ने भी 2011 विश्व कप फाइनल मैच की मैच फिक्सिंग के पहलू से जांच की मांग की थी। बता दें कि पूर्व खेल मंत्री महिन्दानंद अल्थगामगे और उस वक्त श्रीलंका के राष्ट्रपति रहे महेंदा राजपक्षे को फाइनल मैच के लिए मुंबई बुलाया भी गया था।

18 जुलाई को AB De viliers करेंगे मैदान पर वापसी, क्रिकेट से ले लिया था संन्यास

संगकारा और जयवर्धने अल्थगामगे से मांग चुके हैं सबूत

श्रीलंका के पूर्व खेल मंत्री के मैच फिक्सिंग (Match Fixing in Cricket) के आरोपों को श्रीलंका के पूर्व कप्तान महेला जयवर्धने (Mahela Jaywardene) और विश्व कप 2011 में कप्तान रहे कुमार संगकारा ने बेतुका बताते हुए उनसे सबूत की मांग की है। कुछ दिन पहले कुमार संगकारा ने सोशल मीडिया पर लिखा था कि पूर्व खेल मंत्री को आईसीसी (ICC) को सबूत उपलब्ध कराना चाहिए, ताकि एंटी करप्शन यूनिट (Anti Corruption Unit) सही तरीके से जांच कर सके तो वहीं महेला जयवर्धने ने पूछा था कि क्या चुनाव आने वाले हैं? सर्कस शुरू हो रहा है? नाम और सबूत कहां हैं?

श्रीलंका को हरा भारत ने जीता था दूसरी बार विश्व कप

बता दें कि जिस मैच फिक्सिंग की बात हो रही है, वह 2011 एकदिवसीय क्रिकेट विश्व कप का फाइनल मैच था। यह मैच मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेला गया था। इस खिताबी मुकाबले में भारत ने श्रीलंका को 6 विकेट से मात दी थी। श्रीलंकाई कप्तान कुमार संगकारा ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी की थी और महेला जयवर्धने की शानदार शतकीय पारी की बदौलत 276 रनों का चुनौतीपूर्ण स्कोर भारत के सामने रखा था। इसे टीम इंडिया ने गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) के 97 और कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) के नाबाद 91 रनों की बदौलत आसानी से हासिल कर लिया था। इस तरह भारत 1983 के बाद दूसरी बार एकदिवसीय विश्व चैम्पियन बना था। 1983 में पहली बार कपिल देव के नेतृत्व में भारत पहली बार विश्व चैम्पियन बना था।

Show More
Mazkoor Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned