आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने अपने अधिकारों के लिए फिर बुलंद की आवाज

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने अपने अधिकारों के लिए फिर बुलंद की आवाज

Deepak Sahu | Publish: Mar, 14 2018 12:28:00 PM (IST) Dhamtari, Chhattisgarh, India

छत्तीसगढ़ जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका कल्याण संघ अपने जायज मांगों को लेकर एक बार फिर आंदोलन शुरू कर दिया है।

धमतरी. छत्तीसगढ़ जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका कल्याण संघ अपने जायज मांगों को लेकर एक बार फिर आंदोलन शुरू कर दिया है। मंगलवार को गांधी चौक मैदान में अपने अधिकारों के लिए उन्होंने आवाज बुलंद की। उधर सहायिकाओं के हड़ताल में चले जाने से जिले के आंगनबाड़ी केन्द्रोंं में ताला लटकता रहा। नौनिहाल आंगनबाड़ी तो आए, लेकिन उन्हें मायूस होकर लौटना पड़ा।

उल्लेखनीय है कि जिले के करीब 22 सौ आंगनबाड़ी, कार्यकर्ता और सहायिकाएं प्रतिमाह 17 हजार रूपए वेतनमान तथा रिटायर्ड होने पर गुजर बसर के लिए कार्यकर्ताओं को 3 लाख एवं सहायिकाओं को 2 लाख रूपए गुजारा भत्ता देने समेत 6 सूत्रीय मांगों को लेकर पिछले 5 मार्च से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चली गई है।

बताया गया है कि पिछले दिनों प्रांतीय आह्वान पर राजधानी रायपुर में अपनी मांगों को लेकर हजारों कार्यकर्ताओंं ने सरकार की नीतियों के खिलाफ जमकर विरोध किया। आंदोलन के 9 वें दिन प्रदेश के प्रत्येक जिले मेंं अनिश्चितकालीन आंदोलन किया गया। इस आंदोलन को छत्तीसगढ़ तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ समर्थन प्राप्त है। हड़ताल मेंं अनामिका देवांगन, वेदवती सिन्हा, गीता साहू, उमेश्वरी कुंजाम, टिकेश्वरी देवांगन, पूनम सिन्हा, परमेश्वरी कोर्राम समेत महिलाएं बड़ी संख्या में उपस्थित थीं।

किया जा रहा भेदभाव
संघ के जिलाध्यक्ष राजेन्द्र चंद्राकर का कहना है कि राज्य शासन सहायिकाओं के साथ भेदभाव कर रही है। दिनभर काम करने के बाद भी उन्हें सम्मानजनक वेतन नहीं दिया जा रहा है। ऐसे में उन्हें काम करने में परेशानी हो रही है।

लटका रहा ताला
उधर जिले भर के आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओंं के हड़ताल में चले जाने से शहर के आंगनबाड़ी केन्द्रों मेंं ताला लटका रहा। नौनिहाल के परिजन अपने बच्चोंं को लेकर आंगनबाड़ी केन्द्र तो पहुंचे, लेकिन उन्हें उल्टे पांव लौटना पड़ा।


क्या कहते हैं कार्यकर्ता

जिलाध्यक्ष रेवती वत्सल ने कहा कि प्रदेश शासन आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं का शोषण कर रहा है, जिसका पूरजोर विरोध किया जा रहा है। जब तक हमारी मांगों को पूरा नहीं किया जाता है।
ब्लाक अध्यक्ष तृप्ती सेल्लार ने बताया कि अपने अधिकारों के प्रति संगठन के लोग एकजुट हैं। राज्य सरकार अब तक झूठे वादे करती आई है। मांगोंं को पूरा करने के बाद ही इस आंदोलन पर विराम लगेगा।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned