scriptChaitra navratri 2022 day 6th is of goddess Katyayani | Chaitra Navratra 2022 : Day 6- देवगुरु बृहस्पति को नियंत्रित करने वाली युद्ध की देवी माता कात्यायनी नष्ट करती हैं रोग, शोक, संताप और भय | Patrika News

Chaitra Navratra 2022 : Day 6- देवगुरु बृहस्पति को नियंत्रित करने वाली युद्ध की देवी माता कात्यायनी नष्ट करती हैं रोग, शोक, संताप और भय

6th Day of Chaitra navratri 2022 : इस बार बन रहा है विशेष योग
: विवाह का भी देती हैं वरदान
: देवी मां की पूजा विधि, स्वरूप और कथा
: कात्यायनी माता के यहां प्रकट होने का प्रमाण स्कंद पुराण में भी मौजूद हैं

भोपाल

Updated: April 05, 2022 03:11:27 pm

6th Day of Chaitra navratri 2022 : हिंदू कैलेंडर के चैत्र नवरात्रों की शुरुआत साल 2022 में 2 अप्रैल से हो चुकी है। वहीं इस बार इन नवरात्रों में न तो किसी तिथि का ह्रास है और न ही वृद्धि हुई है। ऐसे में इस बार गुरुवार, 07 अप्रैल 2022 को चैत्र शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि यानि नवरात्र का छठा दिन रहेगा। इस दिन देवी मां कात्यायनी के पूजन का विधान है।
06 Day of chaitra Navratra 2022
06 Day of chaitra Navratra 2022
मान्यता के अनुसार देवी दुर्गा ने ही महिषासुर नामक राक्षस को मारने के लिए मां कात्यायनी के रूप में अपने छठें स्वरूप को धारण किया था। मां कात्यायनी को युद्ध की देवी भी कहा जाता है, क्योंकि माता का यह रूप काफ़ी हिंसक माना गया है।
बृहस्पति ग्रह को नियंत्रित करती हैं देवी कात्यायनी
ज्योतिषीय मान्यताओं के अनुसार देवी कात्यायनी बृहस्पति ग्रह को नियंत्रित करती हैं। देवी की पूजा से बृहस्पति के बुरे प्रभाव कम होते हैं।

 chaitra Navratra 2022-day 06

6th Day : Devi Maa Katyayani- नवरात्र में देवी का छठा (षष्ठी‌)रूप मां कात्यायनी के आशीर्वाद-
नवदुर्गा के नौ रूपों में से एक छठे कात्यायनी Goddess katyayni स्वरूप का यजुर्वेद के तैत्तिरीय आरण्यक में उल्लेख प्रथम किया गया है। वहीं स्कंद पुराण में उल्लेख है कि वे परमेश्वर के नैसर्गिक क्रोध से उत्पन्न हुई थी, जिन्होंने देवी पार्वती द्वारा दिए गए सिंह पर आरूढ़ होकर महिषासुर का वध किया।

माना जाता है कि एक ओर जहां देवी कात्यायनी रोग, शोक, संताप और भय का नाश करती हैं। जिनका विवाह नहीं हो रहा या फिर वैवाहिक जीवन में कुछ परेशानी हैं, तो उन्हें शक्ति के इस स्वरूप की पूजा अवश्य करनी चाहिए।

विशेषकर जिन कन्याओं के विवाह मे विलम्ब हो रहा हो, उन्हें इस दिन मां कात्यायनी की उपासना अवश्य करनी चाहिए, जिससे उन्हें मनोवान्छित वर की प्राप्ति होती है।

ये है विवाह के लिए कात्यायनी मंत्र-
'ऊॅं कात्यायनी महामाये महायोगिन्यधीश्वरि ! नंदगोपसुतम् देवि पतिम् मे कुरुते नम:।'

माना जाता है कि देवी मां कात्ययानी की उपासना से भक्तों को बड़ी आसानी से अर्थ, धर्म, काम और मोक्ष चारों फलों की प्राप्ति हो जाती है। वहीं इससे उनके रोग, शोक, संताप और भय भी नष्ट हो जाते हैं।

देवी माता कात्यायनी का स्वरूप
देवी माता कात्यायनी को नौ देवियों में मां दुर्गा का छठा अवतार हैं। माता का यह स्वरूप करुणामयी है। देवी पुराण में कहा गया है कि कात्यायन ऋषि के घर उनकी पुत्री के रूप में जन्म लेने के कारण इनका नाम कात्यायनी पड़ा।

माता कात्यायनी का शरीर सोने जैसा सुनहरा और चमकदार है। इनकी 4 भुजाएं हैं और यह सिंह की सवारी करती हैं। अपनी चार भुजाओं में से माता ने एक हाथ में तलवार और दूसरे में कमल का पुष्प धारण किया हुआ है, जबकि दाहिने दो हाथों से वरद और अभय मुद्रा धारण की हुईं हैं। देवी माता लाल वस्त्र में सुशोभित हैं।

कात्यायनी माता: पौराणिक मान्यताएं
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार देवी कात्यायनी ने कात्यायन ऋषि के घर जन्म लिया था, इसलिए उनका नाम कात्यायनी पड़ा। कई जगह यह भी संदर्भ मिलता है कि वे देवी शक्ति की अवतार हैं और कात्यायन ऋषि ने सबसे पहले उनकी उपासना की, इसलिए उनका नाम कात्यायनी पड़ा।

Day 6 of chaitra Navratra 2022

कहा जाता है कि पूरी दुनिया में जब महिषासुर नामक राक्षस ने अपना ताण्डव मचाया, तब देवी कात्यायनी ने उसका वध कर ब्रह्माण्ड को उसके आत्याचार से मुक्त कराया। देवी माता ने तलवार आदि अस्त्र-शस्त्रों से सुसज्जित होकर दानव महिषासुर में घोर युद्ध किया। उसके बाद देवी माता के पास आते ही महिषासुर ने भैंसे का रूप धारण कर लिया। इसके बाद देवी ने अपने तलवार से उसकी गर्दन धड़ से अलग कर दी। देवी को महिषासुर मर्दिनी महिषासुर का वध करने के कारण ही कहा जाता है।

मां की पूजा विधि : नवरात्र के छठे दिन सबसे पहले कलश व देवी कात्यायनी जी की पूजा कि जानी चाहिए। यहां पूजा की शुरूआत में हाथों में फूल लेकर देवी को प्रणाम करना चाहिए। फिर देवी के मंत्र का ध्यान करना चाहिए। अब देवी की पूजा के पश्चात महादेव और परम पिता की भी पूजा करें। वहीं श्री हरि की पूजा देवी लक्ष्मी के साथ ही करनी चाहिए।

मां का भोग : इस दिन प्रसाद में मधु यानी शहद का प्रयोग करना चाहिए।

मंत्र - चंद्र हासोज्ज वलकरा शार्दूलवर वाहना।
कात्यायनी शुभंदद्या देवी दानव घातिनि।।

MUST READ :
1. माता कात्यायनी यहां हुईं थी अवतरित, स्कंद पुराण में है प्रमाण

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहार सीएम की शपथ लेने के साथ अपने ही रिकॉर्ड तोड़ने से चूके Nitish Kumar, 24 अगस्त को साबित करेंगे बहुमतपीएम मोदी का कांग्रेस पर बड़ा हमला, कितना भी 'काला जादू' फैला लें कुछ होने वाला नहींMumbai: सिंगर सुनिधि चौहान के खिलाफ शिवसेना ने पुलिस में दर्ज कराई शिकायत, पाकिस्तान स्पॉन्सर कार्यक्रम का लगाया आरोपदेश के 49वें CJI होंगे यूयू ललित, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने नियुक्ति पर लगाई मुहरकश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की हत्या का बदला हुआ पूरा, सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिरायासुनील बंसल बने बंगाल बीजेपी के नए चीफ, कैलाश विजयवर्गीय की हुई छुट्टीसुप्रीम कोर्ट से नूपुर शर्मा को बड़ी राहत, सभी FIR को दिल्ली ट्रांसफर करने के निर्देशBihar Mahagathbandhan Govt: नीतीश कुमार ने 8वीं बार ली बिहार के CM पद की शपथ, तेजस्वी यादव बने डिप्टी सीएम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.