scriptDeoria history sheeter working in uo police department for 19 years | वर्दी में खड़े इस हिस्ट्रीशीटर पर दर्ज हैं कई गंभीर मुकदमे, 19 साल तक बना रहा पुलिस का हमराह, पोल खुलते ही मचा हड़कंप | Patrika News

वर्दी में खड़े इस हिस्ट्रीशीटर पर दर्ज हैं कई गंभीर मुकदमे, 19 साल तक बना रहा पुलिस का हमराह, पोल खुलते ही मचा हड़कंप

locationदेवरियाPublished: Dec 13, 2023 11:46:33 am

Submitted by:

Vishnu Bajpai

UP Police: यूपी के देवरिया जिले में एक हिस्ट्रीशीटर 19 साल से पुलिस विभाग में नौकरी कर रहा था। एक सरकारी आदेश के अनुपालन के दौरान इसका खुलासा हुआ तो पुलिस अधिकारी भी सन्न रह गए। आइए विस्तार से बताते हैं पूरा मामला...

deoria_history_sheeter.jpg
Deoria History Sheeter Policeman: उत्तर प्रदेश पुलिस विभाग में साल 2004 से देवरिया जिले का एक बड़ा हिस्ट्रीशीटर नौकरी करते पाया गया। 19 साल के कार्यकाल के दौरान पुलिस अधिकारियों को इसकी भनक तक नहीं लगी। हाल में ही आए एक सरकारी आदेश के अनुपालन के दौरान इसका खुलासा हुआ तो पुलिस अधिकारी सन्न रह गए। फिलहाल उसे ड्यूटी से हटा दिया गया है। साथ ही अब पुलिस ये पता लगाने में जुटी है कि इतने लंबे समय तक विभाग में हिस्ट्रीशीटर कैसे काम करता रहा। साथ ही पुलिस विभाग के अधिकारियों को कैसे गुमराह किया? SP देवरिया ने सलेमपुर के सीओ को मामले की जांच कर जल्द से जल्द विस्तृत रिपोर्ट देने को कहा है।
इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार साल 2004 में देवरिया के बरहज थाना क्षेत्र के करजहा गांव के रहने वाले कमलेश यादव पुलिस महकमे से जुड़े थे। होमगार्ड कमलेश यादव को छह महीने पहले ही देवरिया पुलिस ने डायल 112 यानी पुलिस आपातकालीन हेल्पलाइन सेवा में वाहन चालक बनाया था। इसी बीच सरकारी आदेश के अनुपालन में देवरिया के सभी पुलिस स्टेशनों में जिले के सभी हिस्ट्रीशीटरों के फिजिकल वेरिफिकेश का अभियान चलाया गया। इस दौरान सभी थानों के पुलिसकर्मी इन हिस्ट्रीशीटरों के ठिकानों का पता लगाने लगी। इसी में एक पता होमगार्ड कमलेश यादव का भी निकलकर सामने आया। पुलिस कमलेश यादव के घर पहुंची तो उसका बैकग्राउंड जानकर सन्न रह गई।

देवरिया एसपी ने बताई आगे की रणनीति


पुलिस विभाग में 19 साल से नौकरी कर रहे हिस्ट्रीशीटर की पोल खुलने के बाद देवरिया एसपी संकल्प शर्मा ने जांच बैठा दी है। उन्होंने बताया कि यह पता लगाया जाएगा कि कैसे कमलेश यादव पुलिस अधिकारियों को गुमराह करने में कामयाब रहे। एसपी संकल्प शर्मा ने अंग्रेजी वेबसाइट इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि मामला सामने आते ही होमगार्ड कमलेश यादव को ड्यूटी से हटा दिया गया है। साथ ही मामले में कार्रवाई के लिए देवरिया होमगार्ड कमांडेंट को पत्र भी लिखा गया है। जांच में ये पता लगाया जाएगा कि कमलेश के दस्तावेजों की कभी जांच क्यों नहीं की गई? साथ ही ज्वाइनिंग के दौरान विभाग को उन्होंने कौन से दस्तावेज उपलब्ध कराए थे।

हिस्ट्रीशीटर कमलेश यादव पर दर्ज हैं कई संगीन मामले


देवरिया के बरहज थाना प्रभारी जितेंद्र सिंह ने बताया कि पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार हिस्ट्रीशीटर कमलेश के खिलाफ पांच आपराधिक मामले दर्ज थे। इनमें 2005 में हत्या के प्रयास का मुकदमा बरहज थाने में दर्ज किया गया था। बाकी भलुवानी थाने में गैंगस्टर एक्ट और अपहरण सहित विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किए गए थे। SHO जितेंद्र सिंह ने बताया कि इनमें से दो मामलों में कमलेश यादव को कोर्ट से क्लीन चिट मिल चुकी है, लेकिन गैंगस्टर एक्ट का मामला अभी कोर्ट में विचाराधीन है। कोर्ट में कमलेश के खिलाफ जो भी मामले विचाराधीन हैं। उनमें कमलेश को जमानत मिली हुई है। कमलेश 2004 में बतौर होमगार्ड विभाग में भर्ती हुए थे। उनके खिलाफ साल 2005 में मुकदमे दर्ज किए गए। जबकि साल 2006 में कमलेश की हिस्ट्रीशीट खोली गई थी।

ट्रेंडिंग वीडियो