scriptMetro ran till Dewas, got relief from bumps in buses | देवास तक दौड़े मेट्रो, बसों के धक्कों से मिले निजात | Patrika News

देवास तक दौड़े मेट्रो, बसों के धक्कों से मिले निजात

locationदेवासPublished: Dec 26, 2023 11:36:06 pm

Submitted by:

rishi jaiswal

इंदौर मेट्रोे को देवास तक विस्तारित करने की लंबे समय से उठ रही मांग, जनप्रतिनिधियों ने भी शुरू किए प्रयास

 

देवास तक दौड़े मेट्रो, बसों के धक्कों से मिले निजात
देवास तक दौड़े मेट्रो, बसों के धक्कों से मिले निजात
देवास. इंदौर में मेट्रो ट्रेन का कार्य तेजी से चल रहा है। इसका ट्रायल भी हो चुका है। वहीं पिछले दिनों रेलमंत्री ने उज्जैन तक मेट्रो चलाने को लेकर सहमति दी है। इसके साथ ही अब देवास में तक भी मेट्रो ट्रेन चलाने की मांग तेजी से उठ रही है। सोशल मीडिया पर भी लोग आए दिन इसे लेकर चर्चा कर रहे हैं। वहीं जनप्रतिनिधियों ने भी इस दिशा में प्रयास शुरू कर दिए हैं। जल्द इस संबंध में विधायक द्वारा मुख्यमंत्री से मिलकर मांग रखी जाएगी।
अभी बसों से करते हैं सफर

उल्लेखनीय है कि देवास से प्रतिदिन हजारों विद्यार्थी, नौकरीपेशा लोग इंदौर आना-जाना करते हैं। ऐसे में 70 प्रतिशत लोग बसों से सफर करते हैं। वहीं बाकी या तो निजी वाहनों या चुनिंदा ट्रेनों से इंदौर पहुंचते हैं। ऐसे में उन्हें ज्यादा किराया भी देना होता है। देवास में तो उन्हें बस स्टैंड से आसानी से घर पहुंचने के साधन मिल जाते हैं लेकिन इंदौर में उन्हें ऑटो या आई बस में सवार होकर ऑफिस पहुंचना पड़ता है। ऐसे में उनका पैसा और समय अधिक खर्च होता है। वहीं सुबह के समय एकमात्र इंदौर-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन है। इसके बाद ज्यादातर अन्य ट्रेनें लोकल नहीं है। ऐसे में उनके लोकल कोच में जगह नहीं रहती है।
बसों में सफर के दौरान आती है परेशान

उल्लेखनीय है कि देवास से इंदौर के बीच अनुबंधित, उपनगरीय व नगर निगम की सूत्र सेवा बसों का संचालन होता है। इन बसों की हालत ऐसी रहती है कि बस स्टैंड से ही सीट मिल पाती है। इसके बाद बस स्टैंड से रसूलपुर तक की सवारियों को इंदौर तक सफर खड़े-खड़े ही करना होता है। यही हालत आते समय भी होती है। ऐसे में प्रतिदिन हजारों लोग बस में खड़े होकर ही सफर करते हैं।
तेज रफ्तार बसें होती है हादसों का शिकार

उधर इंदौर रोड पर बसों से सफर करना भी खतरे से खाली नहीं हैं। इस रूट की बसों को कम अंतराल में परमिट जारी किए गए हैं। ऐसे में उन्हें समय पर पहुंचकर वापस नंबर लगाना होता है। वहीं नगर निगम की सूत्र सेवा भी चलती है। इस कारण बसों में सवारी बिठाने व समय पर पहुंचने के चक्कर में जमकर रेस लगती है। अंधगति से बसें हाइवे पर दौड़ती है। ऐसे में कई बार हादसे भी होते हैं।
देवास तक हो विस्तार

नौकरीपेशा युवा सुजीत मालवीया व गौरव परांजपे ने बताया इंदौर के लिए प्रतिदिन हजारों लोग बसों में सफर करने में मजबूर है। प्रतिदिन बसों में जगह नहीं मिल पाती है। ऐसे में इंदौर मेट्रो का देवास तक विस्तार किया जाना चाहिए। इससे यात्रियों का सफर भी आसान होगा और समय पर वे गंतव्य तक पहुंच सकेंगे। अभी देवास से इंदौर जाने वाले नौकरी पेशा व विद्यार्थियों को रेडिसन चौराहा या रिंग रोड से साधन पकड़कर जाना पड़ता है। ऐसे में उनका समय व धन अधिक खर्च होता है। वहीं सुबह के समय इंदौर जाने के लिए ज्यादा लोकल ट्रेनों की संख्या भी कम है। ऐसे में मेट्रो ट्रेन का विस्तार आज की सबसे बड़ी जरूरत है।
फैक्ट

-35 किमी है देवास से इंदौर की दूरी

-80 से ज्यादा बसें संचालित होती है देवास-इंदौर के बीच-5000 से ज्यादा यात्री करते हैं सफर

-1 पैसेंजर ट्रेन ही है सुबह के समय
मेट्रो ट्रेन प्रोजेक्ट हमारी प्राथमिकता में शामिल है। इसके लिए शीघ्र मुख्यमंत्री से मुलाकात कर मांग की जाएगी।-गायत्रीराजे पवार, विधायक, देवास

ट्रेंडिंग वीडियो